X

Fact Check: 2021 के वीडियो को युद्ध में मारे गए रूसी सैनिकों को दफ़नाने के लिए खोदी गयीं कब्रें बता कर किया जा रहा है वायरल

विश्वास न्यूज की जांच में यह दावा गलत निकला। वायरल वीडियो 2021 का है। रूस के बहुत ठंडे हिस्सों में सर्दियों के लिए कब्रें अग्रिम रूप से तैयार की जातीं हैं, क्योंकि सर्दियों में इन इलाकों में मिट्टी के बढ़ते घनत्व के कारण खुदाई बहुत मुश्किल हो जाती है।

  • By Vishvas News
  • Updated: March 23, 2022

नई दिल्ली (विश्वास न्यूज)। सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे एक वीडियो में सैकड़ों खुदी हुई कब्रें देखी जा सकतीं हैं। वीडियो के साथ दावा किया जा रहा है कि रूस-यूक्रेन युद्ध में मारे गए अपने सैनिकों के शवों को दफनाने के लिए रूस सैकड़ों कब्रें खोद रहा है। विश्वास न्यूज की जांच में यह दावा गलत निकला। वायरल वीडियो 2021 का है। रूस के बहुत ठन्डे हिस्सों में सर्दियों के लिए कब्रें अग्रिम रूप से तैयार की जातीं हैं, क्योंकि सर्दियों में इन इलाकों में मिट्टी के बढ़ते घनत्व के कारण खुदाई बहुत मुश्किल हो जाती है।

क्या हो रहा है वायरल?

फेसबुक यूजर ‘Prophet S. C LEO ministries ने वायरल वीडियो (आर्काइव लिंक) को शेयर करते हुए लिखा है, “Hundreds of graves have been dug in the cemeteries of Russia – they are waiting for the burial of Russian cargo 200, which is starting to come from Ukraine. The Russians are filming and posting on social networks, they are in shock. The losses of the Russian army in Ukraine exceeded 10 thousand soldiers. They are dying at the rate of a thousand a day.  Let pray for war to stop ” जिसका हिंदी अनुवाद होता है “रूस के कब्रिस्तानों में सैकड़ों कब्रें खोदी गई हैं – वे रूसी कार्गो 200 की प्रतीक्षा कर रहे हैं, जो यूक्रेन से आना शुरू हो रहा है। रूसी लोग सोशल नेटवर्क साइट्स पर ये वीडियोज पोस्ट कर रहे हैं, वे सदमे में हैं। यूक्रेन में रूसी सेना का नुकसान 10 हजार सैनिकों से अधिक हो चुका है। वे एक दिन में एक हजार की दर से मर रहे हैं। युद्ध रुकने की दुआ करें।”

पड़ताल

वायरल वीडियो की पड़ताल करने के लिए हमने इस वीडियो के स्क्रीन ग्रैब्स को गूगल रिवर्स इमेज टूल की सहायता से सर्च किया। हमें यह वीडियो SurgutInformTV नाम के यूट्यूब चैनल पर यह वीडियो 9 अक्टूबर, 2021 को अपलोडेड मिला। साथ में लिखा था, “अनुवादित: सुरगुटा में कब्र खोदी जा रही हैं।” डिटेल्ड डिस्क्रिप्शन में लिखा था, “अनुवादित: लेखक ने COVID 19 के प्रसार के बारे में अपनी धारणा व्यक्त की, अनुचित रूप से इसे “चौथी लहर” कहा। वास्तव में, यह उत्तरी शहरों की संबंधित नगरपालिका सेवाओं के लिए एक सामान्य प्रथा है। काम गर्मियों में किया जाता है, क्योंकि सर्दियों में जमीन 2 मीटर तक जम जाती है। स्रोत: vk.com, ChS Tyumen”

हमें इस बारे में एक खबर https://sitv.ru/arhiv/ पर भी मिली। खबर के अनुसार, “यह वीडियो काफी वायरल हुआ और लोगों ने इसे कोविड 19 से जोड़कर शेयर किया, जबकि असल में सर्दी के आने से पहले यह एक आम प्रथा है। अंतिम संस्कार व्यवसाय के प्रतिनिधि इस प्रकार ठंड के मौसम की तैयारी करते हैं, ताकि बाद में उन्हें जमी हुई जमीन में कब्र खोदनी न पड़े।”

हमने इस विषय में सुरगुटा में रहने वाले कुछ पत्रकारों और वहां के कुछ निवासियों से संपर्क साधा। सुरगुटा मेयर टोपिओ पलिंग ने कन्फर्म किया कि यह प्रक्रिया आम है और सर्दिओं से पहले अक्सर ये कब्रें खोदी जाती हैं।

वायरल पोस्ट को “Prophet S. C LEO ministries” नाम के फेसबुक यूजर ने शेयर किया है। यूजर के 5,126 फ़ॉलोअर्स हैं।

निष्कर्ष: विश्वास न्यूज की जांच में यह दावा गलत निकला। वायरल वीडियो 2021 का है। रूस के बहुत ठंडे हिस्सों में सर्दियों के लिए कब्रें अग्रिम रूप से तैयार की जातीं हैं, क्योंकि सर्दियों में इन इलाकों में मिट्टी के बढ़ते घनत्व के कारण खुदाई बहुत मुश्किल हो जाती है।

  • Claim Review : Hundreds of graves have been dug in the cemeteries of Russia - they are waiting for the burial of Russian cargo 200, which is starting to come from Ukraine. The Russians are filming and posting on social networks, they are in shock. The losses of the Russian army in Ukraine exceeded 10 thousand soldiers. They are dying at the rate of a thousand a day.
  • Claimed By : Prophet S. C LEO ministries
  • Fact Check : झूठ
झूठ
फेक न्यूज की प्रकृति को बताने वाला सिंबल
  • सच
  • भ्रामक
  • झूठ

पूरा सच जानें... किसी सूचना या अफवाह पर संदेह हो तो हमें बताएं

सब को बताएं, सच जानना आपका अधिकार है। अगर आपको ऐसी किसी भी मैसेज या अफवाह पर संदेह है जिसका असर समाज, देश और आप पर हो सकता है तो हमें बताएं। आप हमें नीचे दिए गए किसी भी माध्यम के जरिए जानकारी भेज सकते हैं...

टैग्स

अपनी प्रतिक्रिया दें

No more pages to load

संबंधित लेख

Next pageNext pageNext page

Post saved! You can read it later