X

Fact Check : योगी आदित्‍यनाथ के काफिले के 2017 के वीडियो को अब का बताकर किया गया वायरल, पोस्‍ट झूठी है

  • By Vishvas News
  • Updated: September 17, 2020

नई दिल्‍ली (Vishvas News)। सोशल मीडिया में यूपी के मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ के काफिले को काला झंडा दिखाए जाने की घटना का एक पुराना वीडियो वायरल हो रहा है। कुछ यूजर्स इसे हाल का बताकर वायरल कर रहे हैं। वीडियो को लेकर दावा किया जा रहा है कि लखनऊ में योगी आदित्‍यनाथ के काफिले को रोकते हुए बेरोजगार लोग।

विश्‍वास न्‍यूज ने वायरल पोस्‍ट की पड़ताल की। जांच में पोस्‍ट झूठी साबित हुई। तीन साल पुरानी घटना के वीडियो को अब का बताकर वायरल किया जा रहा है। पिछले कुछ दिनों में ऐसी कोई घटना इनदिनों लखनऊ में नहीं हुई है।

क्‍या हो रहा है वायरल

सोशल मीडिया के विभिन्‍न प्‍लेटफॉर्म पर योगी आदित्‍यनाथ के काफिले के पुराने वीडियो को फर्जी दावों के साथ वायरल किया जा रहा है। फेसबुक यूजर Annu Baudh Anu ने 10 सितंबर को एक वीडियो अपलोड करते हुए दावा किया : ‘आज लखनऊ में योगी जी के काफिले को रोकते…बेरोजगार।’

पड़ताल किए जाने तक इस वीडियो को फर्जी दावे के साथ पांच लाख से ज्‍यादा बार देखा जा चुका है, जबकि इस पोस्‍ट को आठ हजार से ज्‍यादा लोग शेयर कर चुके हैं।

यहां फेसबुक पोस्‍ट का आर्काइव्‍ड वर्जन देखें।

पड़ताल

विश्‍वास न्‍यूज ने वायरल वीडियो को ध्‍यान से देखा। मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ के काफिले के सामने अचानक से कुछ लोग आकर उन्‍हें काला झंडा दिखाने लगते हैं। इसके अलावा योगी सरकार के खिलाफ नारेबाजी भी वीडियो में सुना जा सकता है। विश्‍वास न्‍यूज ने वायरल वीडियो को InVID टूल में अपलोड करके कई ग्रैब्‍स निकाले। इसके बाद इन्हें गूगल रिवर्स इमेज में सर्च किया।

घटना से संबंधित दूसरे एंगल के कई वीडियो हमें यूट्यूब पर मिले। एक वीडियो हमें 7 जून 2017 का मिला। इसमें हमें वही लोग नजर आए, जो अब वायरल हो रहे वीडियो में दिख रहे हैं। इसमें हमें सफेद सूट और गुलाबी सूट पहनीं दो युवतियां नजर आईं। ये वायरल वीडियो में भी मौजूद दिखीं। इससे यह तो साबित हो गया कि घटना अभी की नहीं, बल्कि 2017 की है।

Fark India नाम के यूट्यूब चैनल पर अपलोड पुराने वीडियो में बताया गया कि लखनऊ यूनिवर्सिटी में सीएम योगी की गाड़ी को काला झंडा दिखाने वाले गए जेल।

पड़ताल के दौरान हमें वह ओरिजनल वीडियो भी मिला, जो अब वायरल हो रहा है। Lehren News नाम के एक यूट्यूब चैनल ने इसे 11 जून 2017 को अपलोड करते हुए इसे योगी आदित्‍यनाथ के काफिले पर हमला बताया। पूरा वीडियो आप यहां देख सकते हैं।

वायरल वीडियो की सच्‍चाई जानने के लिए हमने लखनऊ स्थित दैनिक जागरण के ऑनलाइन प्रभारी धमेंद्र कुमार पांडेय से संपर्क किया। उन्‍होंने विश्‍वास न्‍यूज को बताया कि वायरल वीडियो अभी का नहीं है। पुराना है। 2017 में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ लखनऊ विश्वविद्यालय में एक कार्यक्रम में जा रहे थे। इसी दौरान हनुमान सेतु मंदिर के सामने कुछ छात्रों ने उनके काफिले को काला झंडा दिखाने का प्रयास किया था।

पड़ताल के अंतिम चरण में हमने फर्जी पोस्‍ट करने वाली यूजर की जांच की। हमें पता चला कि यूजर कानपुर की रहने वाली हैं। इनके अकाउंट को 30 हजार से ज्‍यादा लोग फॉलो करते हैं।

निष्कर्ष: विश्‍वास न्‍यूज की जांच में वायरल पोस्‍ट फर्जी साबित हुई। 2017 की घटना के वीडियो को अब कुछ लोग वायरल कर रहे हैं।

  • Claim Review : आज लखनऊ में योगी जी के काफिले को रोकते…बेरोजगार।
  • Claimed By : फेसबुक यूजर Annu Baudh Anu
  • Fact Check : झूठ
झूठ
    फेक न्यूज की प्रकृति को बताने वाला सिंबल
  • सच
  • भ्रामक
  • झूठ

पूरा सच जानें... किसी सूचना या अफवाह पर संदेह हो तो हमें बताएं

सब को बताएं, सच जानना आपका अधिकार है। अगर आपको ऐसी किसी भी मैसेज या अफवाह पर संदेह है जिसका असर समाज, देश और आप पर हो सकता है तो हमें बताएं। आप हमें नीचे दिए गए किसी भी माध्यम के जरिए जानकारी भेज सकते हैं...

टैग्स

संबंधित लेख

Post saved! You can read it later