X

Quick Fact Check: हेल्‍थ मिनिस्‍टर की लूडो खेलते हुए तस्‍वीर का कोरोना से नहीं है कोई संबंध, फोटो एक साल पुरानी है

  • By Vishvas News
  • Updated: June 12, 2020

नई दिल्‍ली (विश्‍वास न्‍यूज)। कोरोना काल के बीच देश में एक बार फिर से हेल्‍थ मिनिस्‍टर डॉ. हर्षवर्धन को लेकर एक फेक पोस्‍ट वायरल हो रही है। यूजर्स दावा कर रहे हैं कि कोरोना संकट के बीच हेल्‍थ मिनिस्‍टर लूडो खेलने में व्‍यस्‍त हैं।

विश्‍वास न्‍यूज ने पहले भी इस पोस्‍ट की पड़ताल की थी। हमें पता चला कि एक साल पुरानी तस्‍वीर को कुछ यूजर्स कोरोना से जोड़कर झूठे दावों के साथ इंटरनेट की दुनिया में वायरल कर रहे हैं।

क्‍या हो रहा है वायरल

फेसबुक यूजर R Saha ने 11 जून को हेल्‍थ मिनिस्‍टर डॉ. हर्षवर्धन और उनकी पत्नी की लूडो खेलते हुए एक पुरानी तस्‍वीर को अपलोड करते हुए लिखा : ‘Modiji’s health minister during Covid’

फेसबुक पर दूसरे यूजर्स इस सच मानकर शेयर कर रहे हैं।

पड़ताल

विश्‍वास न्‍यूज ने डॉ. हर्षवर्धन की वायरल तस्‍वीर को Yandex में अपलोड करते सर्च किया तो हमें ट्रिब्‍यून की वेबसाइट पर पुरानी तस्‍वीर मिली। 14 मई 2019 को अपलोड इस तस्‍वीर में बताया गया कि चुनाव के बाद रिलैक्‍स करने के लिए डॉ. हर्षवर्धन अपनी पत्‍नी के साथ लूडो खेल रहे थे।

वायरल पोस्‍ट की सच्‍चाई जानने के लिए विश्‍वास न्‍यूज ने डॉ हर्षवर्धन से संपर्क किया। हमें उनकी बेटी इनाक्षी की ओर से बताया गया, ‘वायरल हो रही तस्‍वीर मैंने एक साल पहले ली थी। कुछ लोग ऐसे मुश्किल वक्‍त में भी फर्जी पोस्‍ट करने से बाज नहीं आ रहे हैं।’

पड़ताल के अंतिम चरण में हम उस अकाउंट पर गए, जहां से फर्जी पोस्‍ट फैलाई जा रही हैं। हमें पता चला कि यूजर R Saha एक डॉक्‍टर हैं। यह सिलीगुड़ी में रहते हैं।

पूरी पड़ताल आप यहां पढ़ सकते हैं

निष्कर्ष: विश्‍वास न्‍यूज की जांच में पता चला कि डॉ. हर्षवर्धन की लूडो खेलती तस्‍वीर का कोरोना काल से कोई संबंध नहीं है। तस्‍वीर लोकसभा चुनाव के बाद की है। एक साल पुरानी तस्‍वीर को अब कुछ लोग जानबूझकर वायरल कर रहे हैं।

  • Claim Review : कोविड में मोदी के मंत्री लूडो खेलते हुए
  • Claimed By : फेसबुक यूजर R Saha
  • Fact Check : झूठ
झूठ
    फेक न्यूज की प्रकृति को बताने वाला सिंबल
  • सच
  • भ्रामक
  • झूठ

पूरा सच जानें... किसी सूचना या अफवाह पर संदेह हो तो हमें बताएं

सब को बताएं, सच जानना आपका अधिकार है। अगर आपको ऐसी किसी भी मैसेज या अफवाह पर संदेह है जिसका असर समाज, देश और आप पर हो सकता है तो हमें बताएं। आप हमें नीचे दिए गए किसी भी माध्यम के जरिए जानकारी भेज सकते हैं...

टैग्स

संबंधित लेख

Post saved! You can read it later