X

Fact Check: पश्चिम बंगाल पुलिस में SI भर्ती की अधूरी सूची सांप्रदायिक दावे से की जा रही वायरल

विश्वास न्यूज की पड़ताल में पश्चिम बंगाल पुलिस में सब इंस्पेक्टर के पद पर एक खास वर्ग के लोगों की भर्तियों का दावा पूरी तरह से भ्रामक निकला। ये पूरी भर्ती लिस्ट का एक छोटा सा हिस्सा है। पूरी भर्ती की 10 अलग-अलग लिस्ट हैं, जिनमें राज्य में मौजूद आरक्षण नियमों के सभी समुदाय के लोग शामिल किए गए हैं।

  • By Vishvas News
  • Updated: June 23, 2021

विश्‍वास न्‍यूज (नई दिल्‍ली)। सोशल मीडिया पर पश्चिम बंगाल पुलिस में सब इंस्पेक्टर के पदों पर हुई भर्ती को लेकर एक दावा वायरल हो रहा है। इसमें यह दिखाने की कोशिश की जा रही है कि इस भर्ती में मुस्लिम समुदाय के लोगों की ही भर्ती की जा रही है। विश्वास न्यूज की पड़ताल में पश्चिम बंगाल की इस पुलिस भर्ती को लेकर किया जा रहा दावा भ्रामक निकला है। दरअसल भर्ती की अधूरी लिस्ट पेश कर लोगों को भ्रमित करने का प्रयास किया गया है।

क्या हो रहा है वायरल

फेसबुक यूजर सर्वोत्तम कुमार गौत्तम ने 20 जून 2021 को वायरल सूची पोस्ट करते हुए लिखा है, ‘West Bengal Police में Sub Inspector के पद पर भर्तियां हुईं हैं. ज़रा नए नए सब इंस्पेक्टरों के नामों पर नज़र डालिये. बधाई हो. 😇😇 आप आलू प्याज़ पेट्रोल पर रोते रहिये।’ यहां इस दावे को ज्यों का त्यों पेश किया गया है। इस पोस्ट के साथ एक लिस्ट लगाई गई जिसमें दिखाया गया कि ओबीसी ए वर्ग में हुई भर्ती में ज्यादातर कैंडिडेट एक खास धर्म से संबंध रखते हैं। लिस्ट पर ऊपर लिखा था वेस्ट बंगाल पुलिस रिक्रूटमेंट बोर्ड। इस पोस्ट के आर्काइव्ड वर्जन को यहां क्लिक कर देखा जा सकता है।

पड़ताल

विश्वास न्यूज ने यूजर की ओर से पोस्ट की गई भर्ती लिस्ट की पड़ताल शुरू की। इस पड़ताल में सबसे पहले हमने पोस्ट की गई लिस्ट और दावे को गूगल में ओपन सर्च किया। हमें इस लिस्ट को लेकर कुछ खबरें मिलीं। इसके बाद हमने पश्चिम बंगाल पुलिस की वेबसाइट http://wbpolice.gov.in/ पर जा कर रिक्रूटमेंट सेक्शन में भर्ती की लिस्ट देखी। यहां पाया गया कि वायरल की जा रही लिस्ट. भर्ती की पूरी लिस्ट का एक हिस्सा मात्र है। ये सिर्फ ओबीसी वर्ग में ग्रुप ए के तहत की गई भर्ती की लिस्ट है, जिसे वायरल तस्वीर में लिखा हुआ देखा भी जा सकता है। आधिकारिक साइट पर हमें अलग-अलग वर्ग की कुल 10 सूचियां मिलीं। इन्हीं 10 में से सिर्फ एक सूची को वायरल किया जा रहा है। इन 10 सूचियों में हर ग्रुप के लिए दो सूचियां हैं। एक सूची आर्म्ड ब्रांच (AB) की और दूसरी अनआर्म्ड ब्रांच (UB) की।

वायरल की जा रही सूची ओबीसी (ए) अनआर्म्ड ब्रांच की है, जिसमें 50 कैंडिडेट्स के नाम हैं। सोशल मीडिया पर इस लिस्ट का पहला पन्ना ही शेयर किया जा रहा है, जिसमें 37 नाम मौजूद हैं। यहां पर क्लिक कर पूरे 50 नामों की लिस्ट देखी जा सकती है। इसी तरह आप ओबीसी (बी), SC, ST और अनारक्षित कोटे की दोनों लिस्ट भी यहां क्लिक कर देख सकते हैं। ये बात सही है कि ओबीसी (ए) श्रेणी की, जो लिस्ट वायरल की जा रही है उसमें एक खास धर्म के नाम हैं, लेकिन आप अगर ओबीसी (बी), SC, ST और अनारक्षित कोटे की लिस्ट देखें, तो इसमें दूसरे धर्म के कैंडिटेट्स की संख्या सर्वाधिक है। इस तथ्य को सोशल मीडिया पर वायरल पोस्ट में जानबूझकर नजरअंदाज किया जा रहा है।

यहां तक की पड़ताल के बाद विश्वास न्यूज ने यह जानना चाहा कि वायरल की जा रही ओबीसी (ए) UB की लिस्ट में एक धर्म के लोगों के नाम क्यों हैं। इसकी जानकारी के लिए हमने इंटरनेट पर ओपन सर्च के माध्यम से यह जानकारी जुटाई कि आखिर पश्चिम बंगाल में ओबीसी (A) और ओबीसी (B) सूची में किन्हें शामिल किया जाता है। हमें पश्चिम बंगाल पिछड़ा आयोग की वेबसाइट पर इस बारे में जानकारी मिली। साइट पर दी गई जानकारी के मुताबिक इन दोनों आरक्षण समूहों में कुल 171 समूह शामिल हैं। ओबीसी (A) में 80 और ओबीसी (B) में 91 समूह। ओबीसी की कैटेगरी ए में अति पिछड़ा वर्ग शामिल है, जबकि बी में पिछड़ा वर्ग है। इन 171 समूहों में से 112 भारतीय मुस्लिम समुदाय से हैं। आधिकारिक लिस्ट के मुताबिक खासकर ओबीसी ए समूह में 80 समुदाय में 72 भारतीय मुस्लिम समुदाय से हैं। यही वजह है कि इस लिस्ट में एक समुदाय के लोगों की संख्या ज्यादा रहती है। पश्चिम बंगाल पिछड़ा आयोग की वेबसाइट पर मौजूद इस जानकारी को यहां क्लिक कर देखा जा सकता है।

अपनी पड़ताल को आगे बढ़ाते हुए इसे और पुख्ता करने के लिए हमने वायरल सूची को हमारे सहयोगी दैनिक जागरण के पश्चिम बंगाल स्टेट हेड जेके वाजपेयी संग साझा किया। उन्होंने साफ किया की वायरल की जा रही लिस्ट पूरी भर्ती लिस्ट का एक छोटा सा हिस्सा है और इसे गलत तरीके से पेश किया जा रहा है।

विश्वास न्यूज ने इस वायरल दावे को शेयर करने वाले फेसबुक यूजर सर्वोत्तम कुमार गौत्तम की प्रोफाइल को स्कैन किया। यूजर औरंगाबाद से हैं और एक राजनीति पार्टी से जुड़े जुए हैं।

निष्कर्ष: विश्वास न्यूज की पड़ताल में पश्चिम बंगाल पुलिस में सब इंस्पेक्टर के पद पर एक खास वर्ग के लोगों की भर्तियों का दावा पूरी तरह से भ्रामक निकला। ये पूरी भर्ती लिस्ट का एक छोटा सा हिस्सा है। पूरी भर्ती की 10 अलग-अलग लिस्ट हैं, जिनमें राज्य में मौजूद आरक्षण नियमों के सभी समुदाय के लोग शामिल किए गए हैं।

  • Claim Review : पश्चिम बंगाल में SI भर्ती में मुस्लिम समुदाय के लोगों की ही भर्ती की जा रही है।
  • Claimed By : फेसबुक यूजर सर्वोत्तम कुमार गौत्तम
  • Fact Check : भ्रामक
भ्रामक
फेक न्यूज की प्रकृति को बताने वाला सिंबल
  • सच
  • भ्रामक
  • झूठ

पूरा सच जानें... किसी सूचना या अफवाह पर संदेह हो तो हमें बताएं

सब को बताएं, सच जानना आपका अधिकार है। अगर आपको ऐसी किसी भी मैसेज या अफवाह पर संदेह है जिसका असर समाज, देश और आप पर हो सकता है तो हमें बताएं। आप हमें नीचे दिए गए किसी भी माध्यम के जरिए जानकारी भेज सकते हैं...

टैग्स

अपना सुझाव पोस्ट करें

और पढ़े

No more pages to load

संबंधित लेख

Next pageNext pageNext page

Post saved! You can read it later