X

Fact Check: रतन टाटा ने नहीं दिया शराब खरीदने वालों को लेकर यह बयान, वायरल पोस्ट फ़र्ज़ी है

विश्वास न्यूज़ ने अपनी पड़ताल में पाया कि रतन टाटा ने अल्कोहल खरीदने वालों की सरकारी फ़ूड सब्सिडी खत्म करने और आधार कार्ड के ज़रिये शराब खरीदने को लेकर कोई बात नहीं कही है। वायरल बयान फ़र्ज़ी है।

  • By Vishvas News
  • Updated: September 5, 2021

विश्वास न्यूज़ (नई दिल्ली)। सोशल मीडिया पर अक्सर उद्योगपति रतन टाटा के नाम फ़र्ज़ी पोस्ट वायरल होती रहती हैं। इसी कड़ी में सोशल मीडिया पर मौजूद यूजर रतन टाटा के नाम से एक बयान वायरल कर रहे हैं, जिसके जरिए दावा किया जा रहा है कि उद्योगपति रतन टाटा ने अल्कोहल खरीदने वालों की सरकारी फ़ूड सब्सिडी खत्म करने और आधार कार्ड के ज़रिये शराब खरीदने की बात कही है। विश्वास न्यूज़ ने जब इस वायरल पोस्ट की पड़ताल की तो हमने पाया कि यह बयान रतन टाटा ने नहीं दिया है। यह एक फ़र्ज़ी बयान है, जो उनके नाम से वायरल हो रहा है।

क्या है वायरल पोस्ट में ?

फेसबुक यूजर ‘यशपाल अरोरा’ ने वायरल पोस्ट को शेयर किया, जिसमें रतन टाटा की तस्वीर बनी है और साथ में अंग्रेज़ी में लिखा है, ‘′ Liquor sales should be sold through Aadhaar card. Government food subsidies should be stopped for alcohol buyers. Those who have the facility to buy alcohol can definitely buy food. When we give them free food they pay and buy alcohol.”: Ratan Tata.’

पोस्ट के आर्काइव वर्जन को यहाँ देखें।

पड़ताल

अपनी पड़ताल को शुरू करते हुए सबसे पहले हमने गूगल ओपन सर्च के ज़रिये वायरल बयान को सर्च किया। सर्च में हमें किसी भी प्रतिष्ठित न्यूज़ वेबसाइट पर रतन टाटा का ऐसा कोई बयान नहीं मिला। रतन टाटा अक्सर ख़बरों में रहते हैं और अगर उन्होंने ऐसा कोई भी बयान दिया होता तो वह खबरों में ज़रूर मौजूद होता।

पड़ताल को आगे बढ़ाते हुए हमने रतन टाटा के ट्विटर, फेसबुक और इंस्टाग्राम के सोशल मीडिया एकाउंट्स की स्कैनिंग की, लेकिन वहां भी हमें ऐसा कोई बयान नहीं मिला।

ज्यादा जानकारी के लिए हमने टाटा समूह के कॉरपोरेट कम्युनिकेशन पर्सनल बॉब जॉन से व्हाट्सप्प के जरिये संपर्क किया और उन्होंने वायरल पोस्ट को नकारते हुए हमारे साथ रतन टाटा के इंस्ट्राग्राम स्टेटस का स्क्रीनशॉट शेयर किया, जिसमें वायरल पोस्ट के दावे को फेक बताया गया है। स्क्रीनशॉट नीचे देखें।

अब बारी थी इस फ़र्ज़ी बयान को शेयर करने वाले फेसबुक यूजर Yash Pal Arora की सोशल स्कैनिंग करने की। हमनें पाया कि यूजर पंचकूला का रहने वाला है। वहीं, नवंबर 2011 में यह फेसबुक अकाउंट बनाया गया है।

निष्कर्ष: विश्वास न्यूज़ ने अपनी पड़ताल में पाया कि रतन टाटा ने अल्कोहल खरीदने वालों की सरकारी फ़ूड सब्सिडी खत्म करने और आधार कार्ड के ज़रिये शराब खरीदने को लेकर कोई बात नहीं कही है। वायरल बयान फ़र्ज़ी है।

  • Claim Review : Liquor sales should be sold through Aadhaar card. Government food subsidies should be stopped for alcohol buyers. Those who have the facility to buy alcohol can definitely buy food. When we give them free food they pay and buy alcohol.
  • Claimed By : Yash Pal Arora
  • Fact Check : झूठ
झूठ
फेक न्यूज की प्रकृति को बताने वाला सिंबल
  • सच
  • भ्रामक
  • झूठ

पूरा सच जानें... किसी सूचना या अफवाह पर संदेह हो तो हमें बताएं

सब को बताएं, सच जानना आपका अधिकार है। अगर आपको ऐसी किसी भी मैसेज या अफवाह पर संदेह है जिसका असर समाज, देश और आप पर हो सकता है तो हमें बताएं। आप हमें नीचे दिए गए किसी भी माध्यम के जरिए जानकारी भेज सकते हैं...

टैग्स

अपना सुझाव पोस्ट करें
और पढ़े

No more pages to load

संबंधित लेख

Next pageNext pageNext page

Post saved! You can read it later