X

Fact Check: प्रदर्शन करते ये लोग बिहार में वोटों की दोबारा गिनती की मांग नहीं कर रहे थे, वायरल दवा फर्जी है

  • By Vishvas News
  • Updated: November 26, 2020

नई दिल्ली (विश्वास टीम):सोशल मीडिया पर आज कल एक वीडियो वायरल हो रहा है। वीडियो में गुस्साई भीड़ को सड़क पर नारेबाजी करते देखा जा सकता है। इस वीडियो को वायरल करते हुए लोग ये दावा कर रहे हैं कि बिहार के लोग हाल में हुए विधानसभा चुनाव के नतीजों से खुश नहीं है और वोटों की दोबारा गिनती की मांग कर रहे हैं। विश्वास न्यूज़ ने अपनी जाँच में पाया कि वायरल दावा गलत है। यह वीडियो विधानसभा चुनाव के नतीजों के आने से पहले का है। ये लोग मुंगेर में दुर्गापूजा के मूर्ति विसर्जन दौरान हुई गोलीकांड के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे थे, दोबारा मतगणना की मांग के लिए नहीं।

क्या है वायरल पोस्ट में?

इस पोस्ट को भास्कर यादव विद्रोही’ नाम के एक फेसबुक यूजर द्वारा शेयर किया गया था। यूजर ने दावा किया, “I#रीकांउटिंग को लेकर बिहार की जनता में भारी आक्रोश देखने को मिली #बिहारमांगेंरिकॉउंटिंग वीडियो पटना कि“

इस पोस्ट के आर्काइव लिंक को यहां देखा जा सकता है

पड़ताल

इस वीडियो की पड़ताल करने के लिए हमने इस वीडियो को InVID टूल पर डाला और इसके कीफ्रेम्स निकाले। अब हमने इन कीफ्रेम्स को गूगल रिवर्स इमेज पर सर्च किया।। सर्च के दौरान हमें फेसबुक पर Dynamite News Hindi नाम के एक वेरिफाइड फेसबुक पेज पर मिला। इस वीडियो को 29 अक्टूबर को अपलोड किया गया था। इस वीडियो के शुरू होने के 20 सेकंड बाद वायरल वीडियो वाला क्लिप देखा जा सकता है। इस पोस्ट में डिस्क्रिप्शन में लिखा था, “LIVE: बिहार के मुंगेर में भयानक हिंसा, पुलिस की गाड़ियों को किया गया आग के हवाले, तीन दिन पहले मां दुर्गा की प्रतिमा विसर्जन के दौरान एसपी लिपि सिंह की अराजकता आयी थी सामने, एक गरीब युवक को मार दी गयी थी गोली, इसके बाद भी नहीं हटाया गया था एसपी-डीएम को, भड़की जनता ने किया आज मुंगेर बंद, इसके बाद सड़कों पर लोगों का फूट पड़ा गुस्सा, चारों तरफ से घिरे चुनाव आयोग ने भारी हिंसा के बाद हटाया डीएम-एसपी को, एसपी लिपि सिंह हैं सीएम नीतीश कुमार के बेहद करीबी जदयू नेता आरसीपी सिंह की बेटी, माहौल अभी भी है तनावपूर्ण।”

मुंगेर में हुई इस हिंसा का एक वीडियो हमें News18 India के यूट्यूब चैनल पर भी 29 अक्टूबर को अपलोडेड मिला।

आपको बता दें कि बिहार में मतगणना 10 नवंबर को हुई थी और ये वीडियो इंटरनेट पर मतगणना के पहले से मौजूद है।

इस वीडियो की पुष्टि के लिए हमने बिहार में जागरण के वेबडेस्क हेड अमित अलोक से बात की। उन्होंने कन्फर्म किया कि यह वीडियो मतगणना से पहले का है। उन्होंने कहा, “वीडियो का हालिया बिहार विधानसभा चुनाव की मतगणना से कोई संबंध नहीं है। इसकी पृष्ठनभूमि मतगणना केंद्र की नहीं है। वीडियो पुराना है।”

हमने उस प्रोफ़ाइल की सोशल स्कैनिंग की थी, जिसने वायरल वीडियो को साझा किया था। भास्कर यादव विद्रोही नाम के फेसबुक पेज के 6,648 फ़ॉलोअर हैं।

निष्कर्ष: विश्वास न्यूज़ ने अपनी जाँच में पाया कि वायरल दावा गलत है। यह वीडियो विधानसभा चुनाव के नतीजों के आने से पहले का है। ये लोग दुर्गापूजा के मूर्ति विसर्जन के दौरान मुंगेर में हुई गोलीकांड के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे थे, दोबारा मतगणना की मांग के लिए नहीं।

  • Claim Review : रीकांउटिंग को लेकर बिहार की जनता में भारी आक्रोश देखने को मिली बिहार_मांगें_रिकॉउंटिंग वीडियो पटना कि
  • Claimed By : भास्कर यादव विद्रोही
  • Fact Check : झूठ
झूठ
    फेक न्यूज की प्रकृति को बताने वाला सिंबल
  • सच
  • भ्रामक
  • झूठ

पूरा सच जानें... किसी सूचना या अफवाह पर संदेह हो तो हमें बताएं

सब को बताएं, सच जानना आपका अधिकार है। अगर आपको ऐसी किसी भी मैसेज या अफवाह पर संदेह है जिसका असर समाज, देश और आप पर हो सकता है तो हमें बताएं। आप हमें नीचे दिए गए किसी भी माध्यम के जरिए जानकारी भेज सकते हैं...

टैग्स

संबंधित लेख

Post saved! You can read it later