X

Fact Check: डेनमार्क के फुटबॉल खिलाड़ी क्रिस्टियन एरिक्सन कार्डिएक अरेस्ट की वजह से मैदान में हुए थे बेहोश, कोविड-19 वैक्सीन से इसका कोई संबंध नहीं

विश्वास न्यूज की पड़ताल में यूरो कप के दौरान मैच के दौरान बेहोश हुए डेनमार्क के खिलाड़ी क्रिस्टियन एरिक्सन को कार्डिएक अरेस्ट आया था। उनकी बेहोशी को कोविड वैक्सीनेशन से जोड़ने वाला दावा झूठा निकला है। विश्वास न्यूज की पड़ताल में सामने आया है कि क्रिस्टियन को न तो कोरोना हुआ था और ही उन्होंने वैक्सीन लगवाई थी।

  • By Vishvas News
  • Updated: June 17, 2021

विश्‍वास न्‍यूज (नई दिल्‍ली)। सोशल मीडिया पर डेनमार्क के फुटबॉल खिलाड़ी क्रिस्टियन एरिक्सन को लेकर एक दावा वायरल हो रहा है। सोशल मीडिया यूजर्स एक ट्वीट का स्क्रीनशॉट शेयर कर दावा कर रहे हैं कि यूरो कप के दौरान अचानक मैदान पर बेहोश होने वाले इस फुटबॉल खिलाड़ी ने फाइजर की कोविड-19 वैक्सीन ली थी। एक तरह से फुटबॉलर की बेहोशी को वैक्सीन से जोड़ने की कोशिश की जा रही है। विश्वास न्यूज की पड़ताल में यह दावा झूठा निकला है। क्रिस्टियन कार्डिएक अरेस्ट की वजह से बेहोश हुए थे और अभी उनका कोविड वैक्सीनेशन नहीं हुआ है।

क्या हो रहा है वायरल

ट्विटर हैंडल @SirToshiTV ने 13 जून 2021 को एक ट्वीट किया है। इस ट्वीट में एक खबर और एक ट्वीट का स्क्रीनशॉट पोस्ट करते हुए लिखा है कि इस बात की पुष्टि हो गई है कि क्रिस्टियन एरिक्सन ने 31 मई को फाइजर वैक्सीन ली थी। इस पोस्ट के आर्काइव्ड वर्जन को यहां क्लिक कर देखा जा सकता है।

पड़ताल

विश्वास न्यूज ने ट्विटर हैंडल @SirToshiTV से किए गए ट्वीट को बारीकी से देखते हुए अपने पड़ताल की शुरुआत की। इस ट्वीट में दो स्क्रीनशॉट पोस्ट किए गए हैं। एक स्क्रीनशॉट ESPN न्यूज का है, जिसमें बताया गया है कि यूरो 2020 के ग्रुप बी मैच में फिनलैंड के साथ मुकाबले के दौरान डेनमार्क के फुटबॉल खिलाड़ी क्रिस्टियन एरिक्सन मैदान में बेहोश होकर गिर पड़े। हमें 12 जून को ESPN के आधिकारिक ट्विटर हैंडल से किए गए ट्वीट में क्रिस्टियन से जुड़ी ये खबर मिली। इस ट्वीट को यहां नीचे देखा जा सकता है।

इस पोस्ट में दूसरा स्क्रीनशॉट किसी Luboš Motl नाम के ट्विटर यूजर (@lumidek) का ट्वीट है। इस ट्वीट में दावा किया गया है कि क्रिस्टियन एरिक्सन इंटर मिलान के लिए खेलते हैं। दावे के मुताबिक, इस इटली की टीम के चीफ मेडिकल और कार्डियोलॉजिस्ट ने इटली के रेडियो से पुष्टि की है कि एरिक्सन को 31 मई को फाइजर वैक्सीन दी गई थी। इस ट्वीट के स्क्रीनशॉट में एक रिप्लाई को कोट करते हुए यह दावा किया गया है, जिसमें बताया गया है कि यह पुष्टि इटली के रेडियो स्पोर्टिवा से बातचीत के दौरान की गई है। विश्वास न्यूज ने ट्विटर पर हैंडल @lumidek को खंगाला। हमें स्क्रीनशॉट पर दिख रहा ट्वीट तो नहीं मिला, लेकिन एक दूसरा ट्वीट मिला, जिसमें कहा गया है कि रेडियो स्पोर्टिवा की तरफ से खंडन होने के बाद यूजर ने अपने ट्वीट को डिलीट कर दिया है। इस ट्वीट को यहां नीचे देखा जा सकता है।

फुटबॉलर क्रिस्टियन से जुड़े इस पूरे मामले को समझने के लिए हमने जरूरी कीवर्ड्स से इसे इंटरनेट पर सर्च किया। हमें हमारे सहयोगी दैनिक जागरण की वेबसाइट पर 14 जून 2021 को प्रकाशित एक रिपोर्ट में इस मामले की विस्तार से जानकारी मिली। रिपोर्ट के मुताबिक, यूरो कप में 12 जून को डेनमार्क और फिनलैंड के बीच मैच के दौरान क्रिस्टियन को दिल का दौरा पड़ा था और वह बेहोश हो गए थे। यहां क्रिस्टियन एरिक्सन को इंटर मिलान फुटबॉल टीम का मिडफिल्डर बताया गया है। इस रिपोर्ट को यहां क्लिक कर विस्तार से पढ़ा जा सकता है।

विश्वास न्यूज ने अपने पड़ताल के अगले चरण में यह जानना चाहा कि क्या क्रिस्टियन को फाइजर की वैक्सीन लगने का दावा सही है या नहीं। हमने इस दावे को भी जरूरी कीवर्ड्स के माध्यम से गूगल पर ओपन सर्च किया। हमें सर्च रिजस्ट में टॉप पर इंडियन एक्सप्रेस की एक रिपोर्ट मिली। 15 जून 2021 को प्रकाशित इस रिपोर्ट में बताया गया है कि क्रिस्टियन के अचानक बेहोश होने की वजह कोविड-19 वैक्सीन नहीं है। इस रिपोर्ट में इंटर मिलान टीम के डायरेक्टर द्वारा इटली के स्पोर्ट्स पब्लिकेशन Gazzetta Dello Sport को दी गई जानकारी के हवाले से बताया गया है कि क्रिस्टियन एरिक्सन को वैक्सीन लगाई ही नहीं गई है। रिपोर्ट में बताया गया है कि वायरल जानकारी के स्रोत के रूप में एक रेडियो इंटरव्यू का हवाला दिया जा रहा है और कहा जा रहा है कि इंटर मिलान के डॉक्टर ने रेडियो को क्रिस्टियन के वैक्सीनेशन की पुष्टि की है। इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक, रेडियो स्पोर्टिवा ने ट्विटर पर बताया है कि उन्होंने क्रिस्टियन एरिक्सन की हालत को लेकर इंटर मिलान के किसी भी मेडिकल स्टाफ सदस्य का इंटरव्यू नहीं किया है। इस रिपोर्ट को यहां क्लिक कर देखा जा सकता है।

हमें इंटरनेट सर्च के दौरान 13 जून 2021 को स्पोर्टस्टार पर प्रकाशित एक रिपोर्ट मिली। यह रिपोर्ट न्यूज एजेंसी रॉयटर्स के हवाले से प्रकाशित की गई है। इसमें इंटर मिलान के डायरेक्टर के हवाले से बताया गया है कि क्रिस्टियन को न तो कभी कोरोना का संक्रमण हुआ था और न ही अबतक उन्होंने वैक्सीन ली है। इसी तरह टाइम्स ऑफ इंडिया की वेबसाइट पर न्यूज एजेंसी एएफपी के हवाले से 13 जून 2021 को प्रकाशित रिपोर्ट में इंटर मिलान के अधिकारी के हवाले से यही बात कही गई है।

हमें ट्विटर पर इटली के रेडियो, रेडियो स्पोर्टिवा के हैंडल से 13 जून 2021 को किया गया ट्वीट भी मिला, जिसमें इस वायरल दावे का खंडन किया गया है। इटालियन में किए गए इस ट्वीट को गूगल ट्रांसलेट की मदद से हमने पढ़ा। इसमें लिखा गया है कि रेडियो ने क्रिस्टियन को लेकर इंटर मिलान के किसी भी मेडिकल स्टाफ का इंटरव्यू नहीं किया है। रेडियो ने इस सूचना को फर्जी बताया है। इस ट्वीट को यहां नीचे देखा जा सकता है।

विश्वास न्यूज की अबतक की पड़ताल से यह साफ हो चुका था कि क्रिस्टियन के बेहोश होने की घटना को गलत तरीके से कोविड-19 वैक्सीनेशन से जोड़ा जा रहा है। हमने इस मामले की और पुष्टि के लिए इस दावे को हमारे सहयोगी जागरण डॉट कॉम के स्पोर्ट्स इंचार्ज विप्लव कुमार संग भी शेयर किया। उन्होंने बताया कि डेनमार्क फुटबॉल खिलाड़ी क्रिस्टियन एरिक्सन को बीच मैच के दौरान कार्डिएक अरेस्ट आया था। वह इंटर मिलान के लिए भी खेलते हैं। विप्लव ने पुष्टि करते हुए बताया कि इंटर मिलान की तरफ से आधिकारिक रूप से बताया जा चुका है कि क्रिस्टियन ने कोई कोविड वैक्सीन नहीं ली थी।

विश्वास न्यूज ने इस वायरल दाले को ट्वीट करने वाले हैंडल @SirToshiTV को स्कैन किया। यह ट्विटर हैंडल जून 2019 में बनाया गया है और फैक्ट चेक किए जाने तक इसके 1828 फॉलोअर्स थे।

निष्कर्ष: विश्वास न्यूज की पड़ताल में यूरो कप के दौरान मैच के दौरान बेहोश हुए डेनमार्क के खिलाड़ी क्रिस्टियन एरिक्सन को कार्डिएक अरेस्ट आया था। उनकी बेहोशी को कोविड वैक्सीनेशन से जोड़ने वाला दावा झूठा निकला है। विश्वास न्यूज की पड़ताल में सामने आया है कि क्रिस्टियन को न तो कोरोना हुआ था और ही उन्होंने वैक्सीन लगवाई थी।

  • Claim Review : यूरो कप के दौरान अचानक मैदान पर बेहोश होने वाले फुटबॉल खिलाड़ी क्रिस्टियन एरिक्सन ने फाइजर की कोविड-19 वैक्सीन ली थी।
  • Claimed By : ट्विटर यूजर @SirToshiTV
  • Fact Check : झूठ
झूठ
फेक न्यूज की प्रकृति को बताने वाला सिंबल
  • सच
  • भ्रामक
  • झूठ

पूरा सच जानें... किसी सूचना या अफवाह पर संदेह हो तो हमें बताएं

सब को बताएं, सच जानना आपका अधिकार है। अगर आपको ऐसी किसी भी मैसेज या अफवाह पर संदेह है जिसका असर समाज, देश और आप पर हो सकता है तो हमें बताएं। आप हमें नीचे दिए गए किसी भी माध्यम के जरिए जानकारी भेज सकते हैं...

टैग्स

अपना सुझाव पोस्ट करें
और पढ़े

No more pages to load

संबंधित लेख

Next pageNext pageNext page

Post saved! You can read it later