X

Fact Check: LoC पर भारतीय आर्मी के ऑपरेशन के नाम पर सीरिया की तस्वीर वायरल

  • By Vishvas News
  • Updated: December 23, 2019

नई दिल्ली विश्वास टीम ।  भारत-पाकिस्तान बॉर्डर पर हमेशा ही टेंशन का माहौल रहता है। सीमा पर पाकिस्तान द्वारा संघर्ष विराम उल्लंघन को लेकर भारत और पाकिस्तान के बीच तनाव बना ही रहता है। पिछले 6-7 दिनों में भी पाकिस्तान की ओर से बॉर्डर पर जबरदस्त फायरिंग चालू है, जिसके जवाब में भारतीय आर्मी भी जवाबी कार्रवाई कर रही है। ऐसे में अफवाहों का बाजार भी गर्म है। सोशल मीडिया पर कई लोग दावा कर रहे हैं कि भारतीय आर्मी ने पाक अधिकृत कश्मीर में घुस कर वहां के एक गाँव पर कब्ज़ा कर लिया है। साथ ही, एक तस्वीर भी शेयर की गयी है जिसमें आसमान में चिंगारियों को देखा जा सकता है। पोस्ट में कुछ और भी दावे किये गए हैं। हमने अपनी पड़ताल में पाया कि ये सभी दावे पूरी तरह सही नहीं हैं। वायरल पोस्ट में शेयर की गयी तस्वीर भी भारत-पाक बॉर्डर की नहीं, बल्कि सीरिया की है।

CLAIM

सोशल मीडिया पर वायरल इस पोस्ट में एक तस्वीर है जिसमें आसमान में चिंगारियों को देखा जा सकता है। पोस्ट के साथ डिस्क्रिप्शन में लिखा है “🇮🇳ल्यो जी .🇮🇳💪💪💪 ये भी अब एक पक्की खबर है कि #भारतीय_सेना ने POK में घुस के #करेण गांव पे कब्जा कर लिया है ….दर्जनों पाक कमांडो, जैश ए मुहम्मद, लश्कर के कमांडो ढेर पाक ब्रिगेड मुख्यालय को भी उड़ा दिया।। #नीलम_घाटी में भीषण बमबारी जारी है ….!! CPEC पे आवागमन बंद है ….!! #भारतीय_सेना किसी भी क्षण इसकी आधिकारिक घोषणा कर सकती है …!! जय हिंद की सेना 💪💪💪🇮🇳🇮🇳🇮🇳.”  इस पोस्ट के आर्काइवड वर्जन को यहाँ देखा जा सकता है।

FACT CHECK

इस पोस्ट की जांच करने के लिए हमने इस फोटो को Yandax पर रिवर्स इमेज सर्च किया। हमें ये तस्वीर m.ensonhaber.com नाम की वेबसाइट पर मिली। इस तस्वीर के साथ लगी खबर के अनुसार, ये तस्वीर सीरिया की है। पोस्ट के मुताबिक, घटना 07 अगस्त 2017 की है।

हमें ये तस्वीर www.middleeastmonitor.com पर भी मिली और इस खबर के अनुसार भी ये घटना 7 अगस्त, 2017 की है और सीरिया की है।

वायरल पोस्ट के डिस्क्रिशन में कई दावे किये गए हैं।

दावा नंबर 1:  भारतीय सेना ने POK में घुस कर करेण गांव पे कब्जा कर लिया है।

दावा नंबर 2: दर्जनों पाक कमांडो, जैश ए मुहम्मद, लश्कर के कमांडो ढेर। पाक ब्रिगेड मुख्यालय को भी उड़ाया गया। नीलम घाटी में भीषण बमबारी जारी है।

दावा नंबर 3: CPEC पे आवागमन बंद है।

हमने इन सभी दावों की एक-एक करके जांच करने का फैसला किया

दावा नंबर 1:  भारतीय सेना ने POK में घुस कर करेण गांव पे कब्जा कर लिया है?

इस दावे की जांच करने के लिए हमने इंटरनेट पर ढूंढा। हमारे सामने न्यूज़ एजेंसी ANI की एक खबर लगी।खबर के अनुसार, “भारतीय सेना ने शनिवार को सोशल मीडिया पर वायरल दावों को खारिज कर दिया, जिसमें कहा गया कि भारतीय आर्मी के नियंत्रण रेखा (एलओसी) पर बाड़ खोल दिया और पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (पीओके) में कब्जा कर लिया।”

हमने ज़्यादा पुष्टि के लिए भारतीय आर्मी के पीआरओ के अरुण से बात की। उन्होंने हमें बताया, “ये दावा सरासर गलत है। भारतीय सेना ने बीते सप्ताह में कोई ट्रांस-बॉर्डर ऑपरेशन नहीं किया है। और जिस करेण गाँव की बात की जा रही है वो भारतीय क्षेत्र में ही आता है, पाक अधिकृत कश्मीर में नहीं।”

हमने इंटरनेट पर करेण गांव को ढूंढा तो पाया के ये गांव भारतीय पाले में ही है।

दावा नंबर 2: दर्जनों पाक कमांडो, जैश ए मुहम्मद, लश्कर के कमांडो ढेर। पाक ब्रिगेड मुख्यालय को भी उड़ाया गया। नीलम घाटी में भीषण बमबारी जारी है।

इस दावे की जांच करने के लिए भी हमने इंटरनेट पर ढूंढा। हमारे हाथ जागरण की एक खबर लगी। खबर में लिखा था, “पाकिस्तानी सेना सोमवार(16 दिसंबर) से ही उत्तरी कश्मीर में उड़ी से लेकर टंगडार तक भारतीय नागरिक व सैन्य ठिकानों को लगातार निशाना बना रही थी। बुधवार शाम को भारतीय सेना ने सुनियोजित तरीके से पाक के महत्वपूर्ण प्रतिष्ठानों को निशाना बनाया और उसका परिणाम गत रोज ही मिल गया। एलओसी के पार गुलाम कश्मीर के अथमुकाम और जूरा में पाकिस्तानी सेना को भारी नुकसान हुआ है। बेशक पाकिस्तानी सेना ने मारे गए अपने लोगों की सही संख्या की पुष्टि नहीं की है, लेकिन उपलब्ध सूचनाओं के मुताबिक, उसके कम से कम 10 सैनिक मारे गए हैं।”

नीलम वैली में बमबारी को लेकर भी हमें टाइम्स की एक खबर मिली। खबर के अनुसार, नीलम घाटी में भारतीय आर्मी ने बमबारी की थी।

इन दावों को लेकर भी हमने भारतीय आर्मी के पीआरओ के अरुण से बात की। उन्होंने कहा, “हम पाक में हुई क्षति का संज्ञान नहीं दे सकते। हाँ, पाक की ओर से हुए सीज़फ़ायर वॉयलेशन की जवाबी कार्रवाई भारतीय सेना द्वारा नीलम घाटी में भी की गयी थी। और वहां क्षति होने का अनुमान है।”

दावा नंबर 3: CPEC पे आवागमन बंद है?

इस दावे की जांच के लिए सबसे पहले आपको ये बता दें कि CPEC आखिर है क्या। चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारा (China–Pakistan Economic Corridor) पाकिस्तान के ग्वादर से लेकर चीन के शिनजियांग प्रांत के काशगर तक लगभग 2442 किलोमीटर लम्बी एक वाणिज्यिक परियोजना है। इस परियोजना का प्रमुख उद्येश्य रेलवे और हाईवे के माध्यम से तेल और गैस का कम समय में ट्रांसपोर्ट करना है। इस परियोजना पर काम अभी चल रहा है।

हमने जब भारतीय आर्मी के पीआरओ के अरुण से इस विषय में पूछा तो उन्होंने बताया, “ये परियोजना अभी अंडरकंस्ट्रक्शन है। ये परियोजना फायरिंग जोन से दूर है। यह क्रॉस बॉर्डर फायरिंग सीधे तौर पर इस परियोजना को हिट नहीं कर सकती।”

इस पोस्ट को सोशल मीडिया पर कई लोग शेयर कर रहे हैं। इन्हीं में से एक है ‘हिंदुस्तानी सेना’ नाम का फेसबुक पेज। ये  भारतीय सेना का आधिकारिक पेज नहीं है। इस पेज के कुल 8,433 फ़ॉलोअर्स हैं। 

निष्कर्ष: हमने अपनी पड़ताल में पाया कि वायरल पोस्ट में शेयर की गयी तस्वीर भारत-पाक बॉर्डर की नहीं बल्कि सीरिया की है। भारतीय आर्मी द्वारा करेण गांव पर कब्ज़ा किये जाने वाली बात भी सही नहीं है। करेण गांव एक भारतीय गांव है।

  • Claim Review : ये भी अब एक पक्की खबर है कि #भारतीय_सेना ने POK में घुस के #करेण गांव पे कब्जा कर लिया है ....दर्जनों पाक कमांडो, जैश ए मुहम्मद, लश्कर के कमांडो ढेर पाक ब्रिगेड मुख्यालय को भी उड़ा दिया।।
  • Claimed By : हिंदुस्तानी सेना
  • Fact Check : झूठ
झूठ
    फेक न्यूज की प्रकृति को बताने वाला सिंबल
  • सच
  • भ्रामक
  • झूठ

पूरा सच जानें... किसी सूचना या अफवाह पर संदेह हो तो हमें बताएं

सब को बताएं, सच जानना आपका अधिकार है। अगर आपको ऐसी किसी भी मैसेज या अफवाह पर संदेह है जिसका असर समाज, देश और आप पर हो सकता है तो हमें बताएं। आप हमें नीचे दिए गए किसी भी माध्यम के जरिए जानकारी भेज सकते हैं...

टैग्स

संबंधित लेख

Post saved! You can read it later