X

Fact Check: मंकीपॉक्स कोई मनगढ़ंत बीमारी नहीं, यह पोस्ट भ्रामक है

वायरल पोस्ट में इस्तेमाल तस्वीर यह साबित नहीं करती है कि मंकीपॉक्स एक मनगढ़ंत बीमारी है; वायरल पोस्ट भ्रामक है।

  • By Vishvas News
  • Updated: June 2, 2022

नई दिल्ली (विश्वास न्यूज): दुनिया में मंकीपॉक्स के बढ़ते मामलों के कारण सोशल मीडिया पर इस बीमारी के बारे में गलत सूचनाएं सामने आ रही हैं। फ़ेसबुक पर वायरल एक पोस्ट में दावा किया जा रहा है कि मंकीपॉक्स एक मनगढ़ंत बीमारी है। पोस्ट में दो स्क्रीनशॉट दिखाए गए हैं: दोनों में तस्वीर एक ही है, मगर पहली तस्वीर में इसे दाद बताया गया है और दूसरी में इसे मंकीपॉक्स बताया गया है।
पोस्ट के साथ दावा किया गया है: “Let the monkeypox hoax begin. After all, we haven’t had a good pandemic hoax since the last election.” विश्वास न्यूज ने पोस्ट की जांच की और इसे भ्रामक पाया।

क्या है वायरल पोस्ट में?

बैरी वुथ्रिच नाम के एक फेसबुक यूजर ने पोस्ट को शेयर किया और लिखा: “Let the monkeypox hoax begin. After all, we haven’t had a good pandemic hoax since the last election.” अनुवाद “मंकीपॉक्स नाम से एक नई बीमारी शुरू हो गई है। पिछले चुनाव के बाद से हमने कोई महामारी का नाम नहीं सुना था।”

पोस्ट का आर्काइव्ड वर्जन यहां देखा जा सकता है।

पड़ताल

वायरल तस्वीर में, घावों वाले हाथ की तस्वीर देखी जा सकती है। पहले स्क्रीनशॉट में कहा गया है कि ये दाद के कारण होने वाले चकत्ते हैं। तस्वीर के साथ हेडलाइन भी दाद के बारे में है। साथ ही बताया गया है, यह तस्वीर ऑस्ट्रेलिया के क्वींसलैंड में स्वास्थ्य विभाग की वेबसाइट से आई है। जब हमने क्वींसलैंड सरकार की वेबसाइट की जांच की, तो हमने पाया कि लेख में वही तस्वीर दिखाई दे रही है, जो वायरल पोस्ट में है। इसमें कहा गया है कि: “शिंगल्स (दाद)-जिसे हर्पीज ज़ोस्टर भी कहा जाता है-चिकनपॉक्स वायरस के पुनर्सक्रियण के कारण होने वाली बीमारी है।”

हमने कोलाज में इस्तेमाल दूसरे स्क्रीनशॉट की भी जांच की। वायरल पोस्ट के अनुसार, यह तस्वीर TheHealthSite.com से ली गई है। हमने पाया कि यह आर्टिकल उसी वेबसाइट का है, लेकिन अब इसपर अलग तस्वीर है। हमने इस आर्टिकल के पिछले संस्करणों का पता लगाने के लिए वेबैक मशीन टूल का उपयोग किया और पाया कि इसने उसी तस्वीर का उपयोग किया गया था, जो वायरल पोस्ट में दिखाया गया है। मगर बाद में इसे बदल दिया गया।

इस आर्टिकल को 23 मई, 2022 को एक नई तस्वीर के साथ अपडेट किया गया था।

इसी आर्टिकल को एक अन्य वेबसाइट पर दाद वाली फोटो के साथ प्रकाशित किया गया था। हालांकि, फोटो को इस वेबसाइट से भी हटा दिया गया था और इसे दूसरी फोटो से बदल दिया गया था।

जब हमने आर्टिकल को देखा तो हमने पाया कि खबर में Centers for Disease Control and Prevention का हवाला दिया है, जिसने 16 जुलाई, 2021 को अमेरिकी निवासी में मंकीपॉक्स के मामले की पुष्टि की थी, जिसने उस दौरान नाइजीरिया से डलास की यात्रा की थी।

हमने यह पता लगाने के लिए अन्य स्रोतों की खोज की कि क्या मंकीपॉक्स वायरल तस्वीर जैसे हाथ की तस्वीर जैसा दिखता है, जैसा कि फेसबुक पोस्ट में दिखाया गया है, लेकिन हमें इसे कन्फर्म करता कोई विश्वसनीय स्रोत नहीं मिला।

हमने तस्वीर को Google रिवर्स इमेज सर्च किया। हमने पाया कि तस्वीर का इस्तेमाल पहले यह दिखाने के लिए किया गया है कि दाद कैसा दिखता है। वायरल पोस्ट में 2021 का मामला मौजूदा प्रकोप से पहले का है।

डब्ल्यूएचओ के अनुसार, 13 मई 2022 से, डब्ल्यूएचओ को 12 सदस्य देशों से मंकीपॉक्स के मामले सामने आए हैं, जो तीन डब्ल्यूएचओ क्षेत्रों में मंकीपॉक्स वायरस के लिए स्थानिक नहीं हैं।

फ़ेसबुक पर वायरल स्क्रीनशॉट 22 मई, 2022 को पोस्ट किया गया है। 21 मई तक, 12 देशों में मंकीपॉक्स के 92 मामलों की पुष्टि की गई थी।

फेसबुक पोस्ट में फोटो का दुरुपयोग किया गया है और यह साबित नहीं करता है कि मंकीपॉक्स एक मनगढ़ंत बीमारी है।

सीडीसी के अनुसार, “शिंगल्स वैरीसेला-ज़ोस्टर वायरस (वीजेडवी) के कारण होता है, वही वायरस जो चिकनपॉक्स का कारण बनता है। एक व्यक्ति के चिकनपॉक्स से ठीक होने के बाद, वायरस उनके शरीर में निष्क्रिय रहता है। वायरस बाद में फिर से सक्रिय हो सकता है, जिससे दाद हो सकता है।”

विश्वास न्यूज ने डॉ. विकास देसवाल, सीनियर कंसल्टेंट इंटरनल मेडिसिन मेदांता से संपर्क किया। उन्होंने कहा: “दाद वैरीसेला ज़ोस्टर वायरस के कारण होता है, जो एक अलग वायरस है। यह मंकीपॉक्स वायरस से बिल्कुल अलग है। दोनों अलग-अलग वायरस हैं।”

इस पोस्ट को फेसबुक पर बैरी वुथ्रिच नाम के यूजर ने शेयर किया है। हमने उपयोगकर्ता की प्रोफ़ाइल को स्कैन किया और पाया कि वह टेक्सास से है।

निष्कर्ष: वायरल पोस्ट में इस्तेमाल तस्वीर यह साबित नहीं करती है कि मंकीपॉक्स एक मनगढ़ंत बीमारी है; वायरल पोस्ट भ्रामक है।

  • Claim Review : Fact Check: Misused Photo In Viral Post Doesn’t Prove That Monkeypox Is A Hoax; Viral Post Is Misleading
  • Claimed By : Barry Wuthrich
  • Fact Check : भ्रामक
भ्रामक
फेक न्यूज की प्रकृति को बताने वाला सिंबल
  • सच
  • भ्रामक
  • झूठ

पूरा सच जानें... किसी सूचना या अफवाह पर संदेह हो तो हमें बताएं

सब को बताएं, सच जानना आपका अधिकार है। अगर आपको ऐसी किसी भी मैसेज या अफवाह पर संदेह है जिसका असर समाज, देश और आप पर हो सकता है तो हमें बताएं। आप हमें नीचे दिए गए किसी भी माध्यम के जरिए जानकारी भेज सकते हैं...

टैग्स

अपना सुझाव पोस्ट करें
और पढ़े

No more pages to load

संबंधित लेख

Next pageNext pageNext page

Post saved! You can read it later