X

Fact Check : प्रियंका गांधी की 2009 की पुरानी तस्‍वीर को अब बिहार चुनाव से जोड़कर किया गया वायरल

  • By Vishvas News
  • Updated: October 12, 2020

नई दिल्‍ली (Vishvas News)। सोशल मीडिया में कांग्रेस की नेता प्रियंका गांधी की एक पुरानी तस्‍वीर को अब वायरल करते हुए दावा किया जा रहा है बिहार चुनाव के लिए उन्‍होंने अलमारी से साड़ी निकाल ली है। तस्‍वीर में प्रियंका गांधी को लाल रंग की साड़ी पहने हुए मंदिर में देखा जा सकता है।

विश्‍वास न्‍यूज ने वायरल पोस्‍ट की पड़ताल की। हमें जांच में पता चला कि यह पोस्‍ट फर्जी है। 2009 की अमेठी की तस्‍वीर को अब बिहार चुनाव से जोड़कर वायरल किया जा रहा है।

क्‍या हो रहा है वायरल

फेसबुक यूजर राजू सोलंकी ने 6 अक्‍टूबर को प्रियंका गांधी की एक तस्‍वीर को अपलोड करते हुए लिखा : ‘बिहार_चुनाव आ गया है* तो दादी की #साड़ी अलमारी* से निकल गई है, लेकिन मिलेगा वहीं जो उपर #लटक रहा है.’

फेसबुक पोस्‍ट का आर्काइव्‍ड वर्जन देखें।

पड़ताल

विश्‍वास न्‍यूज ने सबसे पहले प्रियंका गांधी की वायरल तस्‍वीर को गूगल रिवर्स इमेज टूल में अपलोड करके सर्च करना शुरू किया। सर्च के दौरान हमने टाइम लाइन टूल का भी इस्‍तेमाल किया। सबसे पुरानी तस्‍वीर हमें flicker.com पर मिली। इसे Pressbrief.in की ओर से डाला गया था। इसमें बताया गया कि अपने भाई राहुल गांधी के चुनावी अभियान में अमेठी पहुंची प्रियंका गांधी दुर्गा मंदिर भी गई थीं। तस्‍वीर 12 अप्रैल 2009 को ली गई थी।

वायरल तस्‍वीर की सच्‍चाई जानने के बाद हमने 2009 में राहुल गांधी के मीडिया का काम देखने वाले पूर्व सहयोगी पंकज शंकर से संपर्क किया। उन्‍होंने हमें बताया कि प्रियंका गांधी की वायरल तस्‍वीर का कुछ लोग दुरुपयोग कर रहे हैं। तस्‍वीर 2009 की है। इसे उस वक्‍त लिया गया था, जब प्रियंका अमेठी दौरे पर आई थीं।

अंत में हमने प्रियंका गांधी से जुड़ी फर्जी पोस्‍ट करने वाले फेसबुक यूजर राजू सोलंकी के अकाउंट को खंगालना शुरू किया। हमें पता चला कि इस अकाउंट को जुलाई 2009 में बनाया गया था।

निष्कर्ष: विश्‍वास न्‍यूज की पड़ताल में प्रियंका गांधी से जुड़ी पोस्‍ट फर्जी साबित हुई। 2009 की एक तस्‍वीर को अब बिहार चुनाव से जोड़कर फर्जी दावे के साथ वायरल किया गया।

  • Claim Review : प्रियंका गांधी की तस्‍वीर बिहार चुनाव से संबंधित है।
  • Claimed By : फेसबुक यूजर राजू सोलंकी
  • Fact Check : झूठ
झूठ
    फेक न्यूज की प्रकृति को बताने वाला सिंबल
  • सच
  • भ्रामक
  • झूठ

पूरा सच जानें... किसी सूचना या अफवाह पर संदेह हो तो हमें बताएं

सब को बताएं, सच जानना आपका अधिकार है। अगर आपको ऐसी किसी भी मैसेज या अफवाह पर संदेह है जिसका असर समाज, देश और आप पर हो सकता है तो हमें बताएं। आप हमें नीचे दिए गए किसी भी माध्यम के जरिए जानकारी भेज सकते हैं...

टैग्स

संबंधित लेख

Post saved! You can read it later