X

Quick Fact Check: सेब खाते भालुओं की यह तस्वीर कश्मीर की नहीं यूएस की है, फर्जी पोस्ट फिर हुआ वायरल

  • By Vishvas News
  • Updated: February 22, 2021

नई दिल्‍ली (Vishvas News)। सोशल मीडिया पर एक तस्वीर फिर से वायरल हो रही है, जिसमें पेड़ के नीचे काले भालू सेब खाते दिख रहे हैं। विश्वास न्यूज को यह तस्वीर वॉट्सऐप चैटबॉट नंबर +91 95992 99372 पर फैक्ट चेक की रिक्वेस्ट के साथ मिली। पोस्ट के साथ दावा किया गया था कि यह तस्वीर कश्मीर में ली गई थी।

विश्वास न्यूज ने पड़ताल में पाया कि वायरल पोस्ट के साथ किया जा रहा दावा गलत है। यह तस्वीर कश्मीर की नहीं, बल्कि यूएस के न्यू हैम्पशायर में स्थित किलहम बेयर सेंटर की है।

क्या है वायरल पोस्ट में?

विश्वास न्यूज को वॉट्सऐप चैटबॉट (+91 95992 99372) पर यह तस्वीर फैक्टचेक के लिए मिली, जिसके साथ दावा किया गया था: कश्मीर में भालू सेब खाते हुए।

पड़ताल

विश्वास न्यूज ने पड़ताल शुरू करते हुए सबसे पहले वायरल तस्वीर को गूगल रिवर्स इमेज सर्च की मदद से ढूंढा। हमें यह तस्वीर Diply नामक वेबसाइट पर 26 सितंबर 2020 को छपी एक रिपोर्ट में मिल गई।

इस फोटो में यूएस में रहने वाले स्क्रीनराइटर जॉन फस्को को क्रेडिट दिया गया था। जॉन फस्को ने 25 सितंबर 2020 को सेब खाते हुए इन भालुओं की वीडियो अपने वेरिफाइड ट्विटर हैंडल से ट्वीट की थी। हालांकि, ट्वीट के साथ कहीं लोकेशन का जिक्र नहीं किया गया है, लेकिन फस्को ने अपने प्रोफाइल डिस्क्रिप्शन में Kilham Bear Center का लिंक दिया हुआ है।

किलहम बेयर सेंटर ने यह पुष्टि की कि यह तस्वीर न्यू हैम्पशायर स्थित उनके सेंटर पर ही ली गई थी। पूरा फैक्ट चेक यहां पढ़ा जा सकता है।

निष्कर्ष: पेड़ के नीचे सेब खाते भालुओं की यह तस्वीर कश्मीर की नहीं, बल्कि यूएस स्थित कंजर्वेशन सेंटर की है।

  • Claim Review : कश्मीर में सेब खाते भालू
  • Claimed By : Whatsapp user
  • Fact Check : झूठ
झूठ
    फेक न्यूज की प्रकृति को बताने वाला सिंबल
  • सच
  • भ्रामक
  • झूठ

पूरा सच जानें... किसी सूचना या अफवाह पर संदेह हो तो हमें बताएं

सब को बताएं, सच जानना आपका अधिकार है। अगर आपको ऐसी किसी भी मैसेज या अफवाह पर संदेह है जिसका असर समाज, देश और आप पर हो सकता है तो हमें बताएं। आप हमें नीचे दिए गए किसी भी माध्यम के जरिए जानकारी भेज सकते हैं...

टैग्स

संबंधित लेख

Post saved! You can read it later