X

Fact Check: दो साल पहले बुलढाणा महाराष्ट्र में एक दिन की एसपी बनी मुस्लिम छात्रा का वीडियो गलत दावे के साथ वायरल

अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर 4 मार्च 2020 को 14 साल की मुस्लिम छात्रा को एक दिन का एसपी बनाया गया था। एसपी डॉ. दिलीप पाटिल भुजबल की पहल पर सहरीश कंवल को यह मौका मिला था। उस वीडियो को अब गलत दावे के साथ वायरल किया जा रहा है।

  • By Vishvas News
  • Updated: February 24, 2022
Mahrashtra Buldhana SP

नई दिल्ली (विश्वास न्यूज)। कर्नाटक में चल रहे हिजाब विवाद के दौरान सोशल मीडिया पर 1.24 मिनट का एक वीडियो वायरल हो रहा है। इसमें हिजाब पहने एक मुस्लिम लड़की को पुलिस अधिकारी के साथ दिखाया गया है। पुलिस अधिकारी बाकी स्टाफ से उसका परिचय कराते हैं। बाद में लड़की पुलिस अधिकारी की कुर्सी पर बैठती है। दावा किया जा रहा है कि महाराष्ट्र के बुलढाणा जिले में मुस्लिम आईपीएस लड़की को डीएसपी की पोस्ट मिली है। महाराष्ट्र में हिजाब पहनकर वह ड्यूटी पर पहुंची।

विश्वास न्यूज ने अपनी पड़ताल में पाया कि वायरल वीडियो मार्च 2020 का है। दरअसल, 2020 को अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर छात्रा सहरीश कंवल को एक दिन के लिए एसपी बनाया गया था। वीडियो को गलत दावे के साथ वायरल किया जा रहा है।

क्या है वायरल पोस्ट में

फेसबुक यूजर Choudhary Zubair Ahmed (आर्काइव) ने 19 फरवरी 2022 को वीडियो पोस्ट करते हुए लिखा,
Muslim IPS girl on the post of Deputy Superintendent of Police at Buldana Dist. In Maharashtra in full Hijab. (महाराष्ट्र के बुलढाणा जिले में मुस्लिम आईपीएस लड़की डीएसपी के पद पर हिजाब पहनकर।)

हमें वॉट्सऐप पर भी यह वीडियो समान दावे के साथ मिला।

पड़ताल

दावे की पड़ताल के लिए हमने सबसे पहले कीवर्ड से न्यूज सर्च की। इसमें हमें 6 मार्च 2020 को Times of India यूट्यूब चैनल पर अपलोड किया गया वीडियो मिला। इसका टाइटल है, Women’s Day: 14-year-old girl becomes DSP ‘for a day’ in Maharashtra’s Buldhana। खबर के मुताबिक, अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर 14 साल की लड़की बुलढाणा जिले की एक दिन की एसपी बनी। मलकापुर तहसील की जिला परिषद उर्दू हाईस्कूल की 14 साल की छात्रा सहरीश कंवल एक दिन की एसपी बनीं। इसकी पहल बुलढाणा के कलेक्टर ने की थी। उनका मकसद लड़कियों को प्रशासनिक कामकाज का अनुभव देना था। वायरल वीडियो का हिस्सा इसमें मिल गया।

ट्विटर एडवांस सर्च की मदद से हमने Buldhanapolice के ट्विटर हैंडल से 1 मार्च 2020 से 7 मार्च 2020 तक के ट्वीट सर्च किया। इसमें हमें 4 मार्च 2020 को ट्वीट की गई कुछ फोटो मिलीं। इसमें लिखा है,
“ मलाही पोलीस अधिक्षक व्हायचयं.. ”
आजचा दिवस माझ्यासाठी अत्यंत महत्वाचा! – एक दिवसाच्या पोलीस अधिक्षीका सहरीश कवल, जिल्हा परिषद हायस्कुल, मलकापुर यांच्या अपेक्षा –पोलीस अधिक्षक, बुलडाणा मा.डॉ.दिलीप पाटील-भुजबळ यांचा जागतिक महिला दिनानिमित्त अभिनव उपक्रम
(‘मैं भी पुलिस अधीक्षक बनना चाहती हूं।’
आज का दिन मेरे लिए बहुत महत्वपूर्ण दिन है!- एक दिन की एसपी सहरीश कंवल, जिला परिषद उच्च विद्यालय, मलकापुर। अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर एसपी बुलढाणा डॉ. दिलीप पाटिल-भुजबल की नई पहल।)

इस बारे में हमने बुलढाणा पुलिस से संपर्क किया। एएसआई अनंत का कहना है कि आईपीएस महिला का हिजाब पहनकर डिएसपी बनाने का इस तरह का कोई मामला नहीं है। हां, करीब दो साल पहले एसपी दिलीप पाटिल भुजबल ने महिला दिवस के मौके पर बच्ची को एक दिन का एसपी बनाया था।

वीडियो को गलत दावे के साथ वायरल करने वाले फेसबुक यूजर Choudhary Zubair Ahmed की प्रोफाइल को हमने स्कैन किया। वह एक राजनीतिक दल से जुड़े हुए हैं।

सितंबर 2020 में भी यह वीडियो वायरल हुआ था। उस समय की विश्वास न्यूज की पूरी रिपोर्ट को यहां पढ़ा जा सकता है।

निष्कर्ष: अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर 4 मार्च 2020 को 14 साल की मुस्लिम छात्रा को एक दिन का एसपी बनाया गया था। एसपी डॉ. दिलीप पाटिल भुजबल की पहल पर सहरीश कंवल को यह मौका मिला था। उस वीडियो को अब गलत दावे के साथ वायरल किया जा रहा है।

  • Claim Review : महाराष्ट्र के बुलढाणा जिले में डीएसपी बनी मुस्लिम आईपीएस लड़की हिजाब पहनकर ड्यूटी पर पहुंची।
  • Claimed By : FB User- Choudhary Zubair Ahmed
  • Fact Check : झूठ
झूठ
फेक न्यूज की प्रकृति को बताने वाला सिंबल
  • सच
  • भ्रामक
  • झूठ

पूरा सच जानें... किसी सूचना या अफवाह पर संदेह हो तो हमें बताएं

सब को बताएं, सच जानना आपका अधिकार है। अगर आपको ऐसी किसी भी मैसेज या अफवाह पर संदेह है जिसका असर समाज, देश और आप पर हो सकता है तो हमें बताएं। आप हमें नीचे दिए गए किसी भी माध्यम के जरिए जानकारी भेज सकते हैं...

टैग्स

अपना सुझाव पोस्ट करें
और पढ़े

No more pages to load

संबंधित लेख

Next pageNext pageNext page

Post saved! You can read it later