X

Fact Check: स्मृति ईरानी और ओवैसी की चार साल पुरानी तस्वीर को हैदराबाद नगर निगम चुनाव से जोड़कर किया जा रहा है वायरल

  • By Vishvas News
  • Updated: December 2, 2020

नई दिल्ली (विश्वास न्यूज)। सोशल मीडिया पर वायरल हो रही एक तस्वीर में असदुद्दीन ओवैसी को केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी के साथ देखा जा सकता है। दावा किया जा रहा है कि यह तस्वीर ग्रेटर हैदराबाद नगर निगम चुनाव (जीएचएमसी) से संबंधित है। सोशल मीडिया पर कई अन्य यूजर्स ने इस तस्वीर को ग्रेटर हैदराबाद ग्रेटर हैदराबाद नगर निगम के चुनाव से पहले हुई सीक्रेट बातचीत का एंगल देते हुए शेयर किया है।

विश्वास न्यूज की पड़ताल में यह दावा भ्रामक निकला। असदुद्दीन ओवैसी और स्मृति ईरानी की पुरानी तस्वीर को ग्रेटर हैदराबाद नगर निगम के चुनाव से जोड़कर गलत दावे के साथ वायरल किया जा रहा है।

क्या है वायरल पोस्ट में?

फेसबुक यूजर ‘Nilanjan Das’ ने तस्वीर (आर्काइव लिंक) को शेयर करते हुए लिखा है, ”What is Asaduddin Owaisi discussing with Smriti Zubin Irani? Mr. Goebbels Amit Malviya should be able to tell.”

सोशल मीडिया पर भ्रामक दावे के साथ वायरल हो रही पोस्ट

हिंदी में इसे ऐसे पढ़ा जा सकता है, ”असदुद्दीन ओवैसी स्मृति जुबिन ईरानी के साथ क्या विचार विमर्श कर रहे हैं? मिस्टर गोएबल्स अमित मालवीय को बताना चाहिए?” इस तस्वीर को 30 नवंबर को शेयर किया गया है, जिससे इसके हालिया होने का भान होता है। गौरतलब है कि एक दिसंबर को हैदराबाद नगर निगम चुनाव के लिए मतदान हो चुका है।

सोशल मीडिया के अलग-अलग प्लेटफॉर्म पर कई अन्य यूजर्स (आर्काइव लिंक)ने इन तस्वीरों को समान और मिलते-जुलते दावे के साथ शेयर किया है।

https://twitter.com/nikhil_09/status/1332969121667899393

पड़ताल

न्यूज रिपोर्ट के मुताबिक, ग्रेटर हैदराबाद नगर निगम चुनाव के लिए स्मृति ईरानी ने हैदराबाद में जाकर पार्टी के लिए चुनाव प्रचार किया था। उनके अलावा गृह मंत्री अमित शाह, बीजेपी के प्रेसिडेंट जेपी नड्डा और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ कई अन्य बड़े नेताओं ने हैदराबाद जाकर पार्टी के लिए चुनाव प्रचार किया था।

हालांकि, किसी भी न्यूज रिपोर्ट में हमें ओवैसी के साथ केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी की मुलाकात की खबर नहीं मिली। सर्च में हमें ऐसी कई खबरें मिली, जिसके मुताबिक गृह मंत्री समेत बीजेपी के अन्य वरिष्ठ नेताओं ने इस चुनाव के लिए प्रचार के दौरान ओवैसी और तेलंगाना के मुख्यमंत्री केसीआर पर निशाना साधा।

इसके बाद वायरल हो रही तस्वीर के साथ किए गए दावे की सत्यता को जांचने के लिए हमने गूगल रिवर्स इमेज सर्च की मदद ली। सर्च में हमें यह तस्वीर असदुद्दीन ओवैसी की ट्विटर प्रोफाइल पर मिली।

23 अगस्त 2016 को स्मृति ईरानी से मुलाकात की दो तस्वीरों वाली एक पोस्ट को रिट्वीट करते हुए ओवैसी ने लिखा था, ‘आखिर क्यों कांग्रेस का एक सांसद भी पावरलूम से जुड़ी मीटिंग में शामिल नहीं हुआ, जहां मैंने समस्याओं को सामने रखा। यह बताता है कि कांग्रेस बेहाल है।’

22 अगस्त को उन्होंने इस बैठक की जानकारी फेसबुक पर अपने वेरिफाइड प्रोफाइल से भी साझा किया है।

यहां से मिले कीवर्ड के आधार पर सर्च करने पर हमें ओवैसी की ट्विटर प्रोफाइल पर हमें 10 अगस्त 2016 का एक और ट्वीट मिला, जिसमें उन्होंने केंद्रीय कपड़ा मंत्री स्मृति ईरानी से मुलाकात की जानकारी दी है। उन्होंने लिखा है, ‘माननीय कपड़ा मंत्री स्मृति ईरानी से मिलकर उन्हें महाराष्ट्र और देश के पावर लूम सेक्टर के संकट की जानकारी दी।’

सर्च में हमें एक और ट्वीट मिला, जिसमें उन्होंने इस बैठक की दो तस्वीरों को साझा किया है।

विश्वास न्यूज ने इस तस्वीर को लेकर हैदराबाद में टीवी-9 के रिपोर्टर नूर मोहम्मद से संपर्क किया। उन्होंने कहा, ‘यह सही है कि ग्रेटर हैदराबाद नगर निगम के चुनाव में स्मृति ईरानी समेत बीजेपी के अन्य नेताओं ने पार्टी के पक्ष में प्रचार किया, लेकिन यह तस्वीर उससे संबंधित नहीं है।’

वायरल तस्वीर को गलत दावे के साथ शेयर करने वाले यूजर की प्रोफाइल को फेसबुक पर करीब एक हजार से ज्यादा लोग फॉलो करते हैं। यह प्रोफाइल फेसबुक पर जनवरी 2011 से सक्रिय है।

इससे पहले केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह की एक पुरानी तस्वीर को बंगाल चुनाव से जोड़कर गलत दावे के साथ वायरल किया गया था, जिसकी पड़ताल को यहां पढ़ा जा सकता है।

निष्कर्ष: ग्रेटर हैदराबाद नगर निगम चुनाव के प्रचार के दौरान असदुद्दीन ओवैसी से केंद्रीय कपड़ा मंत्री स्मृति ईरानी के मुलाकात का दावा करने वाली पोस्ट फर्जी है। दोनों नेताओं के बीच मुलाकात की यह तस्वीर करीब चार साल पुरानी है, जिसे गलत संदर्भ में वायरल किया जा रहा है।

  • Claim Review : हैदराबाद नगर निगम के चुनाव के पहले स्मृति ईरानी और ओवैसी के बीच सीक्रेट मीटिंग
  • Claimed By : FB User-Nilanjan Das
  • Fact Check : भ्रामक
भ्रामक
    फेक न्यूज की प्रकृति को बताने वाला सिंबल
  • सच
  • भ्रामक
  • झूठ

पूरा सच जानें... किसी सूचना या अफवाह पर संदेह हो तो हमें बताएं

सब को बताएं, सच जानना आपका अधिकार है। अगर आपको ऐसी किसी भी मैसेज या अफवाह पर संदेह है जिसका असर समाज, देश और आप पर हो सकता है तो हमें बताएं। आप हमें नीचे दिए गए किसी भी माध्यम के जरिए जानकारी भेज सकते हैं...

टैग्स

संबंधित लेख

Post saved! You can read it later