X

Fact Check: ग्रीस की पुरानी तस्वीर को कनाडा के जंगलों में लगी आग का बता कर किया जा रहा है वायरल

हमारी पड़ताल में हमने पाया कि यह जानकारी गलत है। वायरल हो रही तस्वीर पुरानी है, और कनाडा की नहीं, ग्रीस की है।

  • By Vishvas News
  • Updated: July 11, 2021

नई दिल्ली (विश्वास टीम) सोशल मीडिया पर एक पोस्ट वायरल हो रही है, जिसमें जंगल में लगी आग की 1 तस्वीर है। पोस्ट में दावा किया गया है कि यह तस्वीर कनाडा के जंगलों में फैली आग की है। हमारी पड़ताल में हमने पाया कि यह जानकारी गलत है। वायरल हो रही तस्वीर पुरानी है, और कनाडा की नहीं, ग्रीस की है।

क्या हो रहा है वायरल?

सोशल मीडिया पर शेयर की जा रही इस पोस्ट में जंगल में लगी आग की तस्वीर है। पोस्ट में दावा किया गया है कि यह तस्वीर कनाडा के जंगलों में फैली आग की है। पोस्ट में क्लेम किया गया है, “कनाडा में भीषण गर्मी ने तोड़ा पुराना रिकॉर्ड! पांच सौ से ज्यादा लोगों की मौत! कनाडा में भीषण गर्मी ने ब्रिटिश कोलंबिया के कुछ हिस्सों में जंगल में आग लगा दी है। सूबे का लाइटन गांव जल कर राख हो गया है. अगर अग्रिम चेतावनी न दी जाती तो इस गांव में करीब ढाई सौ लोगों की मौत हो जाती। अधिकारियों से प्रारंभिक चेतावनी मिलने के बाद, आग लगने से पहले ग्रामीणों ने खाली कर दिया। लाइटन गांव में तापमान करीब 50 डिग्री सेल्सियस पहुंच गया। स्थानीय अधिकारियों का कहना है कि पूरा गांव जलकर राख हो गया है. सूबे में 24 घंटे में कम से कम 72 बार आग लग चुकी है। ‘हिट डोम’ का प्रभाव कनाडा के इतिहास में दर्ज किया गया उच्चतम तापमान है। अधिकारियों का कहना है कि इसने उच्च तापमान के लिए देश का 64 साल पुराना रिकॉर्ड तोड़ दिया है। कनाडा में पिछले एक हफ्ते में भीषण गर्मी से कम से कम 500 लोगों की मौत हो गई है। न केवल कनाडा में, बल्कि उत्तर-पश्चिमी संयुक्त राज्य अमेरिका में भी। गर्म समुद्री हवा के वातावरण में फंसने पर जो उच्च दाब बनता है उसे ‘हीट डोम’ कहा जाता है। इस घातक हीटस्ट्रोक से और अधिक मौतें हो सकती हैं। ब्रिटिश कोलंबिया राज्य के प्रमुख जॉन हारगन ने एक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि वह यह नहीं बता सकते कि इस समय आग का खतरा कितना अधिक था, क्योंकि ब्रिटिश कोलंबिया के लगभग सभी हिस्सों में आग लगी हुई थी।”.

इस पोस्ट के आर्काइव वर्जन को यहां देखा जा सकता है।

पड़ताल

हमने अपनी पड़ताल को शुरू करने के लिए सबसे पहले इस को गूगल रिवर्स इमेज पर सर्च किया। हमें यह तस्वीर सबसे पहले apimages.com पर मिली। यहाँ मौजूद जानकारी के अनुसार इस 27 अगस्त, 2007 को निकोलस गियाकोमिडिस नाम के फोग्राफर द्वारा खींचा गया था। पोस्ट के साथ डिस्क्रिप्शन में लिखा था “आग की लपटें सोमवार 27 अगस्त 2007 को पेलोपोनिसे प्रायद्वीप के एंड्रित्सेना गांव के बाहर जूडोहो पिगी में एक चर्च तक पहुंच गईं। क्षेत्र के कई गांवों को बड़े पैमाने पर जंगल की वजह से खाली कर दिया गया था। आग तेज हवाओं के कारण दक्षिणी ग्रीस के और भी इलाकों में फ़ैल रही है, जिसमें 63 से अधिक लोग मारे गए हैं।

हमें यह तस्वीर इसी डिस्क्रिप्शन के साथ allehanda.se की एक खबर में भी मिली। इस खबर को 30 अगस्त, 2007 को पब्लिश किया गया था।

हमने इस विषय में इस तस्वीर को खींचने वाले एपी के फोटोजर्नलिस्ट निकोलस गियाकोमिडिस से लिंक्डइन के ज़रिये संपर्क साधा। उन्होंने कन्फर्म किया कि तस्वीर उन्होंने ही 2007 में ग्रीस में खींची थी।

कीवर्ड सर्च करने पर हमें पता चला कि यह कनाडा में इस वक्त भीषण गर्मी का प्रकोप जारी है, जिस कारणवश वहां कई जगहों पर जंगलों में आग लग गयी है। npr.org की खबर के अनुसार “कनाडा में आपातकालीन प्रतिक्रियाकर्ता वर्तमान में ब्रिटिश कोलंबिया में 180 से अधिक जंगल की आग से जूझ रहे हैं, जिसमें भीषण गर्मी की लहर है, जिससे प्रशांत नॉर्थवेस्ट में सैकड़ों लोग मारे गए हैं।”

इस पोस्ट को ‘Farhan Rafid’ नाम के एक फेसबुक यूजर ने जुलाई 2 को शेयर किया था। प्रोफ़ाइल के अनुसार यूजर बांग्लादेश का रहनेवाला है और मोंट्रियल में रहता है।

निष्कर्ष: हमारी पड़ताल में हमने पाया कि यह जानकारी गलत है। वायरल हो रही तस्वीर पुरानी है, और कनाडा की नहीं, ग्रीस की है।

  • Claim Review : Intense heat flow in Canada breaking old records! More than five hundred people died!
  • Claimed By : Farhan Rafid
  • Fact Check : भ्रामक
भ्रामक
फेक न्यूज की प्रकृति को बताने वाला सिंबल
  • सच
  • भ्रामक
  • झूठ

पूरा सच जानें... किसी सूचना या अफवाह पर संदेह हो तो हमें बताएं

सब को बताएं, सच जानना आपका अधिकार है। अगर आपको ऐसी किसी भी मैसेज या अफवाह पर संदेह है जिसका असर समाज, देश और आप पर हो सकता है तो हमें बताएं। आप हमें नीचे दिए गए किसी भी माध्यम के जरिए जानकारी भेज सकते हैं...

टैग्स

अपना सुझाव पोस्ट करें
और पढ़े

No more pages to load

संबंधित लेख

Next pageNext pageNext page

Post saved! You can read it later