X

Fact Check: कोरोना वैक्सीन लगाने के बाद नहीं हुई अमेरिकी नर्स की मौत, वायरल दावा गलत है

  • By Vishvas News
  • Updated: January 25, 2021

नई दिल्ली (विश्वास न्यूज)। सोशल मीडिया पर कोरोना वैक्सीन को लेकर एक दावा वायरल हो रहा है। ट्विटर पर एक वीडियो पोस्ट कर दावा किया जा रहा है कि अमेरिका में कोरोना इंजेक्शन लगाने वाली महिला की कुछ सेकंड में मौत हो गई। दावा किया जा रहा है कि यह कथित घटना का लाइव वीडियो है। विश्वास न्यूज की पड़ताल में ये दावा झूठा निकला है। वायरल वीडियो एक अमेरिकी नर्स से जुड़ा है। वैक्सीन लगवाने के बाद उन्हें प्री-मेडिकल कंडीशन की वजह से बेहोशी आ गई थी। इस वीडियो को ही गलत दावे से वायरल किया जा रहा है। नर्स सुरक्षित और स्वस्थ हैं।

क्या हो रहा है वायरल

AIJAZ HUSAIN नाम के एक ट्विटर यूजर ने अपनी प्रोफाइल से एक वीडियो ट्वीट किया है। इस ट्वीट के कैप्शन में लिखा है, ‘अमेरिका में कोरोना इंजेक्शन लगाने वाली महिला की कुछ सेकंड में मौत …. लाइव वीडियो …।’ इस ट्वीट का आर्काइव्ड वर्जन यहां क्लिक कर देखा जा सकता है।

पड़ताल

विश्वास न्यूज ने सबसे पहले इस वायरल वीडियो को बारीकी से देखा। इस वीडियो में डॉक्टर के पहनावे में मौजूद कुछ लोग किसी को घेर कर खड़े दिख रहे हैं। 45 सेकंड लंबे इस वीडियो में कुछ कैमरामैन भी दिख रहे हैं। विश्वास न्यूज ने इस दावे को इंटरनेट पर खोजने की कोशिश की। हमें यही दावा फेसबुक पर भी वायरल मिला। JOSH express kushinagar नाम के फेसबुक पेज पर 23 जनवरी 2021 को इसी वायरल वीडियो के लंबे हिस्से को पोस्ट कर यही दावा किया गया है। इस पोस्ट के आर्काइव्ड लिंक को यहां क्लिक कर देखा जा सकता है।

फेसबुक पेज पर अपलोड किया गया यह वीडियो 1 मिनट 56 सेकंड है। इसकी शुरुआत में पता चल जा रहा है कि यह वीडियो news 9 abc नाम के न्यूज चैनल की एक रिपोर्ट है। इसमें बताया जा रहा है कि फ्रंटलाइन वर्कर्स को कोरोना वैक्सीन दिए जाने के क्रम में वीडियो में दिख रही नर्स को भी वैक्सीन लगाई गई थी। वीडियो में वैक्सीन लेने वाली नर्स रिपोर्टरों से बात के दौरान ही बेहोश होती देखी जा सकती है (वीडियो में 55 सेकंड के बाद का हिस्सा)। ट्विटर पर पोस्ट किया गया वीडियो इसी वीडियो के बाद का हिस्सा है, जहां बेहोश होने वाली नर्स को वहां मौजूद मेडिकल स्टाफ घेर कर खड़ा दिख रहा है।

फेसबुक पर पोस्ट किए गए वीडियो के शुरुआती हिस्से का स्क्रीनशॉट।

फेसबुक पर शेयर की गई इस न्यूज रिपोर्ट के शुरुआती हिस्से में लोअर बैंड (घेरे में) पर लिखा है कि सीएचआई मेमोरियल में पहला वैक्सीनेशन शुरू।

हमने इस नई जानकारी के आधार पर इस मामले को एक बार फिर इंटरनेट पर खंगाला। हमें बिजनेस टुडे नाम के यूट्यूब चैनल पर 19 दिसंबर 2020 को अपलोड की गई एक न्यूज रिपोर्ट मिली। इसमें बताया गया है कि अमेरिका के टेनेसी की टिफनी ड्रोवर नाम की नर्स कोरोना वैक्सीन लेने के बाद बेहोश हो गई। यह वीडियो भी वायरल वीडियो का बड़ा हिस्सा ही है। इसे यहां नीचे देखा जा सकता है।

हमें यूट्यूब पर सर्च के दौरान इनसाइड एडिशन नाम के चैनल पर भी टिफनी ड्रोवर के बेहोश होने से जुड़ी रिपोर्ट मिली। इसमें बताया गया है कि टिफनी को पहले से स्वास्थ्य समस्याएं और वह अक्सर बेहोश हो जाती हैं। इस न्यूज रिपोर्ट में उन्हें खुद इस बात को स्वीकार करते हुए (22 सेकंड से 29 सेकंड के बीच) देखा जा सकता है।

WRCB Chattanooga नाम के यूट्यूब चैनल पर भी 18 दिसंबर 2020 को एक वीडियो पोस्ट किया गया है। इस वीडियो में भी टिफनी खुद के बेहोश होने की वजह बताते और इसे एक खास मेडिकल कंडीशन से जुड़े होने की बात कहती देखी जा सकती हैं।

बिजनेस स्टैंडर्ड की साइट पर 21 दिसंबर 2020 को प्रकाशित रिपोर्ट में भी पुष्टि की गई है कि टिफनी बेहोश होने के बाद ठीक हो गई थीं।

इंटरनेट पर पड़ताल के दौरान विश्वास न्यूज को ऑस्ट्रेलियन एसोसिएटेड पोस्ट की एक रिपोर्ट मिली। इसमें भी बताया गया है कि कोविड वैक्सीन लेने के बाद बेहोश हुई नर्स टिफनी की मौत नहीं हुई। इस रिपोर्ट में सीएचआई मेमोरियल की तरफ से जारी एक बयान का भी जिक्र किया गया है, जिसमें इस घटनाक्रम को विस्तार से बताया गया है। इसके मुताबिक, 17 दिसंबर 2020 को सीएचआई मेमोरियल ने तीन फिजिशियन और 3 नर्सों को कोविड-19 वैक्सीन लगाई थी। इसमें एक नर्स टिफनी ड्रोवर थीं, जिन्हें मीडिया इंटरव्यू के दौरान चक्कर आ गया। हालांकि, उन्होंने अपने होश नहीं खोए और तुरंत ठीक भी हो गईं।

विश्वास न्यूज ने सीएचआई मेमोरियल के बारे में इंटरनेट पर तलाश की। ये टेनेसी के चट्टनूगा में स्थित अस्पताल है। हमें सीएचआई मेमोरियल की आधिकारिक वेबसाइट (https://www.memorial.org/) के कॉन्टैक्ट अस (https://www.memorial.org/en/contact-us.html) सेक्शन से अस्पताल के मीडिया स्पेशलिस्ट केरेन लॉन्ग की ईमेल आईडी मिली। विश्वास न्यूज ने केरेन से मेल पर नर्स टिफनी के मामले की जानकारी मांगी। केरेन ने हमें जवाब देते हुए बताया कि टिफनी जीवित हैं और ठीक भी हैं।

विश्वास न्यूज ने इस वायरल दावे को ट्वीट करने वाली AIJAZ HUSAIN नाम की प्रोफाइल को स्कैन किया। यह प्रोफाइल जून 2019 में बनाई गई है और फैक्ट चेक किए जाने तक इसके 114 फॉलोअर्स थे।

निष्कर्ष: कोरोना वैक्सीन लेने के बाद टिफनी ड्रोवर नाम की अमेरिकी नर्स को चक्कर आ गया था। पहले से मौजूद स्वास्थ्य समस्याओं की वजह से ऐसा हुआ और नर्स टिफनी स्वस्थ व जिंदा हैं। सोशल मीडिया पर उनकी मौत का झूठा दावा शेयर किया जा रहा है।

Disclaimer: विश्वास न्यूज की कोरोना वायरस (COVID-19) से जुड़ी फैक्ट चेक स्टोरी को पढ़ते या उसे शेयर करते वक्त आपको इस बात का ध्यान रखना होगा कि जिन आंकड़ों या रिसर्च संबंधी डेटा का इस्तेमाल किया गया है, वह परिवर्तनीय है। परिवर्तनीय इसलिए, क्योंकि इस महामारी से जुड़े आंकड़ें (संक्रमित और ठीक होने वाले मरीजों की संख्या, इससे होने वाली मौतों की संख्या) में लगातार बदलाव हो रहा है। इसके साथ ही इस बीमारी का वैक्सीन खोजे जाने की दिशा में चल रहे रिसर्च के ठोस परिणाम आने बाकी हैं और इस वजह से इलाज और बचाव को लेकर उपलब्ध आंकड़ों में भी बदलाव हो सकता है। इसलिए जरूरी है कि स्टोरी में इस्तेमाल किए गए डेटा को उसकी तारीख के संदर्भ में देखा जाए।

  • Claim Review : दावा किया जा रहा है कि अमेरिका में कोरोना इंजेक्शन लगाने वाली महिला की कुछ सेकंड में मौत हो गई।
  • Claimed By : AIJAZ HUSAIN
  • Fact Check : झूठ
झूठ
    फेक न्यूज की प्रकृति को बताने वाला सिंबल
  • सच
  • भ्रामक
  • झूठ

पूरा सच जानें... किसी सूचना या अफवाह पर संदेह हो तो हमें बताएं

सब को बताएं, सच जानना आपका अधिकार है। अगर आपको ऐसी किसी भी मैसेज या अफवाह पर संदेह है जिसका असर समाज, देश और आप पर हो सकता है तो हमें बताएं। आप हमें नीचे दिए गए किसी भी माध्यम के जरिए जानकारी भेज सकते हैं...

टैग्स

संबंधित लेख

Post saved! You can read it later