X

Fact Check: 2000 रुपये के नोटों के चलन में आ रही गिरावट लेकिन एक जनवरी 2023 से इसे बंद कर 1000 के नए नोट जारी होने का दावा अफवाह

हमारी जांच से स्पष्ट है कि कुल चलन वाले नोटों में से 2000 रुपये के नोटों की हिस्सेदारी लगातार गिर रही है लेकिन यह दावा गलत और महज अफवाह है कि एक जनवरी 2023 से 2000 रुपये के नोटों की जगह 1000 रुपये के नए नोट जारी किए जाएंगे।

  • By Vishvas News
  • Updated: December 21, 2022

नई दिल्ली (विश्वास न्यूज)। सोशल मीडिया पर कई यूजर्स यह दावा कर रहे हैं कि एक जनवरी 2023 से एक हजार रुपये का नोट आने वाला है और 2000 रुपये के नोट वापस कर लिए जाएंगे।

हमने अपनी जांच में पाया कि वायरल हो रहा दावा गलत और बेतुका है। नोटबंदी के1000 रुपये के नोटों की जगह पर 2000 रुपये के नए नोटों को जारी किया गया था और इसके बंद किए जाने का दावा गलत है। यह सही है कि नोटबंदी के बाद जारी किए गए 2000 रुपये के नए नोटों के चलन में लगातार गिरावट आई है लेकिन सरकार की तरफ से 2000 रुपये के नोटों को बंद कर एक जनवरी 2023 से 1000 रुपये के नोटों को फिर से वापस लाए जाने की कोई योजना नहीं है।

क्या है वायरल?

विश्वास न्यूज के टिपलाइन नंबर +91 9599299372 पर यूजर्स ने इस वायरल वीडियो को भेजकर इसकी सच्चाई बताने का अनुरोध किया है।

विश्वास न्यूज के टिपलाइन पर भेजा गया वायरल मैसेज जिसमें एक जनवरी 2023 से 1000 रुपये के नए नोटों को जारी किए जाने का दावा किया गया है

पड़ताल

8 नवंबर 2016 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नोटबंदी की घोषणा करते हुए 500 रुपये और 1000 रुपये के नोटों को अवैध घोषित कर दिया था।

नोटबंदी की घोषणा के बाद आरबीआई ने करेंसी मार्केट में 500 रुपये और 2000 रुपये के नए नोटों को जारी किया था, जो अभी तक प्रचलन में हैं। आरबीआई की वेबसाइट पर नोटबंदी के बाद जारी किए गए सभी नई सीरीज के नोटों के बारे में विस्तृत जानकारी उपलब्ध है।

2016 में नोटबंदी के बाद जारी किए गए नई सीरीज के नोट (Source-RBI)

वायरल दावे को लेकर विश्वास न्यूज ने आरबीआई के प्रवक्ता से संपर्क किया। 1 जनवरी से 2000 रुपये के नोटों की जगह 1000 रुपये के नोटों को जारी किए जाने के दावे को उन्होंने अफवाह करार दिया।

केंद्र सरकार की नोडल एजेंसी प्रेस इन्फॉर्मेशन ब्यूरो की तरफ से भी इस दावे का खंडन करते हुए लोगों से इस मैसेज को फॉरवर्ड नहीं करने की अपील की गई है। पीआईबी ने बताया है कि केंद्र सरकार की तरफ से 2000 रुपये के नोटों को बंद करने का कोई निर्णय नहीं लिया गया है।

टाइम्स ऑफ इंडिया की न्यूज रिपोर्ट के मुताबिक, 15 मार्च 2021 को लोकसभा में पूछे गए सवाल का जवाब देते हुए तत्कालीन वित्त राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर ने बताया था कि अप्रैल 2019 के बाद 2000 रुपये के एक भी नए नोट की छपाई नहीं हुई है।

टाइम्स ऑफ इंडिया की 16 मार्च 2021 की रिपोर्ट

इस वजह से बाजार में 2000 रुपये के नोटों के चलन में कमी आई। मई 2022 में आरबीआई की वार्षिक रिपोर्ट में यह जानकारी सामने आई थी कि 2000 रुपये के नोटों के चलन में गिरावट आई है और इस साल मार्च के अंत तक चलन वाले कुल नोट में इसकी हिस्सेदारी घटकर मात्र 1.6 फीसदी रह गई है।

Source-RBI की सालाना रिपोर्ट (2021-22)

मई में जारी आरबीआई की सालाना रिपोर्ट के मुताबिक, ‘मार्च 2020 के अंत तक चलन वाले नोटों में 2000 रुपये के नोटों की संख्या 274 करोड़ थी, जो कुल चलन वाले नोटों का 2.4 फीसदी है। यह संख्या मार्च 2021 में घटकर 245 करोड़ हो गई, जो कुल चलन वाले नोटों के मुकाबले 2 फीसदी है। पिछले वित्त वर्ष के अंत में इसमें और गिरावट आई और यह संख्या कम होकर 214 करोड़ हो गई, जो कुल चलन वाले नोटों के मुकाबले 1.6 फीसदी है।’

इन रिपोर्ट्स के सामने आने के बाद से ही सोशल मीडिया पर 2000 रुपये के नए नोटों को बंद किए जाने की अटकलें लगाई जाती रही हैं। ईटी की रिपोर्ट के मुताबिक, मौजूद संसद के शीतकालीन सत्र में बीजेपी सांसद सुशील कुमार मोदी ने चरणबद्ध तरीके से 2000 रुपये के नोटों को बैकिंग तंत्र से बाहर किए जाने की मांग की थी। शून्य काल में उन्होंने सवाल उठाते हुए कहा था कि देश के अधिकांश एटीएम से 2000 रुपये के नोट गायब हैं और देश में ऐसी अफवाह है कि यह नोट जल्द ही बंद कर दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि सरकार को इस बारे में स्पष्टीकरण देना होगा, क्योंकि आरबीआई ने तीन साल पहले से ही इन नोटों की छपाई बंद कर दी है।

21 दिसंबर की रिपोर्ट के मुताबिक, सरकार ने संसद को जानकारी देते हुए बताया कि अर्थव्यवस्था में नकदी बढ़ती है तो भी दूसरी नोटबंदी की कोई योजना नहीं है।

टाइम्स ऑफ इंडिया की 21 दिसंबर की रिपोर्ट

निष्कर्ष: हमारी जांच से स्पष्ट है कि कुल चलन वाले नोटों में से 2000 रुपये के नोटों की हिस्सेदारी लगातार गिर रही है, लेकिन यह दावा गलत और महज अफवाह है कि एक जनवरी 2023 से 2000 रुपये के नोटों की जगह 1000 रुपये के नए नोट जारी किए जाएंगे।

पूरा सच जानें... किसी सूचना या अफवाह पर संदेह हो तो हमें बताएं

सब को बताएं, सच जानना आपका अधिकार है। अगर आपको ऐसी किसी भी मैसेज या अफवाह पर संदेह है जिसका असर समाज, देश और आप पर हो सकता है तो हमें बताएं। आप हमें नीचे दिए गए किसी भी माध्यम के जरिए जानकारी भेज सकते हैं...

टैग्स

अपनी प्रतिक्रिया दें

No more pages to load

संबंधित लेख

Next pageNext pageNext page

Post saved! You can read it later