X

Quick Fact Check: फर्जी वंशावली के जरिए नेहरू खानदान के खिलाफ किया जा रहा दुष्प्रचार

  • By Vishvas News
  • Updated: February 25, 2020

नई दिल्ली (विश्वास टीम)। सोशल मीडिया पर एक पोस्ट वायरल हो रही है, जिसमें देश के पहले प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू की धार्मिक पहचान को लेकर फर्जी दावा किया गया है।

वायरल पोस्ट में नेहरू परिवार के वंशवृक्ष या वंशावली का जिक्र करते हुए बताया गया है कि नेहरू के पिता और दादा मुस्लिम थे। पोस्ट में लिखा हुआ है, ‘’जवाहर लाल नेहरू के दादा का नाम गंगाधर नेहरू नहीं, बल्कि गयासुद्दीन गाजी था और नेहरू के पिता मोतीलाल नेहरू मुस्लिम थे।’’

विश्वास न्यूज की पड़ताल में यह पोस्ट झूठ का पुलिंदा निकला, जिसमें नेहरू परिवार और उनके वंश को लेकर सिर्फ झूठ लिखा गया है।

क्या है वायरल पोस्ट में?

फेसबुक पर वायरल हो रही पोस्ट में नेहरू परिवार की वंशावली को ग्राफिक्स के साथ बताते हुए कहा गया है कि नेहरू के दादा और पिता वास्तव में मुस्लिम थे और उनके दादा गंगाधर नेहरू का नाम गयासुद्दीन गाजी था।

सोशल मीडिया पर वायरल हो रही फर्जी पोस्ट

(वायरल हो रही पोस्ट का सामान्य लिंक और आर्काइव लिंक।)

पड़ताल

सोशल मीडिया पर यह पोस्ट पहले भी वायरल होता रहा है, जिसकी पड़ताल विश्वास न्यूज ने की थी। विश्वास न्यूज की विस्तृत पड़ताल को नीचे पढ़ा जा सकता है।

निष्कर्ष: जवाहर लाल नेहरू और उनके पूर्वज मुस्लिम नहीं थे। नेहरू हिंदू और कश्मीरी ब्राह्मण थे। सोशल मीडिया पर नेहरू परिवार के नाम से वायरल हो रहा वंशवृक्ष फर्जी है, जिसे दुर्भावनापूर्ण मकसद से फैलाया जा रहा है।

  • Claim Review : मुस्लिम थे नेहरू और उनके पूर्वज
  • Claimed By : FB User-Bishnoi Bishnoi‎
  • Fact Check : झूठ
झूठ
    फेक न्यूज की प्रकृति को बताने वाला सिंबल
  • सच
  • भ्रामक
  • झूठ

पूरा सच जानें... किसी सूचना या अफवाह पर संदेह हो तो हमें बताएं

सब को बताएं, सच जानना आपका अधिकार है। अगर आपको ऐसी किसी भी मैसेज या अफवाह पर संदेह है जिसका असर समाज, देश और आप पर हो सकता है तो हमें बताएं। आप हमें नीचे दिए गए किसी भी माध्यम के जरिए जानकारी भेज सकते हैं...

  • वॅाट्सऐप नंबर 9205270923
  • टेलीग्राम नंबर 9205270923
  • ईमेल contact@vishvasnews.com
जानिए वायरल खबरों का सच क्विज खेलिए और सीखिए स्‍टोरी फैक्‍ट चेक करने के तरीके

टैग्स

संबंधित लेख

Post saved! You can read it later