नई दिल्ली (विश्वास टीम)। देश में आतंकी हमलों को लेकर एक भ्रामक पोस्ट सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है। इसमें देश में NDA और UPA शासनकाल में हुए आतंकी हमलों की तुलना की गई है जो कि आंकड़ों के हिसाब से गलत है और भ्रमित करने वाला है।

सोशल मीडिया पर चल रहे एक इन्फोग्राफिक में बताया जा रहा है कि UPA और NDA के शासन में मुंबई में 406, दिल्ली में 122, गुवाहाटी में 71, हैदराबाद में 63, जयपुर में 32, वाराणसी में 29 और अहमदाबाद में टेरर हमलों से 56 जानें गईं। वहीं, दूसरी ओर इन सभी शहरों में NDA के शासन काल में एक भी जान नहीं गई।

पड़ताल

इस पोस्ट में चुनिंदा राज्यों के आंकड़े जारी किए है जबकि तुलना UPA और NDA के शासनकाल की गई है। इनमें पूर्व पीएम मनमोहन सिंह और वर्तमान पीएम नरेंद्र मोदी की फोटो का भी इस्तेमाल किया गया है। UPA और NDA की सरकार पूरे देश में रही है इसलिए आंकड़ों का जिक्र पूरे देश के संदर्भ में इस्तेमाल होना चाहिए था। वैसे भी UPA ने 2004 से 2014 तक देश में राज्य किया। जबकि NDA के शासनकाल की बात करें तो उसमें पूर्व पीएम अटल बिहारी वाजपेयी का शासनकाल भी जोड़ा जाना चाहिए जो कि नहीं जोड़ा गया है। मोदी के नेतृत्व में NDA की सरकार का साढ़े चार साल का कार्यकाल पूरा हुआ है।

आतंकवाद सिर्फ भारत के लिए ही नहीं, बल्कि अंतराष्ट्रीय स्तर पर भी एक बहुत बड़ा मुद्दा है। चुनिंदा शहरों की सूची जारी करके किसी भी निष्कर्ष पर नहीं पहुंचा जा सकता। फिर भी हमने वायरल हो रही इस पोस्ट की पुष्टि करने का फैसला किया।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की वर्तमान सरकार के शासन में अब तक कुल 11 आतंकी हमले हुए हैं। इसमें कुल 69 लोगों की जान गई है। मोदी के शासन में पांच उग्रवादी हमले हुए हैं जिनमें 152 लोग मारे जा चुके हैं।


वायरल लिस्ट में दिए गए यूपीए शासन के दौरान मारे गए लोगों की हमने पुष्टि की-
• मुंबई में तीन हमलों में 406 लोगों जानें गईं। ये तथ्य सही है।
• दिल्ली में अब तक पांच हमलों में 122 लोगों की जानें गईं। ये भी तथ्य सही है।
• गुवाहाटी में उग्रवादी हमले होते हैं, ना कि आतंकी हमले।
• हैदराबाद में तीन हमले हुए जिनमें 72 लोगों की मौत हो गई। ये तथ्य सही है।
• जयपुर में एक हमला हुआ था जिसमें 63 लोगों की मौत हुई है।
• वाराणसी में एक एक बम ब्लास्ट हुआ था, जिसमें 21 लोगों की मृत्यु हो गई थी। जबकि वायरल लिस्ट में 32 लोगों के मरने की सूचना है। ये तथ्य गलत है।
• अहमदाबाद में वर्ष 2008 में 17 सीरियल बम ब्लास्ट्स हुए थे, जिनमें 29 लोगों की जान गई थीं। ये तथ्य सही है।

यूपीए के शासनकाल में 13 उग्रवादी हमले हुए है जिनमें 263 लोगों की मौत हुई है।

https://en.wikipedia.org/wiki/List_of_terrorist_incidents_in_India * आंकड़े इस साइट से लिए गए हैं।

इसके अलावा जम्मू-कश्मीर के आंकड़ों को इसमें जगह नहीं दी गई है जहां पर सबसे ज्यादा आतंकी हमले होते हैं। जम्मू और कश्मीर में मोदी के शासनकाल में पांच आतंकी हमले हुए हैं जिसमें 43 लोगों की मौत हुई है।

इस पोस्ट को पहले भी कई बार शेयर किया गया है। फेसबुक पेज Know The Nation India द्वारा इसे सबसे पहले शेयर किया गया। इस पोस्ट पर कोई खास इंटरैक्शन नहीं हुआ। हालांकि, इस पोस्ट को जब ModiNama नामक फेसबुक पेज द्वारा शेयर किया गया तो इसे 23000 से भी ज़्यादा लोगों ने शेयर किया और 10000 से ज़्यादा लोगों ने लाइक किया।

ऊपर दिए गए आंकड़ों से यह साफ़ हो जाता है कि NDA के शासन में भी आतंकियों ने लोगों मारा है। यानी कि ये मैसेज पूरी तस्वीर पेश नहीं करता है। वायरल हो रहे मैसेज में दिए गए दोनों शासनों की गलत तरीके से तुलना की गई है और लोगों के मरने की संख्या को गलत तरीके से पेश किया गया है। इस पोस्ट का उपयोग भ्रम की स्थिति फैलाने के लिए किया गया है।

पूरा सच जानें…सब को बताएं

सच जानना आपका अधिकार है। अगर आपको ऐसी किसी भी खबर पर संदेह है जिसका असर आप, समाज और देश पर हो सकता है तो हमें बताएं। हमें यहां जानकारी भेज सकते हैं। हमें contact@vishvasnews.com पर ईमेल कर सकते हैं। इसके साथ ही वॅाट्सऐप (नंबर – 9205270923) के माध्‍यम से भी सूचना दे सकते हैं।

Claim Review : देश में NDA और UPA शासनकाल में हुए आतंकी हमलों की तुलना
Claimed By : Modi Nama FB
Fact Check : False

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here