X

Fact Check: इंडियन ऑयल की फर्जी एडवाइजरी वायरल, गर्मी में गाड़ी का पेट्रोल टैंक फुल कराना पूरी तरह से है सुरक्षित

गर्मी या सर्दी में वाहन में पेट्रोल टैंक फुल करवाने पर आग लगने का मैसेज फर्जी है। इंडियन ऑयल ने ऐसी कोई चेतावनी जारी नहीं की है। साथ ही कंपनी का कहना है कि सर्दी या गर्मी में गाड़ी का पेट्रोल टैंक फुल कराना पूरी तरह से सुरक्षित है।

  • By Vishvas News
  • Updated: April 11, 2022
Indian Oil, Indian Oil Corporaion, IOCL Warning, Fact Check,

नई दिल्ली (विश्वास न्यूज)। गर्मी में बढ़ते पारे के साथ ही सोशल मीडिया पर एक पोस्ट काफी वायरल हो रही है। इसमें यूजर्स दावा कर रहे हैं कि इंडियन ऑयल ने एक एडवाइजरी जारी की है। इसमें कहा गया है कि आने वाले दिनों में तापमान में वृद्धि होना तय है, इसलिए अपने वाहन में पेट्रोल अधिकतम सीमा तक न भरवाएं। यह ईंधन टैंक में विस्फोट का कारण बन सकता है। कृपया आप अपने वाहन में आधा टैंक ही ईंधन भरवाएं और एअर के लिए जगह रखें। कृपया पेट्रोल टंकी को दिन में एक बार खोलकर अंदर बन रही गैस को बाहर निकाल दें।

विश्वास न्यूज ने अपनी पड़ताल में दावे को गलत पाया। इंडियन ऑयल कॉरपोरेशन ने ऐसी कोई भी एडवाइजरी जारी नहीं की है। साथ में इंडियन ऑयल ने यह भी कहा है कि गाड़ी में पेट्रोल की टंकी फुल कराने से कोई विस्फोट नहीं होता है।

क्या है वायरल पोस्ट में

फेसबुक यूजर Naresh Manwani (आर्काइव) ने 8 अप्रैल को यह मैसेज पोस्ट किया। साथ में उन्होंने लिखा,
कृपया करके अपना और अपने परिवार का ख्याल रखे हैं

कई अन्य फेसबुक यूजर्स ने भी इस तरह की पोस्ट शेयर की है।

पड़ताल

वायरल दावे की पड़ताल के लिए हमने कीवर्ड से इसे सर्च किया। 8 जून 2019 को अमर उजाला में छपी खबर के मुताबिक, गर्मी में इस तरह का मैसेज वायरल हो रहा है कि वाहन की टंकी टंकी फुल कराने से उसमें आग लग सकती है। इस तरह मैसेज पर प्रतिक्रिया देते हुए इंडियन ऑयल ने इसे अफवाह बताया था।

9 अप्रैल 2022 को navbharattimes में छपी खबर के मुताबिक, इंडियन ऑयल पहले भी कई बार इस तरह के दावों का खंडन कर चुका है। इंडियन ऑयल के अनुसार, वाहन की टंकी फुल कराने से कोई खतरा नहीं है। वाहन निर्माता गाड़ी को डिजाइन करते समय सभी सुरक्षा उपायों को ध्यान में रखते हैं।

इसकी पुष्टि के लिए हमने इंडियन ऑयल के ट्विटर अकाउंट @IndianOilcl पर मैसेज किया। इसमें जवाब में उन्होंने हमें 3 जून 2019 का ट्वीट भेजा। इसमें लिखा है,
Important announcement from #IndianOil. It is perfectly safe to fill fuel in vehicles up to the limit(max) as specified by the manufacturer irrespective of winter or summer. (इंडियन ऑयल की ओर से महत्वपूर्ण ऐलान: सर्दी या गर्मी में अधिकतम सीमा तक वाहनों में ईंधन भरवाना पूरी तरह से सुरक्षित है।)
शेयर की गई पोस्ट में यह भी लिखा है,
सोशल मीडिया पर अफवाह उड़ रही है कि इंडियन ऑयल ने एक चेतावनी जारी की है। इसके मुताबिक, तापमान में बढ़ोत्तरी होने पर टैंक में पूरा ईंधन मत भरवाएं। इसकी वजह से फ्यूल टैंक में विस्फोट हो सकता है। अगर आपको पेट्रोल भरवाना है तो आधी टंकी भरवाएं और बाकी एअर के लिए छोड़ दीजिए।
इंडियन ऑयल इस बयान से इनकार करता है और साफ करता है कि ऑटोमोबाइल निर्माता सभी जरूरी बातों को ध्यान में रखकर अपने वाहनों को डिजाइन करते हैं। इनमें सुरक्षा संबंधी उपाय भी शामिल हैं। फ्यूल टैंक में अधिकतम सीमा तक पेट्रोल या डीजल भरवाना पूरी तरह सुरक्षित है।

फेसबुक यूजर Naresh Manwani की प्रोफाइल को हमने स्कैन किया। इसके मुताबिक, वह मध्य प्रदेश के भोपाल में रहते हैं।

निष्कर्ष: गर्मी या सर्दी में वाहन में पेट्रोल टैंक फुल करवाने पर आग लगने का मैसेज फर्जी है। इंडियन ऑयल ने ऐसी कोई चेतावनी जारी नहीं की है। साथ ही कंपनी का कहना है कि सर्दी या गर्मी में गाड़ी का पेट्रोल टैंक फुल कराना पूरी तरह से सुरक्षित है।

  • Claim Review : इंडियन ऑयल ने एक एडवाइजरी जारी की है। इसमें कहा गया है कि आने वाले दिनों में तापमान में वृद्धि होना तय है, इसलिए अपने वाहन में पेट्रोल अधिकतम सीमा तक न भरवाएं। यह ईंधन टैंक में विस्फोट का कारण बन सकता है। कृपया आप अपने वाहन में आधा टैंक ही ईंधन भरवाएं और एअर के लिए जगह रखें। कृपया पेट्रोल टंकी को दिन में एक बार खोलकर अंदर बन रही गैस को बाहर निकाल दें।
  • Claimed By : FB User- Naresh Manwani
  • Fact Check : झूठ
झूठ
फेक न्यूज की प्रकृति को बताने वाला सिंबल
  • सच
  • भ्रामक
  • झूठ

पूरा सच जानें... किसी सूचना या अफवाह पर संदेह हो तो हमें बताएं

सब को बताएं, सच जानना आपका अधिकार है। अगर आपको ऐसी किसी भी मैसेज या अफवाह पर संदेह है जिसका असर समाज, देश और आप पर हो सकता है तो हमें बताएं। आप हमें नीचे दिए गए किसी भी माध्यम के जरिए जानकारी भेज सकते हैं...

टैग्स

अपना सुझाव पोस्ट करें
और पढ़े

No more pages to load

संबंधित लेख

Next pageNext pageNext page

Post saved! You can read it later