X

Fact Check: शरद पवार को थप्पड़ मारे जाने का पुराना वीडियो गलत दावे के साथ वायरल

  • By Vishvas News
  • Updated: February 10, 2021

नई दिल्ली (विश्वास न्यूज़)। सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है, जिसमें एक आदमी शरद पवार को थप्पड़ मारता दिख रहा है। पोस्ट के साथ दावा किया जा रहा है कि यह वीडियो हाल का है। वीडियो को यह कह कर वायरल किया जा रहा है कि यह सचिन तेंदुलकर पर पवार के हालिया बयान से गुस्साया व्यक्ति है जिसने प्रतिक्रिया के तौर पर पवार को थप्पड़ मार दिया।

Vishvas News की जांच में दावा गलत निकला। यह वीडियो 2011 का है। इसका शरद पवार के हालिया बयान से कोई लेना देना नहीं है।

क्यान हो रहा है वायरल

ट्विटर पर ‘@ChaturvediChat1’ नाम के यूजर ने इस वीडियो को शेयर किया और साथ में लिखा खलीफा के खिलाफ बोलने पर तेंदुलकर को ज्ञान देने वाले खलीफा के फूफा पावर को किसी ने रहपट रसीद कर दिया। पावर भी आए केजरीवाल के साथ रेस में🤨”

पोस्ट के आर्काइव लिंक को यहां देखा जा सकता है।

पड़ताल

वायरल वीडियो में NDTV का लोग देखा जा सकता है। विश्वास न्यूज ने सबसे पहले InVID टूल की मदद से इस वायरल वीडियो के कीफ्रेम्स निकाले। हमने उन कीफ्रेम्स को गूगल रिवर्स इमेज सर्च टूल की मदद दे “Sharad Pawar Slapped+NDTV ” कीवर्ड्स के साथ ढूंढा। हमें यह वीडियो NDTV की वेबसाइट पर 24 नवंबर 2011 को अपलोडेड मिला। वीडियो के साथ डिस्क्रिप्शन में लिखा था “Union Agriculture Minister Sharad Pawar has been slapped by a youth at the New Delhi Municipal Corporation (NDMC) centre in Delhi. The minister was attacked as he was leaving the premises after attending a literary function. The attacker, identified as Harvinder Singh, was reportedly angry over the minister’s inability to control price rise.” जिसका हिंदी अनुवाद होता है “केंद्रीय कृषि मंत्री शरद पवार को दिल्ली में नई दिल्ली नगर निगम (एनडीएमसी) केंद्र में एक युवा ने थप्पड़ मार दिया। मंत्री पर हमला किया गया अब वे साहित्यिक समारोह में भाग लेने के बाद परिसर से बाहर जा रहे थे। हरविंदर सिंह के रूप में पहचाने जाने वाले हमलावर को कथित तौर पर मूल्य वृद्धि को नियंत्रित करने में मंत्री की अक्षमता पर गुस्सा था।”

यह वीडियो NDTV के यूट्यूब चैनल पर भी अपलोडेड मिला।

दैनिक जागरण पर पब्लिश्ड एक खबर के अनुसार “पॉप सिंगर रिहाना और पर्यावरण कार्यकर्ता ग्रेटा थनबर्ग के ट्वीटों के बाद तेंदुलकर और ख्यात पा‌र्श्व गायिका लता मंगेशकर जैसी हस्तियों ने सरकार के समर्थन में इंटरनेट मीडिया पर हैशटैग इंडिया टुगेदर और हैशटैग इंडिया अगेंस्ट प्रोपेगेंडा पर अपने संदेश दिए थे। इसे लेकर राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) अध्यक्ष शरद पवार ने शनिवार के कहा कि किक्रेट आइकन सचिन तेंदुलकर को किसानों के मुद्दे पर बोलने में सतर्क रहना चाहिए।

हालाँकि हमें खोजने पर भी किसी मीडिया वेबसाइट पर उन्हें इस बयान के बाद थप्पड़ मारे जाने की कोई खबर नहीं मिली।

हमने इस विषय में एनसीपी के राष्ट्रीय प्रवक्ता नवाब मालिक से संपर्क साधा। उन्होंने कहा “वीडियो पुराना है। लोग ऐसे फेक पोस्ट्स पर यकीन न करें।”

हमने वायरल दावे को साझा करने वाले ट्विटर यूजर ‘@ChaturvediChat1’ के अकाउंट की सोशल स्कैनिंग करने की कोशिश की। यूजर के 913 फ़ॉलोअर्स हैं। यूजर उन्नाओ के रहने वाले हैं।

निष्कर्ष: Vishvas News की जांच में दावा गलत निकला। यह वीडियो 2011 का है। इसका शरद पवार के हालिया बयान से कोई लेना देना नहीं है।

  • Claim Review : खलीफा के खिलाफ बोलने पर तेंदुलकर को ज्ञान देने वाले खलीफा के फूफा पावर को किसी ने रहपट रसीद कर दिया पावर भी आए केजरीवाल के साथ रेस में
  • Claimed By : ChaturvediChat1
  • Fact Check : झूठ
झूठ
    फेक न्यूज की प्रकृति को बताने वाला सिंबल
  • सच
  • भ्रामक
  • झूठ

पूरा सच जानें... किसी सूचना या अफवाह पर संदेह हो तो हमें बताएं

सब को बताएं, सच जानना आपका अधिकार है। अगर आपको ऐसी किसी भी मैसेज या अफवाह पर संदेह है जिसका असर समाज, देश और आप पर हो सकता है तो हमें बताएं। आप हमें नीचे दिए गए किसी भी माध्यम के जरिए जानकारी भेज सकते हैं...

टैग्स

संबंधित लेख

Post saved! You can read it later