X

#UNGA Quick Fact Check : प्रधानमंत्री मोदी के भाषण में किए गए दावों की पड़ताल

  • By Vishvas News
  • Updated: September 27, 2019

नई दिल्‍ली (विश्‍वास टीम)। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने संयुक्‍त राष्‍ट्र महासभा (UNGA) के 74वें सेशन को संबोधित करते हुए सरकार की योजनाओं से जुड़ी जानकारियों को ठीक आंकड़ों के साथ रखा।

पहला दावा

Claim: 50 करोड़ लोगों को हर साल 5 लाख रुपये तक के मुफ्त इलाज की सुविधा।

Source : PMO twitter

Fact- पीएम मोदी ने अपने भाषण में ‘आयुष्मान भारत प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना (PM-JAY)’ का जिक्र किया। उन्होंने दावा किया कि भारत ने 50 करोड़ लोगों के लिए हर साल पांच लाख रुपये तक के इलाज की सुविधा दी है।

‘आयुष्मान भारत प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना (PM-JAY)’ की आधिकारिक वेबसाइट पर मिली गाइडलाइन की प्रस्तावना के मुताबिक इस योजना को पीएम मोदी ने 23 सितंबर 2018 को लॉन्च किया था। इसके तहत हर परिवार को प्रति वर्ष 5 लाख रुपये का हेल्थ कवर (स्वास्थ्य बीमा) मिलता है। वेबसाइट पर दी गई जानकारी के मुताबिक इस योजना के दायरे में 10.74 करोड़ से अधिक परिवार (करीब 50 करोड़ लाभार्थी) आते हैं।

दूसरा दावा

Claim: फाइनैंशियल इनक्लूजन स्कीम के तहत  5 साल में 37 करोड़ से ज्यादा गरीबों के खाते खोले गए।

Source : PMO twitter

Fact- प्रधानमंत्री जन धन योजना की वेबसाइट (https://pmjdy.gov.in/hi-home) पर दी गई जानकारी के मुताबिक अभी तक इस योजना के तहत 37 करोड़ से अधिक खाते खुले हैं।

जानकारी के मुताबिक, ‘अभी तक 37.05 करोड़ लाभार्थियों ने बैंकों में धनराशि जमा की है। लाभार्थियों के खाते में 103,531.01 करोड़ रुपये की धनराशि जमा है।’

तीसरा दावा

Claim: दुनिया के सबसे बड़े डिजिटल आइडेंटिफिकेशन प्रोग्राम की मदद से भ्रष्टाचार को रोककर 20 अरब डॉलर की बचत।

Fact- प्रधानमंत्री मोदी ने अपने भाषण के दौरान डिजिटल आइडेंटिफिकेशन स्कीम की मदद से भ्रष्टाचार को रोके जाने का दावा करते हुए 20 अरब डॉलर की बचत का जिक्र किया।

सरकार की तरफ से दी गई जानकारी के मुताबिक मार्च 2019 तक डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर और अन्य सरकारी सुधारों की वजह से सरकार को 1,41,677.56 करोड़ रुपये की बचत हुई। डॉलर में अगर इसे बदला जाए तो यह रकम 20 अरब डॉलर के बराबर (70.64 पैसा-27 सितंबर को बंद हुए भाव के मुताबिक) यानी करीब 1.41 लाख करोड़ होता है।

चौथा दावा

Claim: पिछले पांच सालों में 11 करोड़ से ज्‍यादा शौचालयों का निर्माण।

Source : PMO twitter

Fact – इन आंकड़ों की पुष्टि भारत सरकार की वेबसाइट पर दी गई जानकारी से होती है। वेबसाइट की रिपोर्ट के मुताबिक 2 अक्टूबर 2014 से लेकर अब तक देश में करीब 10 करोड़ से अधिक (10,05,71,771) शौचालयों का निर्माण हुआ है।

पीएम मोदी ने अपने भाषण के दौरान तमिल के कवि कनियन पुंगुनद्रनार का भी जिक्र किया। मोदी ने कहा था कि करीब 3000 हजार साल पहले कवि कनियन पुंगुनद्रनार हुए थे। उन्‍होंने कहा था कि ‘याधुम उरे यावरम केलिर’। इसका अर्थ होता है कि ‘हम सभी जगहों से संबंधित हैं और हर किसी से जुड़े हैं।’ इससे पहले देश के पूर्व राष्‍ट्रपति अब्‍दुल कलाम ने भी यूरोपियन यूनियन के गोल्‍डन जुबली के एक कार्यक्रम में कनियन की कविता का जिक्र किया था।

कनियन पुंगुनद्रनार तमिल के कवि थे। उनके नाम कनियन का हिंदी में शाब्दिक अर्थ गणित होता है। उनका जन्म महिबालनपट्टी में हुआ था। महिबालनपट्टी तमिलनाडु के शिवगंगा जिले में तिरुप्पटुर तालुक की एक ग्राम पंचायत है। कनियन से जुड़ी जानकारी आप यहां पढ़ सकते हैं।

पीएम मोदी ने महासभा में दावा किया कि भारत सिंगल यूज प्लास्टिक से मुक्त होने का अभियान चला रहा है। न्यूज रिपोर्ट के मुताबिक भारत के 73वें स्वतंत्रता दिवस के मौके पर लाल किले से संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने सिंगल यूज प्लास्टिक का जिक्र करते हुए कहा था कि सरकार देश को सिंगल यूज प्लास्टिक से मुक्त बनाएगी। न्यूज रिपोर्ट के मुताबिक गोवा सरकार ने 2 अक्टूबर (महात्मा गांधी जयंती) से सिंगल यूज प्लास्टिक को बैन करने का फैसला भी ले लिया है।

Source : PMO twitter

पीएम मोदी का पूरा भाषण आप यहां देख सकते हैं।

निष्कर्ष: संयुक्त राष्ट्र के 74वें महासभा को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने चार दावों का जिक्र किया है, जिसमें तीन पूरी तरह से सही हैं। वहीं, टॉयलेट निर्माण को लेकर किए गए दावे में थोड़ी भिन्नता है। इसके अलावा मोदी ने दो अन्य तथ्यों का भी जिक्र किया है, वह सही हैं।

पूरा सच जानें... किसी सूचना या अफवाह पर संदेह हो तो हमें बताएं

सब को बताएं, सच जानना आपका अधिकार है। अगर आपको ऐसी किसी भी मैसेज या अफवाह पर संदेह है जिसका असर समाज, देश और आप पर हो सकता है तो हमें बताएं। आप हमें नीचे दिए गए किसी भी माध्यम के जरिए जानकारी भेज सकते हैं...

कोरोना वायरस से कैसे बचें ? PDF डाउनलोड करें और जानिए कोरोना वायरस से जुड़ी महत्वपूर्ण सूचना

टैग्स

संबंधित लेख

Post saved! You can read it later