X

Fact Check: सुप्रीम कोर्ट के जज जे बी पारदीवाला कभी नहीं रहे विधायक, वायरल फोटो भी जस्टिस सूर्यकांत की है

सुप्रीम कोर्ट के जज जे बी पारदीवाला कभी कांग्रेसी विधायक नहीं रहे हैं। हां, उनके पिता कांग्रेस के टिकट पर बुल्सर (वलसाड) विधानसभा चुनाव जीते थे। वायरल फोटो भी पारदीवाला की नहीं, बल्कि जस्टिस सूर्यकांत की है। जज पारदीवाला के बारे में गलत दावा वायरल किया जा रहा है।

  • By Vishvas News
  • Updated: July 4, 2022

नई दिल्ली (विश्वास न्यूज)। नूपुर शर्मा को फटकार लगाने वाले सुप्रीम कोर्ट के जज जे बी पारदीवाला को लेकर सोशल मीडिया पर एक पोस्ट वायरल हो रही है। इसमें एक शख्स की फोटो के साथ दावा किया जा रहा है कि जज जे बी पारदीवाला कांग्रेस विधायक रहे हैं। विश्वास न्यूज ने अपनी पड़ताल में दावे को गलत पाया। वायरल फोटो जस्टिस सूर्यकांत की है और जज जे बी पारदीवाला कभी विधायक नहीं रहे।

क्या है वायरल पोस्ट में

फेसबुक यूजर Devender Chauhan (आर्काइव लिंक) ने 1 जुलाई को फोटो शेयर करते हुए लिखा,
जज जे, बी पारदीवाला कांग्रेस MLA 1989

जिसने नूपुर शर्मा का एक तरफा फैसला सुनाया

(कुछ आपित्तजनक शब्दों को हटाया गया है।)

सोशल मीडिया पर वायरल पोस्ट।

पड़ताल

वायरल दावे की पड़ताल के लिए हमने सबसे पहले फोटो को गूगल रिवर्स इमेज से सर्च किया। इसमें हमें tribuneindia में 22 मई 2019 को प्रकाशित खबर का लिंक मिला। इसमें वायरल फोटो भी मिल गई। फोटो जस्टिस सूर्यकांत की है। खबर के मुताबिक, हिमाचल प्रदेश हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस सूर्यकांत 24 मई को सुप्रीम कोर्ट के जज के तौर पर शपथ लेंगे।

अब हम बात करते हैं जज जे बी पारदीवाला की। सुप्रीम कोर्ट वेबसाइट पर दी गई जस्टिस पारदीवाला की प्रोफाइल के मुताबिक, दक्षिणी गुजरात के वलसाड से संबंध रखने वाले जे बी पारदीवाला के परदादा और दादा वकील थे। उनके पिता वकील होने के साथ ही 1989 से मार्च 1990 तक सातवीं गुजरात विधानसभा के स्पीकर रहे थे। जज जे बी पारदीवाला ने 1985 में वलसाड के जेपी आर्टस कॉलेज से स्नातक किया और 1988 में केएम लॉ कॉलेज वलसाड से कानून की डिग्री हासिल की। 1989 से उन्होंने वलसाड में वकालत शुरू की थी। इसके बाद वह सितंबर 1990 में गुजरात हाईकोर्ट आ गए। 1994 से 2000 तक वह गुजरात बार काउंसिल के सदस्य रहे। 17 फरवरी 2011 को वह गुजरात हाईकोर्ट में एक अतिरिक्त न्यायाधीश के रूप में पदोन्नत हुए और 28 जनवरी 2013 को स्थायी जज हो गए। 9 मई 2022 को वह सुप्रीम कोर्ट के जज बने। इसमें कही भी नहीं लिखा है कि जे बी पारदीवाला कभी कांग्रेस विधायक रहे हैं।

गुजरात हाईकोर्ट की आधिकारिक वेबसाइट पर भी पारदीवाला की प्रोफाइल दी गई है। इसमें भी इनके विधायक रहने का कोई जिक्र नहीं है।

गुजरात विधानसभा के स्पीकर की लिस्ट में जे बी पारदीवाला के पिता बुर्जोर क्वासजी पारदीवाला का नाम देखा जा सकता है।

चुनाव आयोग की वेबसाइट के अनुसार, 1985 में हुए गुजरात विधानसभा चुनाव में बुल्सर (वलसाड) विधानसभा से बुर्जोर पारदीवाला ने कांग्रेस के टिकट पर चुनाव जीता था।

1 मई 2015 को jagranjosh में छपी खबर के अनुसार, बुर्जोर पारदीवाला ने वलसाड विधानसभा से कांग्रेस के टिकट पर चुनाव जीता था। वह विधानसभा में स्पीकर भी रहे थे। उनका 30 अप्रैल 2015 को अहमदाबाद के एक अस्पताल में निधन हो गया।

इस बारे में हमने गुजरात प्रदेश कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता डॉ. मनीष दोषी से बात की। उनका कहना है,’जज जे बी पारदीवाला के पिता बुर्जोर पारदीवाला गुजरात विधानसभा के स्पीकर रहे थे। वह कांग्रेस के टिकट पर विधायक बने थे। जे बी पारदीवाला के स्पीकर रहने की बात गलत है।

सुप्रीम कोर्ट के जज के बारे में गलत दावा करने वाले फेसबुक यूजर ‘देवेंद्र चौहान‘ की प्रोफाइल को हमने स्कैन किया। इसके मुताबिक, वह अहमदाबाद में रहते हैं और एक विचारधारा से प्रेरित हैं।

निष्कर्ष: सुप्रीम कोर्ट के जज जे बी पारदीवाला कभी कांग्रेसी विधायक नहीं रहे हैं। हां, उनके पिता कांग्रेस के टिकट पर बुल्सर (वलसाड) विधानसभा चुनाव जीते थे। वायरल फोटो भी पारदीवाला की नहीं, बल्कि जस्टिस सूर्यकांत की है। जज पारदीवाला के बारे में गलत दावा वायरल किया जा रहा है।

  • Claim Review : जज जे बी पारदीवाला कांग्रेस विधायक रहे हैं।
  • Claimed By : FB User- Devender Chauhan
  • Fact Check : झूठ
झूठ
फेक न्यूज की प्रकृति को बताने वाला सिंबल
  • सच
  • भ्रामक
  • झूठ

पूरा सच जानें... किसी सूचना या अफवाह पर संदेह हो तो हमें बताएं

सब को बताएं, सच जानना आपका अधिकार है। अगर आपको ऐसी किसी भी मैसेज या अफवाह पर संदेह है जिसका असर समाज, देश और आप पर हो सकता है तो हमें बताएं। आप हमें नीचे दिए गए किसी भी माध्यम के जरिए जानकारी भेज सकते हैं...

टैग्स

अपना सुझाव पोस्ट करें
और पढ़े

No more pages to load

संबंधित लेख

Next pageNext pageNext page

Post saved! You can read it later