X

Fact Check: कर्नल नवजोत सिंह बल की पुरानी फोटो हो रही शेयर, ढाई साल पहले हो चुका है निधन

कर्नल नवजोत सिंह बल का निधन बेंगलुरु में अप्रैल 2020 में हो गया था। वह कैंसर से जंग हार गए थे। उनका अंतिम संस्कार बेंगलुरु में ही हुआ था।

  • By Vishvas News
  • Updated: November 28, 2022
Colonel Navjot Singh Bal, Bangalore, Fact Check, Fake News,

नई दिल्‍ली (विश्‍वास न्‍यूज)। सोशल मीडिया पर दो तस्वीरों का एक कोलाज शेयर किया जा रहा है। इसमें एक फोटो सैन्य अधिकारी की है जबकि दूसरी अस्पताल में भर्ती एक मरीज की। इस वायरल कोलाज को शेयर कर सोशल मीडिया यूजर्स अस्पताल में सैन्य अधिकारी के ठीक होने के लिए लोगों से दुआ करने की गुजारिश कर रहे हैं। दावा किया जा रहा है कि सैन्य अधिकारी अस्पताल में भर्ती है।

विश्‍वास न्‍यूज ने अपनी तफ्तीश में पाया कि दोनों तस्वीरें कर्नल नवजोत सिंह बल की हैं। उनका अप्रैल 2020 में निधन हो गया था। वह कैंसर से जंग लड़ रहे थे। उस सामय लॉकडाउन के दौरान पूरे सैन्य सम्मान के साथ बेंगलुरु में उनका अंतिम संस्कार किया गया था।

क्या है वायरल पोस्ट में

फेसबुक यूजर MileHigh Sports Fanatics (आर्काइव लिंक) ने 22 नवंबर को कोलाज शेयर करते हुए लिखा,

Indian Army
Pray

कोलाज पर लिखा है, क्या मेरे जल्दी से ठीक होने की कामना करेंगे ताकि मैं फिर से बॉडर पर जा सकूं

पड़ताल

कर्नल नवजोत सिंह बल के वायरल कोलाज की तफ्तीश करने के लिए हमने पहली तस्वीर को गूगल लेंस की मदद से सर्च किया। ट्विटर यूजर नीरज राजपूत (आर्काइव लिंक) ने इस कोलाज को पोस्ट किया है। 9 अप्रैल 2020 को किए गए ट्वीट के अनुसार, 4 पैरा के पूर्व सीओ कर्नल नवजोत सिंह बल का निधन हो गया। वह कैंसर से जंग हार गए। अस्पताल के बेड पर ली गई आखिरी सेल्फी में उनकी मुस्कान को देखा जा सकता है।

https://twitter.com/neeraj_rajput/status/1248238169386033152

13 अप्रैल 2020 को टाइम्स ऑफ इंडिया में अपडेट की गई इस बारे में खबर मिली। इसके मुताबिक, 9 अप्रैल को शौर्य चक्र विजेता कर्नल नवजोत सिंह बल का बेंगलुरु में निधन हो गया था। वह कैंसर से पीड़ित थे। 11 अप्रैल को उनके माता—पिता दिल्ली से यहां पहुंचे। लॉकडाउन के चलते फ्लाइट नहीं मिलने पर वे सड़क के रास्ते यहां आए। उनकी इस यात्रा ने पूरे देश का ध्यान अपनी तरफ खींचा और लोगों का समर्थन हासिल किया। पहले उनके माता—पिता को शव को सैन्य एयरक्राफ्ट से दिल्ली लाने का प्रस्ताव दिया गया था, लेकिन उन्होंने निर्णय लिया कि अंतिम क्रिया बेंगलुरु में की जाएगी।

11 अप्रैल 2020 को न्यूज 18 में खबर छपी है कि अपने बेटे कर्नल नवजोत सिंह बल के आखिरी दर्शन करने के लिए करनैल सिंह बल गुरुग्राम से सड़क के रास्ते लंबा सफर तय करके कर्नाटक पहुंच गए हैं। बल और उनक पत्नी गाड़ी में अपने बेटे के अंतिम संस्कार में शामिल होने के लिए गुरुग्राम से बेंगलुरु आए हैं। 39 वर्षीय नवजोत की कैंसर से मौत हो गई थी। पूर्व सैन्य अधिकारी बल ने कहा कि नवजोत बेंगलुरु में भारतीय सेना के सेकंड पैरा रेजीमेंट के कमांडिंग ऑफिसर थे। उनके पीछे उनकी पत्नी और दो बच्चे छूट गए हैं।

13 अप्रैल 2020 को लेटेस्ली में छपी खबर के अनुसार, कर्नल नवजोत सिंह बल का अंतिम संस्कार 13 अप्रैल 2020 को पूरे सैन्य सम्मान के साथ किया गया। इस दौरान उनके माता—पिता, पूर्व सैन्य अधिकारी और सेना के जेसीओज मौजूद रहे।

इसकी अधिक पुष्टि के लिए हमने बेंगलुरु के स्थानीय पत्रकार संजय पांडे से संपर्क किया। उनका कहना है, ‘वायरल फोटो कर्नल नवजोत सिंह बल की है। उनकी कैंसर से करीब ढाई साल पहले मौत हो गई थी। उस समय लॉकडाउन में उनके माता—पिता का सफर सुर्खियों में रहा था।

दिवंगत कर्नल नवजोत सिंह बल की पुरानी फोटो इस्तेमाल करने वाले फेसबुक पेज ‘माइलहाई स्पोर्ट्स फनाटिक्स‘ को हमने स्कैन किया। 8 मार्च 2013 को बने इस पेज के 34 हजार से ज्यादा फॉलोअर्स हैं।

निष्कर्ष: कर्नल नवजोत सिंह बल का निधन बेंगलुरु में अप्रैल 2020 में हो गया था। वह कैंसर से जंग हार गए थे। उनका अंतिम संस्कार बेंगलुरु में ही हुआ था।

  • Claim Review : फोटो में दिख रहे सैन्य अधिकारी अस्पताल में भर्ती हैं।
  • Claimed By : FB User- MileHigh Sports Fanatics
  • Fact Check : भ्रामक
भ्रामक
फेक न्यूज की प्रकृति को बताने वाला सिंबल
  • सच
  • भ्रामक
  • झूठ

पूरा सच जानें... किसी सूचना या अफवाह पर संदेह हो तो हमें बताएं

सब को बताएं, सच जानना आपका अधिकार है। अगर आपको ऐसी किसी भी मैसेज या अफवाह पर संदेह है जिसका असर समाज, देश और आप पर हो सकता है तो हमें बताएं। आप हमें नीचे दिए गए किसी भी माध्यम के जरिए जानकारी भेज सकते हैं...

टैग्स

अपनी प्रतिक्रिया दें

No more pages to load

संबंधित लेख

Next pageNext pageNext page

Post saved! You can read it later