X

Elections Fact Check: पंजाब विधानसभा चुनाव 2022 से संबंधित टॉप 5 फैक्ट चेक रिपोर्ट्स

पंजाब विधानसभा चुनाव 2022 से संबंधित उन पांच दावों की पड़ताल, जिन्हें सोशल मीडिया पर धड़ल्ले से सच मानते हुए शेयर किया गया।

  • By Vishvas News
  • Updated: January 28, 2022

नई दिल्ली (विश्वास न्यूज)। पंजाब समेत पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव की तारीखों की घोषणा हो चुकी है और इसके साथ ही सभी दल वर्चुअल स्पेस पर जहां न केवल अपनी बात मतदाताओं तक पहुंचाने की कोशिश कर रहे हैं, वहीं एक-दूसरे के खिलाफ सियासी हमला भी कर रहे हैं। चुनावी गहमागहमी की वजह से सोशल मीडिया के विभिन्न प्लेटफॉर्म्स पर ऐसे कई पोस्ट्स को साझा किया जा रहा है, जो अपनी प्रकृति में भ्रामक या फर्जी होते हुए यूजर्स को वास्तविक प्रतीत होते हैं। विश्वास न्यूज की #Electionsfactcheck में आज हम उन पांच टॉप फैक्ट चेक रिपोर्ट्स का जिक्र कर रहे हैं, जो पंजाब विधानसभा चुनाव से संबंधित हैं।

1. क्या है शराब की दुकान पर भगवंत मान के साथ बैठे नजर आ रहे दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की वायरल तस्वीर का सच?

सोशल मीडिया पर पंजाब आम आदमी पार्टी के अध्यक्ष और पार्टी की तरफ से मुख्यमंत्री पद के घोषित प्रत्याशी भगवंत मान के साथ दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की एक तस्वीर तेजी से सोशल मीडिया पर वायरल हुई, जिसमें दोनों नेता शराब की एक दुकान के बाहर बैठे नजर आ रहे हैं।

विश्वास न्यूज ने अपनी जांच में पाया कि वायरल हो रही यह तस्वीर फेक है और इसे सियासी दुष्प्रचार की मंशा से एडिट कर तैयार किया गया था। वास्तव में दोनों नेता 14 जनवरी को चमकौर साहिब में किसानों से मिले थे और उनके पीछे सरसों के हरे-भरे खेत नजर आ रहे थे। इसी तस्वीर को एडिट कर सोशल मीडिया पर दुष्प्रचार की मंशा से वायरल कर दिया गया है। हमारी फैक्ट चेक रिपोर्ट को यहां पढ़ा जा सकता है।

2. क्या है पीएम मोदी की हालिया पंजाब यात्रा के दौरान हुई सुरक्षा चूक के दौरान खालिस्तान जिंदाबाद का नारा लगाते हुए युवाओं के वीडियो का सच?

कुछ हफ्तों पहले पंजाब की यात्रा के दौरान प्रधानमंत्री की सुरक्षा में गंभीर चूक का मामला सामने आया था। इसी यात्रा से जोड़कर सोशल मीडिया यूजर्स एक वीडियो को साझा कर रहे हैं, जिसमें कुछ पंजाबी युवाओं को ‘खालिस्तान जिंदाबाद’ का नारा लगाते हुए सुना और देखा जा सकता है। दावा किया जा रहा है कि यह वीडियो पांच जनवरी 2022 का पीएम मोदी के फिरोजपुर दौरे से संबंधित है और उनकी यात्रा के दौरान इस तरह के नारे लगाए गए थे।

भ्रामक दावे के साथ वायरल हो रहे वीडियो का स्क्रीनशॉट

विश्वास न्यूज ने अपनी जांच में पाया कि ‘खालिस्तान जिंदाबाद’ के नारे लगाते युवकों का यह वीडियो सही है, लेकिन इसका पीएम के पंजाब दौरे से कोई संबंध नहीं है। यह वीडियो सोशल मीडिया पर दिसंबर 2021 से मौजूद है, जबकि प्रधानमंत्री की पंजाब यात्रा जनवरी 2022 में हुई थी।

3. क्या राघव चड्ढा ने भगवंत मान को बताया शराबी?

आम आदमी पार्टी की तरफ से भगवंत मान को पंजाब में पार्टी का मुख्यमंत्री उम्मीदवार घोषित किए जाने के ऐलान के बाद सोशल मीडिया पर राघव चड्ढा के नाम से भगवंत मान को लेकर एक बयान को धड़ल्ले से शेयर किया गया। चड्ढा ने कहा, ‘जैसे लोहा लोहे को काटता है, वैसे ही शराबी नशे को खत्म करेगा।’

हमने अपनी जांच में पाया कि राघव चड्ढा के नाम से भगवंत मान को शराबी बताए जाने के दावे के साथ वायरल हो रहा बयान मनगढ़ंत है। एक हिंदी न्यूज चैनल के ब्रेकिंग प्लेट को एडिट कर इस बयान को दुष्प्रचार की मंशा से तैयार किया गया था। विश्वास न्यूज की विस्तृत फैक्ट चेक रिपोर्ट को यहां पढे़ं।

4. क्या है बॉलीवुड अभिनेता सोनू सूद के कांग्रेस में शामिल होने का सच?

पंजाब समेत पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव की तारीखों की घोषणा के साथ ही सोशल मीडिया पर बॉलीवुड अभिनेता सोनू सूद की एक तस्वीर वायरल हुई, जिसमें उन्हें पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी और नवजोत सिंह सिद्धू के साथ देखा जा सकता है। दावा किया गया है कि अभिनेता सोनू सूद और उनकी बहन दोनों ही कांग्रेस में शामिल हो गए हैं।

विश्वास न्यूज ने अपनी जांच में इस दावे को भ्रामक पाया। वायरल हो रही तस्वीर सही थी, लेकिन उसके साथ किया गया दावा भ्रामक था। दरअसल सोनू सूद की बहन कांग्रेस में शामिल हुई थी और यह तस्वीर उसी मौके की थी, जिसमें सोनू सूद भी नजर आ रहे हैं। इसी तस्वीर को लेकर यह भ्रामक दावा किया गया है कि सोनू सूद कांग्रेस में शामिल हो गए हैं।

5. क्या टिकट बंटवारे से नाराज उम्मीदवारों ने कर दी आम आदमी पार्टी के नेता राघव चड्ढा की पिटाई?

सोशल मीडिया पर एक वायरल वीडियो को लेकर दावा किया गया कि पंजाब के जालंधर में आप कार्यकर्ताओं ने राघव चड्ढा के साथ मारपीट की। वायरल वीडियो में भीड़ को आपस में हाथापाई करते हुए देखा भी जा सकता है।

हमने अपनी जांच में पाया कि वायरल वीडियो सही है, जिसमें टिकट बंटवारे से नाराज आप कार्यकर्ताओं ने नारेबाजी करते हुए आपस में हाथापाई करनी शुरू कर दी, लेकिन राघव चड्ढा के साथ मारपीट की कोई घटना नहीं हुई। जब कार्यकर्ताओं के बीच हाथापाई की शुरुआत हुई तब राघव चड्ढा दूसरे दरवाजे से बाहर निकल गए।

चुनावों से संबंधित किसी भी संदिग्ध संदेशों की पड़ताल के लिए आप हमें हमारे वॉट्सऐप नंबर 9205270923 और ईमेल contact@vishvasnews.com पर भी संपर्क कर सकते हैं।

पूरा सच जानें... किसी सूचना या अफवाह पर संदेह हो तो हमें बताएं

सब को बताएं, सच जानना आपका अधिकार है। अगर आपको ऐसी किसी भी मैसेज या अफवाह पर संदेह है जिसका असर समाज, देश और आप पर हो सकता है तो हमें बताएं। आप हमें नीचे दिए गए किसी भी माध्यम के जरिए जानकारी भेज सकते हैं...

टैग्स

अपना सुझाव पोस्ट करें
और पढ़े

No more pages to load

संबंधित लेख

Next pageNext pageNext page

Post saved! You can read it later