X

Fact Check: बिहार के सिवान जिले में तिरंगे से जुड़ी पुरानी घटना को बंगाल के नाम से किया जा रहा है वायरल

  • By Vishvas News
  • Updated: July 1, 2020

नई दिल्ली (विश्वास टीम)। सोशल मीडिया पर वायरल हो रही एक तस्वीर में एक व्यक्ति को तिरंगे का अपमान करते हुए देखा जा सकता है। दावा किया जा रहा है कि यह तस्वीर कोलकाता की है, जहां महेशतला के संतोषपुरी में रहने वाले किसी व्यक्ति ने तिरंगे का अपमान करते हुए उसकी तस्वीर को फेसबुक पर डाला।

विश्वास न्यूज की पड़ताल में यह दावा गलत निकला। तिरंगे के अपमान की जिस तस्वीर को पश्चिम बंगाल का बताकर वायरल किया जा रहा है, वह बिहार के सिवान जिले में हुई पुरानी घटना की तस्वीर है, जिसमें आरोपी को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया था।

क्या है वायरल पोस्ट में?

फेसबुक यूजर ‘स्वयंसेवक डॉ आशुतोष पांडेय’ ने वायरल तस्वीर को शेयर (आर्काइव लिंक) करते हुए लिखा है, ”यह कोलकाता के महेशतला में संतोषपूरी का रहने वाला है।इसे इतना वायरल करें की इसकी गिरफ्तारी हो सके…!”

कई अन्य यूजर्स ने इस तस्वीर को समान और मिलते-जुलते दावे के साथ शेयर किया है।

पड़ताल

रिवर्स इमेज किए जाने पर हमें कई पुरानी रिपोर्ट्स का लिंक मिला, जिसमें इस घटना का विवरण है। siwanonline.com पर 30 अगस्त 2018 को प्रकाशित रिपोर्ट के मुताबिक, सिवान जिले के पचरुखी थाना क्षेत्र के जसौली शेखपट्टी में एक युवक को पाकिस्तानी झंडा पहनकर राष्ट्रीय ध्वज का अपमान किए जाने के मामले में पुलिस ने गिरफ्तार किया था।

स्थानीय न्यूज पोर्टल सिवान ऑनलाइन डॉट कॉम पर 30 अगसत 2018 को प्रकाशित खबर

यहां से मिले की-वर्ड के साथ न्यूज सर्च करने पर हमें प्रभात खबर की वेबसाइट पर 30 अगस्त 2018 को यही खबर मिली।

प्रभात खबर में 30 अगस्त 2018 को प्रकाशित खबर

खबर के मुताबिक, ‘बिहार के सिवान में कुछ दिनों पूर्व राष्ट्रीय ध्वज तिरंगे का अपमान कर उसकी तस्वीर फेसबुक पर पोस्ट करने वाले युवक को पचरुखी थाने की पुलिस ने गिरफ्तार कर जेल भेज दिया। नगर थाने में पत्रकारों से बातचीत करते हुए एसपी नवीन चंद्र झा ने बताया कि मामले की जानकारी होते ही पुलिस ने इस गंभीरता से लिया। जब पुलिस को पता चला कि तिरंगे का अपमान कर फेसबुक पर फोटो डालने वाला युवक पचरुखी थाने का ही है तो पुलिस ने जांच तेज कर दिया। उसके बाद जसौली शेख पट्टी से युवक शाजिद हुसैन को गिरफ्तार किया।’

हमें ‘पंजाब केसरी बिहार’ नाम के यूट्यबू चैनल पर 31 अगस्त 2018 को अपलोड किए गए बुलेटिन में वायरल हो रही तस्वीर भी दिखी।

वीडियो बुलेटिन के साथ दी गई जानकारी में वही दावा किया गया है, जो अन्य न्यूज रिपोर्ट में है। इसके बाद हमने सिवान जिले के पचरुखी थाने के प्रभारी से संपर्क किया। थाना प्रभारी आर के मंडल ने बताया, ‘यह पुरानी घटना है, जिसमें कार्रवाई करते हुए आरोपी युवक को गिरफ्तार कर लिया गया था।’

वायरल तस्वीर को गलत दावे के साथ शेयर करने वाले यूजर ने अपनी प्रोफाइल में खुद को आरएसएस का स्वयंसेवक बताया है, जो गोरखपुर के रहने वाले हैं।

निष्कर्ष: राष्ट्रीय ध्वज का अपमान करने वाली तस्वीर पश्चिम बंगाल की नहीं, बल्कि बिहार के सिवान जिले से संबंधित है, जहां अगस्त 2018 में एक युवक ने पाकिस्तानी झंडा पहनकर राष्ट्रीय ध्वज तिरंगा का अपमान किया था। इस घटना के सामने आने के बाद पुलिस ने कार्रवाई करते हुए युवक को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था।

  • Claim Review : बंगाल में किया गया राष्ट्रीय ध्वज तिरंगे का अपमान
  • Claimed By : FB User-स्वयंसेवक डॉ आशुतोष पांडेय
  • Fact Check : झूठ
झूठ
    फेक न्यूज की प्रकृति को बताने वाला सिंबल
  • सच
  • भ्रामक
  • झूठ

पूरा सच जानें... किसी सूचना या अफवाह पर संदेह हो तो हमें बताएं

सब को बताएं, सच जानना आपका अधिकार है। अगर आपको ऐसी किसी भी मैसेज या अफवाह पर संदेह है जिसका असर समाज, देश और आप पर हो सकता है तो हमें बताएं। आप हमें नीचे दिए गए किसी भी माध्यम के जरिए जानकारी भेज सकते हैं...

टैग्स

संबंधित लेख

Post saved! You can read it later