X

Fact Check: SRM यूनिवर्सिटी के नाम पर वायरल यह सर्कुलर फर्जी है

  • By Vishvas News
  • Updated: January 27, 2021

नई दिल्ली (विश्वास न्यूज़)। सोशल मीडिया में एसआरएम इंस्टीट्यूट ऑफ साइंस एंड टेक्नोलॉजी (एसआरएमआईएसटी) केटीआर परिसर के रजिस्ट्रार के नाम से एक सर्कुलर वायरल है, जिसके अनुसार महिला छात्रों के लिए सुरक्षा उद्देश्यों के लिए एक ब्वॉयफ्रेंड होना अनिवार्य कर दिया गया है।

Vishvas News की जांच में दावा फर्जी निकला। एसआरएम विश्वविद्यालय के रजिस्ट्रार ने इस तरह के किसी भी सर्कुलर का खंडन किया है और इसे फर्जी बताते हुए पुलिस कम्प्लेंट भी फाइल की है।

क्या हो रहा है वायरल

एसआरएम यूनिवर्सिटी रजिस्ट्रार के कथित लेटरहेड पर एक सर्कुलर को सोशल मीडिया पर शेयर किया जा रहा है, जिसके अनुसार SRMIST KTR परिसर की प्रत्येक महिला छात्र के लिए सुरक्षा उद्देश्यों के लिए एक ब्वॉयफ्रेंड का होना आवश्यक बताया गया है। सर्कुलर में आगे चेतावनी दी गयी है कि एकल छात्राओं को परिसर में प्रवेश करने की अनुमति नहीं दी जाएगी। परिसर में प्रवेश के लिए अपने प्रेमी के साथ हाल ही में खिची एक तस्वीर दिखाना ज़रूरी होगा। इस सर्कुलर में विद्यालय के लोगो के साथ, रजिस्ट्रार की मुहर और हस्ताक्षर है।

पोस्ट के आर्काइव लिंक को यहां देखा जा सकता है।

पड़ताल

हमने कीवर्ड के साथ इस खबर को इंटरनेट पर ढूंढा। हमें एक खबर मिली। जिसके अनुसार, “एसआरएम इंस्टीट्यूट ऑफ साइंस एंड टेक्नोलॉजी (एसआरएमआईएसटी) ने कट्टंकुलथुर में चेंगलपट्टू, कांचीपुरम और चेन्नई में एक फर्जी सर्कुलर के खिलाफ शिकायत दर्ज की है। फर्जी सर्कुलर में कहा गया है कि सभी छात्राओं के लिए सुरक्षा उद्देश्यों के लिए परिसर में एक प्रेमी (ब्वॉयफ्रेंड) होना अनिवार्य है।”

विश्वास न्यूज़ ने पुष्टि के लिए ईमेल के माध्यम से एसआरएम विश्वविद्यालय के रजिस्ट्रार एन सेथुरमन से संपर्क किया। हमें एक आधिकारिक जवाब मिला, जिसमें लिखा था- “वायरल सर्कुलर फर्जी है। इसके खिलाफ पुलिस में शिकायत भी दर्ज कराई गई है।”

वायरल दावे को साझा करने वाले यूजर कनिगा के अकाउंट की सोशल स्कैनिंग से पता चला कि प्रोफ़ाइल के ट्विटर पर 4,666 अनुयायी हैं और यह प्रोफ़ाइल फरवरी 2019 से सक्रिय हैं।

Read the story in English here.

निष्कर्ष: वायरल सर्कुलर नकली है। एसआरएम यूनिवर्सिटी ने दावों का खंडन किया है और पुलिस में शिकायत भी दर्ज कराई है।

पूरा सच जानें... किसी सूचना या अफवाह पर संदेह हो तो हमें बताएं

सब को बताएं, सच जानना आपका अधिकार है। अगर आपको ऐसी किसी भी मैसेज या अफवाह पर संदेह है जिसका असर समाज, देश और आप पर हो सकता है तो हमें बताएं। आप हमें नीचे दिए गए किसी भी माध्यम के जरिए जानकारी भेज सकते हैं...

संबंधित लेख

Post saved! You can read it later