X

Fact Check: भरतपुर का तीन महीने पुराना वीडियो गलत दावे के साथ किया जा रहा वायरल

  • By Vishvas News
  • Updated: June 1, 2021

नई दिल्‍ली (Vishvas News)। सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रही है, जिसमें सड़क पर कुछ लोग एक पुलिसकर्मी की पिटाई करते दिख रहे हैं। दावा किया जा रहा है कि घटना बरेली के सिविल लाइंस की है, जहां पुलिसकर्मी ने चालान काटा तो मुस्लिम लोगों ने उसकी सड़क पर ही पिटाई कर डाली। विश्वास न्यूज ने पड़ताल में पाया कि वायरल पोस्ट के साथ किया जा रहा दावा गलत है।

दरअसल वायरल हो रहा वीडियो इसी साल फरवरी माह का है और यह वीडियो बरेली का नहीं, बल्कि राजस्थान के भरतपुर में जुरहारा कस्बे का है, जहां पुलिसकर्मी की गाड़ी से दूसरी गाड़ी टकराने के बाद कहासुनी हुई, जिसके चलते स्थानीय लोगों ने पुलिसकर्मी के साथ मारपीट कर दी। मामले में कोई साम्प्रदायिक एंगल नहीं है।

क्या है वायरल पोस्ट में?

फेसबुक यूजर Sumit Sharma ने यह वीडियो शेयर किया है जिसके साथ कैप्शन में लिखा गया है : बरेली सिविल लाईन्स न्यूज़ पुलिस द्वारा चालान काटने पर मुसलमानों ने उनकी पिटाई की जो कानून को चुनौती है! यह वीडियो बताता है की आगे हिन्दुस्तान मे क्या क्या होगा| कौन देश चलायेगा! और सबका भविष्य क्या होगा ! कड़वा सच यह है कि देश को बाहर से ज्यादा अन्दर से बहुत ज्यादा खतरा है! दोस्तों इंसानियत के नाते आपसे हाथ जोड़कर विनती है कि यह वीडियो हर एक ग्रुप मे भेजना है कल शाम तक हर एक न्यूज़ चैनल मे आना चाहिये!

पोस्ट का आर्काइव्ड वर्जन यहां देखा जा सकता है।

पड़ताल

विश्वास न्यूज ने वायरल वीडियो की पड़ताल करने के लिए सबसे पहले इनविड टूल की मदद से वीडियो के कीफ्रेम्स काटे और इनमें से एक कीफ्रेम को गूगल रिवर्स इमेज सर्च की मदद से ढूंढा। हमें कुछ मीडिया रिपोर्ट्स में यह वीडियो मिला। फरवरी 2021 में छपी इन मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, यह घटना राजस्थान के भरतपुर के जुरहरा कस्बे की थी, जहां हरियाणा पुलिस का एक कॉन्स्टेबल एक केस के सिलसिले में आया था।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, भरतपुर हरियाणा की सीमा के पास पुनहाना थाने का कॉन्स्टेबल एक केस की जांच के लिए जुरहरा गया था, लेकिन बाजार से निकलते समय उसकी गाड़ी एक दूसरी गाड़ी से टकरा गई, जिसके चलते कहासुनी के बाद स्थानीय लोगों ने बीच सड़क ही पुलिसकर्मी की पिटाई कर दी।

हमने घटना का शिकार हुए पुनहाना के हेड कॉन्स्टेबल जगराम से संपर्क किया। उन्होंने हमें बताया कि घटना 23 फरवरी की है जब वे पुनहाना से भागे एक कपल के बारे में जानकारी लेने जुरहरा गए थे। उन्होंने बताया कि जुरहरा थाने में एक कपल को बैठा कर रखा गया था और वे कपल की तफ्तीश करने जा रहे थे कि बाजार में उनकी गाड़ी एक अन्य व्यक्ति की गाड़ी से टकरा गई। जब उन्होंने उस व्यक्ति को समझाने और देखकर गाड़ी चलाने की नसीहत दी तो दोनों में कहासुनी हो गई, इसके बाद देखते ही देखते वहां भीड़ जमा हो गई और कुछ लोगों ने उनके साथ मारपीट शुरू कर दी। उन्होंने बताया कि वायरल वीडियो के साथ किया जा रहा दावा गलत है, न तो यह वीडियो बरेली का है और न ही मामला चलान काटने से जुड़ा है।

हमें बरेली पुलिस का एक ट्वीट भी मिला, जिसमें बरेली पुलिस ने इस वीडियो के साथ किए गए दावे का खंडन किया है।

अब बारी थी फेसबुक पर वीडियो को साझा करने वाले यूजर Sumit Sharma की प्रोफाइल को स्कैन करने का। प्रोफाइल को स्कैन करने पर हमने पाया कि खबर लिखे जाने तक लोग 157 फॉलो कर रहे थे। हालांकि, उन्होंने इस वीडियो को Yati Narsinghanand Saraswati JI नामक पेज पर शेयर किया था, जिसमें खबर लिखे जाने तक 5400 से ज्यादा सदस्य थे।

निष्कर्ष: हमारी पड़ताल में यह साफ हुआ कि वायरल वीडियो के साथ किया गया दावा गलत है। वायरल वीडियो बरेली का नहीं, राजस्थान के भरतपुर जिले का है और तीन माह पुराना है।

  • Claim Review : बरेली में पुलिसकर्मी ने चलान काटा तो मुस्लिम युवकों ने उसकी सड़क पर ही पिटाई कर दी।
  • Claimed By : FB User:Sumit Sharma
  • Fact Check : झूठ
झूठ
    फेक न्यूज की प्रकृति को बताने वाला सिंबल
  • सच
  • भ्रामक
  • झूठ

पूरा सच जानें... किसी सूचना या अफवाह पर संदेह हो तो हमें बताएं

सब को बताएं, सच जानना आपका अधिकार है। अगर आपको ऐसी किसी भी मैसेज या अफवाह पर संदेह है जिसका असर समाज, देश और आप पर हो सकता है तो हमें बताएं। आप हमें नीचे दिए गए किसी भी माध्यम के जरिए जानकारी भेज सकते हैं...

टैग्स

संबंधित लेख

Post saved! You can read it later