X

Fact Check: ये तस्वीरें अयोध्या में आयोजित इस दीपोत्सव कार्यक्रम की नहीं, पुरानी हैं

अयोध्या में पांचवें दीपोत्सव कार्यक्रम के दौरान बने गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड के नाम पर वायरल हो रही तस्वीरें 2019 में दीपोत्सव कार्यक्रम के दौरान की है।

  • By Vishvas News
  • Updated: November 9, 2021

नई दिल्ली (विश्वास न्यूज)। उत्तर प्रदेश के अयोध्या में दिवाली के मौके पर दीपोत्सव कार्यक्रम के बाद सोशल मीडिया पर वायरल हो रही कई तस्वीरों को लेकर दावा किया जा रहा है कि यह इस दिवाली के दौरान अयोध्या में 9 लाख 51 हजार दीपों को प्रज्ज्वलित कर रिकॉर्ड बनाया गया और वायरल हो रही सभी तस्वीरें इसी से संबंधित हैं।

विश्वास न्यूज की जांच में यह दावा भ्रामक निकला। वायरल पोस्ट में शामिल सभी तस्वीरें अयोध्या से ही संबंधित हैं, लेकिन यह हाल के दीपावली त्योहार से संबंधित नहीं हैं।

क्या है वायरल पोस्ट में?

फेसबुक यूजर ‘Kalidas Sarkar’ ने वायरल तस्वीरों को शेयर करते हुए लिखा है, ”9 लाख 51 हजार दीपों से सज रही #रामनगरी अयोध्या विश्व रिकॉर्ड बना रही है।”

कई अन्य यूजर्स ने इन तस्वीरों को समान और मिलते-जुलते दावे के साथ शेयर किया है।

पड़ताल

वायरल पोस्ट में तीन तस्वीरों का इस्तेमाल किया गया है। इसलिए हमने तीनों तस्वीरों की बारी-बारी से पड़ताल की।

पहली तस्वीर

वायरल हो रही पहली तस्वीर

गूगल रिवर्स इमेजेज सर्च में हमें यह तस्वीर टाइम्स ऑफ इंडिया की वेबसाइट पर 27 अक्टूबर 2019 को प्रकाशित रिपोर्ट में लगी मिली।


टाइम्स ऑफ इंडिया की वेबसाइट पर 27 अक्टूबर 2019 को प्रकाशित रिपोर्ट में इस्तेमाल की गई तस्वीर

रिपोर्ट के मुताबिक, ‘यह तस्वीर अयोध्या में वर्ष 2019 में दिवाली के दौरान सरयू नदी के किनारे आयोजित दीपोत्सव कार्यक्रम की है और इस दौरान 4.10 लाख दीपों को प्रज्ज्वलित किया गया।’

दूसरी तस्वीर

सोशल मीडिया पर वायरल हो रही दूसरी तस्वीर

गूगल रिवर्स इमेज सर्च में हमें यह तस्वीर द क्विंट की वेबसाइट पर 28 अक्टूबर 2019 को प्रकाशित रिपोर्ट में लगी मिली।


द क्विंट की वेबसाइट पर 28 अक्टूबर 2019 को प्रकाशित रिपोर्ट

रिपोर्ट के साथ दी गई जानकारी के मुताबिक, ‘अयोध्या में 26 अक्टूबर 2019 को भव्य दीपोत्सव का आयोजन किया गया और दिवाली की शाम सरयू नदी के किनारे छह लाख दीयों को प्रज्ज्वलित कर नया रिकॉर्ड बनाया गया।’

तीसरी तस्वीर

सोशल मीडिया पर वायरल हो रही तीसरी तस्वीर

गूगल रिवर्स इमेज सर्च करने पर हमें यह तस्वीर हिन्दुस्तान टाइम्स की वेबसाइट पर 26 अक्टूबर 2019 को प्रकाशित रिपोर्ट में लगी मिली।


हिन्दुस्तान टाइम्स की वेबसाइट पर 26 अक्टूबर 2019 को प्रकाशित रिपोर्ट में इस्तेमाल की गई तस्वीर

रिपोर्ट के साथ दी गई जानकारी के मुताबिक, ‘यह तस्वीर भी वर्ष 2019 में अयोध्या में दिवाली के मौके पर आयोजित दीपोत्सव से संबंधित है, जब एक साथ पांच लाख से अधिक दीपों को प्रज्ज्वलित किया गया।’

हमारी पड़ताल से यह स्पष्ट है कि इस दिवाली अयोध्या में दीपोत्सव के दौरान बने नए रिकॉर्ड के नाम पर वायरल हो रही तस्वीर वर्ष 2019 में दिवाली के दौरान आयोजित दीपोत्सव कार्यक्रम की है। हमारे सहयोगी दैनिक जागरण के अयोध्या के प्रभारी रमाशरण अवस्थी ने बताया कि इस बार दिवाली के दौरान भव्य दीपोत्सव कार्यक्रम का आयोजन किया गया, लेकिन ये तस्वीरें इससे संबंधित नहीं है।

कई रिपोर्ट्स के मुताबिक, अयोध्या में राम की पौड़ी दिवाली की पूर्व संध्या पर पांचवें दीपोत्सव कार्यक्रम के तहत एक साथ 9 लाख 54 हजार दीपों को प्रज्ज्वलित कर गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाया गया। न्यूज एजेंसी एएनआई ने भी इस कार्यक्रम के वीडियो को अपने ट्विटर हैंडल से साझा किया है।

दैनिक जागरण की वेबसाइट पर चार नवंबर को प्रकाशित रिपोर्ट से इन दावों की पुष्टि होती है। रिपोर्ट के मुताबिक, ‘दीपोत्सव के पांचवें संस्करण में नौ लाख 54 हजार जलते दीपों का विश्व रिकार्ड बन गया। गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकार्ड्स की ओर से इसकी घोषणा के साथ ही समूची राम की पौड़ी उल्लास की लहर पर सवार हो उठी।’

वायरल हो रही तस्वीर को भ्रामक दावे के साथ शेयर करने वाले यूजर की प्रोफाइल विचारधारा विशेष से प्रेरित है।

की प्रोफाइल विचारधारा विशेष से प्रेरित है।

निष्कर्ष: अयोध्या में पांचवें दीपोत्सव कार्यक्रम के दौरान बने गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड के नाम पर वायरल हो रही तस्वीरें 2019 में दीपोत्सव कार्यक्रम के दौरान की है।

  • Claim Review : दीवाली में दीपोत्सव के दौरान बना रिकॉर्ड
  • Claimed By : FB User-Kalidas Sarkar
  • Fact Check : भ्रामक
भ्रामक
फेक न्यूज की प्रकृति को बताने वाला सिंबल
  • सच
  • भ्रामक
  • झूठ

पूरा सच जानें... किसी सूचना या अफवाह पर संदेह हो तो हमें बताएं

सब को बताएं, सच जानना आपका अधिकार है। अगर आपको ऐसी किसी भी मैसेज या अफवाह पर संदेह है जिसका असर समाज, देश और आप पर हो सकता है तो हमें बताएं। आप हमें नीचे दिए गए किसी भी माध्यम के जरिए जानकारी भेज सकते हैं...

टैग्स

अपना सुझाव पोस्ट करें
और पढ़े

No more pages to load

संबंधित लेख

Next pageNext pageNext page

Post saved! You can read it later