X

Fact Check: किर्गिस्तान और अर्मेनिया से जुड़ी घटना की तस्वीरें अमेरिका में हुई हालिया हिंसा के नाम से हो रहीं वायरल

  • By Vishvas News
  • Updated: January 11, 2021

नई दिल्ली (विश्वास न्यूज)।  अमेरिका के वॉशिंगटन में स्थित कैपिटल हिल यानी अमेरिकी संसद में हुई हालिया हिंसा के बाद इससे जुड़ी तस्वीरें सोशल मीडिया पर वायरल हैं। इस बीच सोशल मीडिया पर यूजर्स इस हालिया हिंसा के नाम पर ऐसी भी तस्वीरें शेयर कर रहे हैं, जिनका घटना से कोई लेना-देना नहीं है। ऐसी ही एक पोस्ट फेसबुक पर शेयर की गई है, जिसमें 8 तस्वीरों को शेयर कर उन्हें अमेरिका के वाइट हाउस की तस्वीरें बताया जा रहा है। विश्वास न्यूज की पड़ताल में पता चला है कि इनमें से शुरुआती दो तस्वीरें किर्गिस्तान और अर्मेनिया में हुई पुरानी घटनाओं की हैं। बाकी की 6 तस्वीरें भी अमेरिका के कैपिटल हिल में हुई हिंसा की हैं। इनका वाइट हाउस से कोई लेना-देना नहीं है। वाइट हाउस अमेरिकी राष्ट्रपति का निवास स्थान है जबकि वॉशिंगटन स्थित कैपिटल हिल अमेरिका के हाउस ऑफ रिप्रेजेंटेटिव और सीनेट भवनों का कॉम्प्लेक्स यहां है। कांग्रेस की लाइब्रेरी और अमेरिका कैपिटल भवन भी यहीं है।

क्या हो रहा है वायरल

Mohsin Alvi नाम के फेसबुक यूजर ने अपनी एक फेसबुक पोस्ट में 8 तस्वीरें पोस्ट की हैं। इन तस्वीरों को अमेरिका के व्हाइट हाउस की तस्वीरें बताया जा रहा है। इस पोस्ट के आर्काइव्ड वर्जन को यहां क्लिक कर देखा जा सकता है।

विश्वास न्यूज को अपने फैक्ट चेकिंग वॉट्सऐप चैटबॉट (+91 95992 99372) पर भी इनमें से एक तस्वीर फैक्ट चेक के लिए मिली है। वॉट्सऐप पर यूजर ने हमसे पूछा है कि क्या ये तस्वीर अमेरिका में हुई हालिया हिंसा की है?

वॉट्सऐप चैटबॉट पर मिली तस्वीर।

पड़ताल

विश्वास न्यूज ने सबसे पहले वायरल पोस्ट में शेयर की गई तस्वीरों पर गूगल रिवर्स इमेज सर्च टूल का इस्तेमाल किया। पहली तस्वीर के लिए हमें इंटरनेट पर kyrgyz white house on fire कीवर्ड्स से ढेरों रिजल्ट मिले। हमें  6 अक्टूबर 2020 को स्पूतिनक न्यूज की वेबसाइट पर प्रकाशित एक रिपोर्ट मिली। इस रिपोर्ट में किर्गिस्तान के संसदीय चुनावों के प्रीलिमिनरी रिजल्ट के बाद हुए विरोध प्रदर्शनों की जानकारी दी गई है। इसमें वायरल तस्वीर को ही कवर पेज बनाया गया है और रिपोर्ट के मुताबिक, ये किर्गिस्तान वाइट हाउस में लगी आग की तस्वीर है। इस रिपोर्ट को यहां क्लिक कर देखा जा सकता है।

स्पूतनिक न्यूज की वेबसाइट पर प्रकाशित रिपोर्ट का स्क्रीनशॉट।

इसी तरह वायरल पोस्ट की दूसरी तस्वीर पर गूगल रिवर्स इमेज सर्च का इस्तेमाल करने पर protestsors in armenian parliament कीवर्ड्स से हमें ढेरों परिणाम मिले। हमें सीजीटीएन डॉट कॉम पर 10 नवंबर 2020 को प्रकाशित एक रिपोर्ट मिली, जिसमें इस वायरल तस्वीर को अर्मेनिया की संसद का बताया गया है। रिपोर्ट के मुताबिक, विवादित नागोरनो-काराबाख इलाके को लेकर अर्मेनिया और अजरबैजान के रूस के साथ समझौते की सहमति की घोषणा के बाद अर्मेनियाई संसद और येरेवन में सरकार के हेडक्वॉर्टर्स पर प्रदर्शऩ हुए। यानी इस तस्वीर का भी अमेरिका के हालिया प्रदर्शन से कोई लेना-देना नहीं है। इस रिपोर्ट को यहां क्लिक कर देखा जा सकता है।

सीजीटीएन डॉट कॉम पर प्रकाशित रिपोर्ट का स्क्रीनशॉट।

हमें सीजीटीएन के आधिकारिक ट्विटर हैंडल पर 10 नवंबर 2020 का एक ट्वीट भी मिला। इसमें अर्मेनिया संसद में हुए प्रदर्शन का वीडियो पोस्ट किया गया है। वायरल तस्वीर इस वीडियो का ही एक हिस्सा है।

हमने वायरल पोस्ट की बाकी दूसरी तस्वीरों पर भी गूगल रिवर्स इमेज सर्च टूल का इस्तेमाल किया। हमें 7 जनवरी 2021 को द सन पर प्रकाशित एक रिपोर्ट मिली। यह रिपोर्ट अमेरिका के कैपिटल हिल में हुई हालिया हिंसा पर आधारित है। इस रिपोर्ट में हमें वायरल पोस्ट की तीसरी और चौथी तस्वीर मिली।

द सन पर प्रकाशित रिपोर्ट का स्क्रीनशॉट।

कैपिटल हिल हिंसा को ही लेकर द सन की 7 जनवरी 2021 को प्रकाशित इस रिपोर्ट में हमें वायरल पोस्ट की पांचवीं तस्वीर मिली।

द सन पर प्रकाशित रिपोर्ट का स्क्रीनशॉट।

इसी तरह हमें 6 जनवरी 2021 को सन की वेबसाइट पर प्रकाशित एक रिपोर्ट मिली। यह रिपोर्ट भी कैपिटल हिंसा पर ही आधारित है। इस रिपोर्ट में हमें वायरल पोस्ट की छठी तस्वीर मिली।

द सन पर प्रकाशित रिपोर्ट का स्क्रीनशॉट।

वायरल पोस्ट की सातवीं तस्वीर पर गूगल रिवर्स इमेज सर्च टूल का इस्तेमाल करने पर हम Thestreet.com पर 7 जनवरी 2021 को प्रकाशित एक रिपोर्ट पर पहुंचे। ये रिपोर्ट भी कैपिटल हिंसा पर आधारित है। इसमें @DailyCaller हैंडल का ट्वीट एंबेड है, जिसमें एक वीडियो पोस्ट किया गया है। इसमें घायल महिला को कैपिटल से बाहर निकालने की घटना को रिपोर्ट किया गया है। वायरल तस्वीर इसी घटना की है। इस पोस्ट की अंतिम और आठवीं तस्वीर भी हमें इस रिपोर्ट में ही मिली।

Thestreet.com पर प्रकाशित रिपोर्ट का स्क्रीनशॉट।

हमारी अबतक की पड़ताल से यह साबित हो चुका था कि इस पोस्ट की 8 तस्वीरों में से शुरुआती दो तस्वीरें न तो अमेरिका की हैं और न ही इसका संबंध कैपिटल हिंसा से है। वायरल पोस्ट में इन तस्वीरों को वाइट हाउस का बताया गया है, जबकि कैपिटल हिल और व्हाइट हाउस अलग हैं। न्यूज 18 की रिपोर्ट के मुताबिक, कैपिटस हिल अमेरिका के राष्ट्रपति भवन व्हाइट हाउस के पास है। अमेरिका के हाउस ऑफ रिप्रेजेंटेटिव और सीनेट भवनों का कॉम्प्लेक्स यहां है। कांग्रेस की लाइब्रेरी और अमेरिका कैपिटल भवन भी यहीं है। इस रिपोर्ट को यहां क्लिक कर देखा जा सकता है।

इस मामले में और स्पष्टता के लिए हमने काशी नरेश गवर्नमेंट पीजी कॉलेज में पॉलिटिकल साइंस के असिस्टेंट प्रोफेसर और अंतरराष्ट्रीय मामलों के जानकार डॉ. विकास चंद्रा से संपर्क किया। हमने उनके साथ भी ये वायरल तस्वीरें और जानकारियां शेयर कीं। उन्होंने भी पुष्टि करते हुए बताया कि वायरल पोस्ट की शुरुआती दो तस्वीरें क्रमशः किर्गिस्तान वाइट हाउस में आग और अर्मेनियाई संसद में प्रदर्शन की हैं। उनके मुताबिक, अमेरिका की घटना को बढ़ा-चढ़ाकर पेश करने के लिए इन तस्वीरों को शेयर किया जा रहा है।

विश्वास न्यूज ने इस वायरल पोस्ट को शेयर करने वाले फेसबुक यूजर मोहसिन अलवी की प्रोफाइल को स्कैन किया। प्रोफाइल पर दी गई जानकारी के मुताबिक, यूजर यूपी के गाजियाबाद के रहने वाले हैं।

वायरल पोस्ट को शेयर करने वाले यूजर की प्रोफाइल का स्क्रीनशॉट।

निष्कर्ष: वायरल पोस्ट की 8 तस्वीरों में से शुरुआती दो तस्वीरें अमेरिका की नहीं, बल्कि किर्गिस्तान और अर्मेनिया की हैं। इसके अलावा बाकी तस्वीरें वाइट हाउस नहीं, बल्कि वॉशिंगटन स्थित कैपिटल हिल में हुई हालिया हिंसा की हैं।

  • Claim Review : एक पोस्ट फेसबुक पर शेयर की गई है, जिसमें 8 तस्वीरों को शेयर कर उन्हें अमेरिका के वाइट हाउस की तस्वीरें बताया जा रहा है।
  • Claimed By : Mohsin Alvi
  • Fact Check : झूठ
झूठ
    फेक न्यूज की प्रकृति को बताने वाला सिंबल
  • सच
  • भ्रामक
  • झूठ

पूरा सच जानें... किसी सूचना या अफवाह पर संदेह हो तो हमें बताएं

सब को बताएं, सच जानना आपका अधिकार है। अगर आपको ऐसी किसी भी मैसेज या अफवाह पर संदेह है जिसका असर समाज, देश और आप पर हो सकता है तो हमें बताएं। आप हमें नीचे दिए गए किसी भी माध्यम के जरिए जानकारी भेज सकते हैं...

टैग्स

संबंधित लेख

Post saved! You can read it later