X

Fact Check: आमिर खान और मौलाना तारिक जमील की तस्वीर को गलत संदर्भ में किया जा रहा है शेयर

विश्वास न्यूज की पड़ताल में बॉलीवुड अभिनेता आमिर खान की तस्वीर को लेकर किया जा रहा दावा गलत निकला। आमिर खान की यह वायरल तस्वीर तकरीबन 10 साल पुरानी है। हमारी पड़ताल में हमने पाया कि आमिर खान के साथ खड़े लोगों में एक पाकिस्तानी क्रिकेटर शाहिद अफरीदी के भाई मुश्ताक अफरीदी हैं और दूसरे पाकिस्तानी उपदेशक मौलाना तारिक जमील हैं।

  • By Vishvas News
  • Updated: August 8, 2022

नई दिल्ली (विश्वास टीम)। सोशल मीडिया पर बॉलीवुड अभिनेता आमिर खान की एक तस्वीर को शेयर कर दावा किया जा रहा है कि उन्होंने सऊदी अरब में जमात-ए-उल के तारिक जमील नाम के आतंकवादी से मुलाकात की है। विश्वास न्यूज की पड़ताल में वायरल दावा भ्रामक निकला। आमिर खान की वायरल तस्वीर तकरीबन 10 साल पुरानी है। हमारी पड़ताल में हमने पाया कि आमिर खान के साथ खड़े लोगों में एक पाकिस्तानी क्रिकेटर शाहिद अफरीदी के भाई मुश्ताक अफरीदी हैं और दूसरे पाकिस्तानी मौलाना तारिक जमील हैं।

क्या है वायरल पोस्ट में ?

फेसबुक यूजर Naveen Mittal ने 6 अगस्त 2022 को वायरल तस्वीर को शेयर किया था। तस्वीर पर लिखा हुआ है, “आमिर खान, अफरीदी और जमैत ए उल के आतंकवादी तारिक जमील के साथ। सत्यमेव जयते!!!! इसको ज्यादा से ज्यादा शेयर करें और इस आमिर की सच्चाई लोगो तक पहिचाये।”

पोस्ट के आर्काइव वर्जन को यहां देखा जा सकता है।

पड़ताल

वायरल तस्वीर की सच्चाई जानने के लिए हमने फोटो को गूगल रिवर्स इमेज के जरिए सर्च किया। इस दौरान हमें वायरल तस्वीर से जुड़ी एक न्यूज रिपोर्ट Sial news वेबसाइट पर 23 अक्टूबर 2012 को प्रकाशित मिली। रिपोर्ट में दी गई जानकारी के मुताबिक, आमिर खान के साथ नजर आ रहे शख्स पाकिस्तान के एक मौलाना तारिक जमील हैं। दोनों की मुलाकात 2012 में हज के दौरान सऊदी अरब में हुई थी। अन्य न्यूज रिपोर्ट्स को यहां पर पढ़ा जा सकता है।

पड़ताल को आगे बढ़ाते हुए हमने मौलाना तारिक जमील के बारे में सर्च करना शुरू किया। इस दौरान हमें द एक्सप्रेस ट्रिब्यून में 1 अप्रैल, 2019 को छपी एक खबर प्रकाशित मिली। खबर में मौलाना तारिक जमील को धार्मिक विद्वान, उपदेशक और सार्वजनिक वक्ता के रूप में संबोधित किया गया था।

जांच के दौरान हमें मौलाना तारिक जमील का एक वीडियो The Ink of scholars channel नामक एक चैनल पर मिला। वीडियो को 24 नंवबर 2013 को अपलोड किया गया था। वीडियो में वीडियों में मौलाना ने आमिर खान से इस मुलाकात के बारे में बताया है। वीडियो में उन्हें कहते हुए सुना जा सकता है कि 2012 में शाहिद अफरीदी की मदद से उन्होंने हज के दौरान आमिर खान से मुलाकात की थी।

हमें यह वायरल तस्वीर पाकिस्तानी क्रिकेटर शाहिद अफरीदी के भाई मुश्ताक अफरीदी के फेसबुक पेज पर भी अपलोड मिली। हमने उनसे संपर्क किया उन्होंने हमें बताया कि वायरल दावा गलत है। तस्वीर में शाहिद अफरीदी नहीं, बल्कि वो खुद हैं।

हमने इस सिलसिले में तारिक़ जमील के मैनेजर मोहम्मद अख्तर से बात की। उन्होंने हमें बताया, “यह तस्वीर मदीना की है, जहाँ आमिर खान और मौलाना तारिक जमील की मुलाकात गायक जुनैद जमशेद ने कराई थी। तारिक़ जमील एक उपदेशक हैं।”

हमने इस संदर्भ में पाकिस्तानी पत्रकार Arif Mehmood से भी संपर्क किया। उन्होंने भी हमें यही बताया कि ये पाकिस्तान के एक उपदेशक तारिक़ जमील हैं। हमने पहले भी इससे मिलते-जुलते दावे का फैक्ट चेक कर सच्चाई सामने रखी थी। रिपोर्ट को यहां पर पढ़ा जा सकता है।

पड़ताल के अंतिम चरण में हमने इस पोस्ट को शेयर करने वाले यूजर Naveen Mittal की जांच की। जांच में हमें पता चला कि यूजर गाजियाबाद का रहने वाला है। फेसबुक पर यूजर अक्टूबर 2012 से सक्रिय है।

निष्कर्ष: विश्वास न्यूज की पड़ताल में बॉलीवुड अभिनेता आमिर खान की तस्वीर को लेकर किया जा रहा दावा गलत निकला। आमिर खान की यह वायरल तस्वीर तकरीबन 10 साल पुरानी है। हमारी पड़ताल में हमने पाया कि आमिर खान के साथ खड़े लोगों में एक पाकिस्तानी क्रिकेटर शाहिद अफरीदी के भाई मुश्ताक अफरीदी हैं और दूसरे पाकिस्तानी उपदेशक मौलाना तारिक जमील हैं।

  • Claim Review : आमिर खान, अफरीदी और जमैत ए उल के आतंकवादी तारिक जमील के साथ
  • Claimed By : Naveen Mittal
  • Fact Check : भ्रामक
भ्रामक
फेक न्यूज की प्रकृति को बताने वाला सिंबल
  • सच
  • भ्रामक
  • झूठ

पूरा सच जानें... किसी सूचना या अफवाह पर संदेह हो तो हमें बताएं

सब को बताएं, सच जानना आपका अधिकार है। अगर आपको ऐसी किसी भी मैसेज या अफवाह पर संदेह है जिसका असर समाज, देश और आप पर हो सकता है तो हमें बताएं। आप हमें नीचे दिए गए किसी भी माध्यम के जरिए जानकारी भेज सकते हैं...

टैग्स

अपनी प्रतिक्रिया दें

No more pages to load

संबंधित लेख

Next pageNext pageNext page

Post saved! You can read it later