X

Fact Check: बिहार के मंत्री ने राहुल गांधी से मुलाकात की पुरानी तस्वीर की शेयर, फैला भ्रम

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पांच सितंबर को दिल्ली में राहुल गांधी से मिले थे और जेडीयू के आधिकारिक ट्विटर हैंडल से इस मुलाकात की ही तस्वीर को साझा किया गया है। हालांकि, बिहार सरकार के मंत्री अशोक चौधरी के ट्विटर हैंडल से पांच सितंबर को साझा की गई तस्वीर पुरानी है, जिसे उन्होंने राहुल गांधी के साथ हुई हालिया मुलाकात का बताते हुए शेयर किया है।

  • By Vishvas News
  • Updated: September 6, 2022

नई दिल्ली (विश्वास न्यूज)। नई दिल्ली में राहुल गांधी और नीतीश कुमार की मुलाकात के बाद सोशल मीडिया पर वायरल पोस्ट में एक और तस्वीर वायरल हो रही है, जो बिहार सरकार के मंत्री अशोक चौधरी की ट्विटर प्रोफाइल से शेयर की गई तस्वीर का स्क्रीनशॉट है। इस तस्वीर में वह राहुल गांधी के साथ नजर आ रहे हैं। उन्होंने इस तस्वीर को पांच सितंबर को अपने ट्विटर हैंडल से साझा किया है और इसी दिन दिल्ली में बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने राहुल गांधी से मुलाकात की थी। दोनों ही तस्वीर में राहुल गांधी अलग-अलग वेशभूषा में नजर आ रहे हैं। इन दोनों तस्वीरों के हवाले से दावा किया जा रहा है कि दिल्ली में राहुल गांधी और नीतीश कुमार की मुलाकात ही नहीं हुई है, जिसकी तस्वीर को जनता दल यूनाइटेड के आधिकारिक ट्विटर हैंडल से साझा किया गया है।

विश्वास न्यूज की जांच में यह दावा भ्रामक और गुमराह करने वाला निकला। पांच सितंबर को दिल्ली में नीतीश कुमार और राहुल गांधी की मुलाकात हुई थी और जेडीयू के आधिकारिक ट्विटर हैंडल से इसी मुलाकात की तस्वीर को साझा किया गया है। इसी दिन अशोक चौधरी और राहुल गांधी की भी मुलाकात हुई थी, लेकिन उन्होंने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल से मुलाकात की जो तस्वीर साझा की है, वह पुरानी तस्वीर है, जिसका उल्लेख उन्होंने तस्वीर को साझा करते वक्त नहीं किया।

क्या है वायरल?

सोशल मीडिया यूजर ‘Manoranjan Sharma’ ने वायरल तस्वीर (आर्काइव लिंक) को साझा करते हुए लिखा है, ”दोनों में ऑरिजिनल राहुल गांधी कौन है? दोनों पोस्ट एक ही दिन डाले गए हैं। क्या नीतीश कुमार जी की राहुल गांधी जी से मुलाक़ात नहीं हुई?
या अशोक चौधरी जी की मुलाकात नहीं है, क्योंकि दोनों तस्वीर में राहुल गांधी जी से मिलने का समय एक ही दिन का है। लेकिन तस्वीर में अंतर साफ झलक रहा है। कौन सच बोल रहा है कौन झूठ बोल रहा है ।यही दोनों आदमी ही समझें।😃😃😃😃😃😃😃”

कई अन्य यूजर्स ने इस तस्वीर को समान और मिलते-जुलते दावे के सात शेयर किया है।

सोशल मीडिया पर भ्रामक दावे के साथ वायरल पोस्ट का स्क्रीनशॉट

‘ट्विटर पर भी कई अन्य यूजर्स ने इन तस्वीर को समान और मिलते-जुलते दावे के साथ शेयर किया है।

पड़ताल

न्यूज सर्च में ऐसी कई रिपोर्ट्स मिली, जिसमें दिल्ली में बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की राहुल गांधी से मुलाकात का जिक्र है। जागरण डॉट कॉम की वेबसाइट पर पांच सितंबर को प्रकाशित रिपोर्ट के मुताबिक, बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने सोमवार यानी पांच सितंबर को दिल्ली में राहुल गांधी से मुलाकात की।

दैनिक जागरण की वेबसाइट पर पांच सितंबर को प्रकाशित रिपोर्ट

रिपोर्ट में इस्तेमाल की गई तस्वीर वही है, जिस तस्वीर को जनता दल यूनाइटेड ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल से पांच सितंबर को साझा किया है।

नीतीश कुमार और राहुल गांधी की मुलाकात की समान तस्वीर को कांग्रेस के इंटरनल कम्युनिकेशंस के प्रभारी और राष्ट्रीय सचिव डॉ. विनीत पुनिया ने पत्रकारों के लिए बने औपचारिक वॉट्सऐप ग्रुप में भी साझा किया था। नीचे दर्शाए गए कोलाज में दोनों तस्वीरों को देखा जा सकता है, जो बिल्कुल समान हैं।

जांच के इस चरण से स्पष्ट है कि पांच सितंबर को नई दिल्ली में राहुल गांधी और नीतीश कुमार के बीच मुलाकात हुई थी और जिस तस्वीर को जेडीयू के आधिकारिक ट्विटर हैंडल से साझा किया गया था, वह इसी मुलाकात की थी।

बिहार सरकार के ही मंत्री डॉ. अशोक चौधरी ने पांच सितंबर अपने आधिकारिक ट्विटर प्रोफाइल से राहुल गांधी के साथ हुई मुलाकात की तस्वीर को साझा किया, जिसमें राहुल गांधी की वेशभूषा और नीतीश कुमार वाली तस्वीर से भिन्न है और इसे लेकर भ्रम उत्पन्न हो रहा है।

अशोक चौधरी और राहुल गांधी की मुलाकात वाली तस्वीर को रिवर्स इमेज सर्च करने पर यह तस्वीर एनडीटीवी की वेबसाइट पर सात सितंबर 2017 को प्रकाशित रिपोर्ट में मिली, जिसमें अशोक चौधरी और राहुल गांधी के साथ फ्रेम में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता सी पी जोशी भी नजर आ रहे हैं।

NDTV की वेबसाइट पर 2017 में प्रकाशित रिपोर्ट में इस्तेमाल की गई तस्वीर, जिसे अशोक चौधरी ने पांच सितंबर को अपने आधिकारिक हैंडल से राहुल गांधी के साथ हुई मुलाकात का बताते हुए ट्वीट किया है

अशोक चौधरी ने पांच सितंबर को अपने ट्विटर हैंडल से राहुल गांधी की मुलाकात के दावे के साथ इसी पुरानी तस्वीर के क्रॉप्ड वर्जन का इस्तेमाल किया। नीचे दर्शाए गए कोलाज में इस अंतर को साफ-साफ देखा जा सकता है।

NDTV ने राहुल गांधी और अशोक चौधरी की मुलाकात वाली तस्वीर का क्रेडिट @airnewsalerts को दिया है। सर्च में यह ऑरिजिनल ट्वीट मिला, जिसे ऑल इंडिया रेडियो न्यूज के आधिकारिक हैंडल से13 नवंबर 2015 को शेयर किया गया है।

स्पष्ट है कि अशोक चौधरी ने पांच सितंबर 2022 को राहुल गांधी के साथ मुलाकात के दावे के साथ जिस तस्वीर को साझा किया है, वह वास्तव में 2015 की पुरानी तस्वीर है, जब उन्होंने कांग्रेस के वरिष्ठ नेता सी पी जोशी की मौजूदगी में राहुल गांधी से मुलाकात की थी। हालांकि, इस पुरानी तस्वीर को साझा करते वक्त उन्होंने इसकी पृष्ठभूमि का उल्लेख नहीं किया।

गौरतलब है कि अशोक चौधरी को 2013 में बिहार कांग्रेस का प्रेसिडेंट (संदर्भ देखें) बनाया गया था। हालांकि, 2018 में वह कांग्रेस छोड़कर (संदर्भ देखें) जेडी-यू में शामिल हो गए थे।

वायरल पोस्ट को लेकर हमने कांग्रेस को कवर करने वाले पत्रकार आदेश रावल से संपर्क किया। आदेश रावल ने भी अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल से राहुल गांधी और नीतीश कुमार की मुलाकात की उसी तस्वीर को साझा किया है, जिसे कांग्रेस की तरफ से मीडिया को जारी किया गया था। उन्होंने कहा कि अशोक चौधरी ने जिस तस्वीर को राहुल गांधी के साथ मुलाकात का बताते हुए शेयर किया है, वह पुरानी तस्वीर है। हालांकि, दिल्ली में वह राहुल गांधी से मिले जरूर थे।

वायरल पोस्ट को भ्रामक दावे के साथ शेयर करने वाले यूजर ने अपनी प्रोफाइल में स्वयं को दरभंगा निवासी बताया है।

निष्कर्ष: बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पांच सितंबर को दिल्ली में राहुल गांधी से मिले थे और जेडीयू के आधिकारिक ट्विटर हैंडल से इस मुलाकात की ही तस्वीर को साझा किया गया है। हालांकि, बिहार सरकार के मंत्री अशोक चौधरी के ट्विटर हैंडल से पांच सितंबर को साझा की गई तस्वीर पुरानी है, जिसे उन्होंने राहुल गांधी के साथ हुई हालिया मुलाकात का बताते हुए शेयर किया है।

  • Claim Review : दिल्ली में नहीं हुई राहुल गांधी और नीतीश कुमार की मुलाकात
  • Claimed By : FB User-Manoranjan Sharma
  • Fact Check : भ्रामक
भ्रामक
फेक न्यूज की प्रकृति को बताने वाला सिंबल
  • सच
  • भ्रामक
  • झूठ

पूरा सच जानें... किसी सूचना या अफवाह पर संदेह हो तो हमें बताएं

सब को बताएं, सच जानना आपका अधिकार है। अगर आपको ऐसी किसी भी मैसेज या अफवाह पर संदेह है जिसका असर समाज, देश और आप पर हो सकता है तो हमें बताएं। आप हमें नीचे दिए गए किसी भी माध्यम के जरिए जानकारी भेज सकते हैं...

टैग्स

अपनी प्रतिक्रिया दें

No more pages to load

संबंधित लेख

Next pageNext pageNext page

Post saved! You can read it later