X

Fact Check: साइकिल गर्ल ज्योति पासवान जिन्दा है, वायरल दावा गलत है

  • By Vishvas News
  • Updated: July 5, 2020

नई दिल्ली (विश्वास टीम)। सोशल मीडिया पर वायरल एक पोस्ट में दावा किया जा रहा है कि ज्योति, जिसने अपने घायल पिता को  साइकिल पर बिठा कर 1200 किलोमीटर से अधिक दूरी तय की थी, गांव में उसके साथ बलात्कार किया गया और उसका गला दबाकर उसकी हत्या कर दी गई। विश्वास न्यूज़ को यह दावा ट्विटर पर सबसे पहले दिखा। जब हमने खोज तो हमें फेसबुक पर भी यह वायरल दावा मिला। विश्वास न्यूज़ की जांच में पता चला कि दरभंगा में 1 जुलाई को एक ज्योति नाम की लड़की की मौत तो हुई है मगर यह मृतक लड़की वो ज्योति नहीं है, जो साइकिल चला कर अपने घायल पिता को गुरुग्राम से दरभंगा लायी थी।

क्या हो रहा है वायरल?

सोशल मीडिया पर वायरल एक पोस्ट में दावा किया गया है कि अपने घायल पिता को अपनी साइकिल के पीछे बिठा कर 1500 किलोमीटर से अधिक दूरी तय कर अपने गाँव में लाने वाली लड़की ज्योति पासवान का बलात्कार करके उसकी हत्या कर दी गयी है। वायरल पोस्ट में एक मृत लड़की की तस्वीर और साइकिल गर्ल ज्योति पासवान का कोलाज है।
पोस्ट के साथ डिस्क्रिप्शन में लिखा है “लाॅकडाउन में साईकिल से 1500 किलोमीटर चल कर अपने पिता को गांव लाने वाली #ज्योतिपासवान को हवस का शिकार बना कर #अर्जुनमिश्रा ने हत्या कर दी है।”

पोस्ट का आर्काइव लिंक यहां देखा जा सकता है।

पड़ताल

इस पोस्ट की पड़ताल करने के लिए हमने कीवर्ड्स की मदद से बिहार में हाल की बलात्कार की घटना की खोज की। हमें दरभंगा जिले में एक किशोरी की मौत की खबर मिली। टाइम्स ऑफ इंडिया में छपी खबर के मुताबिक, अशोक पेपर मिल पुलिस स्टेशन के अंतर्गत पटौर गांव में एक 14 वर्षीय लड़की के साथ कथित तौर पर आम चोरी करने के लिए बलात्कार किया गया और उसकी हत्या कर दी गई। खबर में कहीं भी यह नहीं लिखा कि यह लड़की साइकिल गर्ल ज्योति थी।

livehindustan.com की खबर के अनुसार, “पतोर ओपी क्षेत्र में बुधवार को संदिग्ध अवस्था में मृत पायी गयी 13 साल की किशोरी की मौत के मामले में परिजनों ने आम चुनने गई किशोरी की रेप कर हत्या करने की एफआईआर कराई है।” इस खबर में भी कहीं भी यह नहीं लिखा कि यह लड़की साइकिल गर्ल ज्योति थी।

आपको बता दें कि साइकिल गर्ल ज्योति के पिता मोहन पासवान हैं, जबकि मृतक लड़की के पिता अशोक पासवान हैं।

हमें एक ट्वीट में एक वीडियो भी मिला, जिसमें मृत लड़की के पिता अपनी बेटी की मौत के लिए न्याय मांग रहे हैं। वीडियो में मौजूद व्यक्ति और साइकिल गर्ल ज्योति के पिता के नाक-नक्श में भी काफी अंतर है, जिसे नीचे साफ़ देखा जा सकता है।

वीडियो में मौजूद व्यक्ति और साइकिल गर्ल ज्योति के पिता के नाक नक्श में भी काफी अंतर है जिसे नीचे साफ़ देखा जा सकता है।

इस विषय में ज़्यादा पुष्टि के लिए हमने दैनिक जागरण के दरभंगा के रिपोर्टर विभाष से बात की। विभाष ने हमें बताया कि दरभंगा के एसएसपी बाबू राम ने उनसे बात करते हुए कहा “सोशल मीडिया कुछ लोगों द्वारा दुष्प्रचारित साइकल गर्ल ज्योति की हत्या की खबर पूरी तरह से गलत है। वह पूरी तरह से स्वस्थ और सुरक्षित है। 5 दिन पहले इसी नाम की एक अन्य लड़की की हत्या पटोर में हुई थी जिसके सम्बन्ध में केस दर्ज कर एक अभियुक्त को गिरफ्तार किया गया है। शेष की गिरफ्तारी भी एक से दो दिन के अंदर हो जाएगी। लगातार छापेमारी की जा रही है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में बिजली के करंट को मृत्य का कारण बताया गया है। बलात्कार के आरोप की पुष्टि नही हुई है। स्वार्थी तत्वों द्वारा अफवाह फैलाकर सामाजिक सद्भभाव बिगाडने की कोशिश की जा रही है।
ऐसी अफवाहों से बचें, तथा दूसरों को भी जागरूक करें। झूठी खबरें प्रसारित कर सामाजिक सद्भभाव बिगड़ने तथा एक नाबालिग बच्ची के नाम का दुरुपयोग करने के सम्बंध में बच्ची के पिता के द्वारा कमतौल थाना में FIR दर्ज करा दी गई है। जल्द ही इस सम्बंध में कानूनी करवाई की जाएगी। साथ ही मेनस्ट्रीम मीडिया में छपी खबरों को देखा जा सकता है। भ्रामक सोशल मीडिया में छपी खबर पर सत्यापन के पश्चात ही विश्वास करें।”

इस पोस्ट को फेसबुक पर Banglar Indrajeet K Jaiswar नाम के एक फेसबुक यूजर ने शेयर किया था। इस यूजर के फेसबुक पर 5,000 फ्रेंड्स हैं। यूजर उत्तर प्रदेश का रहने वाला है।

निष्कर्ष: विश्वास न्यूज़ की जांच में पता चला कि दरभंगा में 1 जुलाई को ज्योति नाम की एक लड़की की मौत तो हुई है मगर यह मृतक लड़की वो ज्योति नहीं है, जो साइकिल चला कर अपने घायल पिता को गुरुग्राम से दरभंगा लायी थी।

  • Claim Review : लाॅकडाउन में साईकिल से 1500 किलोमीटर चल कर अपने पिता को गांव लाने वाली ज्योति पासवान को हवस का शिकार बना कर एक सामंती अर्जुन मिश्रा ने हत्या कर दी है।
  • Claimed By : Indrajeet K Jaiswar
  • Fact Check : झूठ
झूठ
    फेक न्यूज की प्रकृति को बताने वाला सिंबल
  • सच
  • भ्रामक
  • झूठ

पूरा सच जानें... किसी सूचना या अफवाह पर संदेह हो तो हमें बताएं

सब को बताएं, सच जानना आपका अधिकार है। अगर आपको ऐसी किसी भी मैसेज या अफवाह पर संदेह है जिसका असर समाज, देश और आप पर हो सकता है तो हमें बताएं। आप हमें नीचे दिए गए किसी भी माध्यम के जरिए जानकारी भेज सकते हैं...

कोरोना वायरस से कैसे बचें ? PDF डाउनलोड करें और जानिए कोरोना वायरस से जुड़ी महत्वपूर्ण सूचना

टैग्स

संबंधित लेख

Post saved! You can read it later