Fact Check: यह फानी तूफ़ान की नहीं, बल्कि पुरानी तस्वीरें हैं

0


नई दिल्‍ली (विश्‍वास न्‍यूज)।  सोशल मीडिया पर आजकल कुछ तस्वीरें वायरल हो रही हैं जिसमें आरएसएस के कुछ स्वयंसेवकों को राहत और बचाव के काम करते देखा जा सकता है. पोस्ट में दावा किया जा रहा है कि यह तस्वीरें हाल में ओडिशा में आए साइक्लोन फानी की हैं. हमारी पड़ताल में हमने पाया कि हैं तो स्वयंसेवकों की ही मगर पुरानी हैं .

Claim

पोस्ट में क्लेम किया गया है “उड़ीसा में आतंक मचाते हुए RSS के हिन्दू आतंकवादी 😤😤ये उन #$@%^& पर लात है जो मेरे देशभक्तों को आतंकवादी बोलते हैं”.

Fact Check

अपनी पड़ताल को शुरू करने के लिए हमने सबसे पहले एक-एक करके इन सभी तस्वीरों के स्क्रीनशॉट लिए और उन सभी को गूगल रिवर्स इमेज पर सर्च किया. इस पोस्ट में इस्तेमाल की गई पहली तस्वीर को जब हमने सर्च किया तो पाया कि इस तस्वीर को 2018 में भी इस्तेमाल किया गया था. उस समय इस तस्वीर को केरल में आई बाढ़ के समय आरएसएस की राहत और बचाव कार्य का बता कर शेयर किया गया था.

इस पोस्ट में शेयर की गई दूसरी तस्वीर बैतूल मध्य प्रदेश की है. 2016 में बैतूल मध्य प्रदेश में एक ट्रेन पटरी से उतर गई थी, उस समय कुछ स्वयंसेवकों ने इस दुविधा के समय में फंसे ट्रेन के लोगों की मदद करने के लिए चाय और पानी का इंतजाम किया था. यह तस्वीरें उसी समय की है.

इस पोस्ट में इस्तेमाल की गई तीसरी तस्वीर को जब हमने सर्च किया तो हमने पाया कि 2018 में कोरा पर किए गए एक RSS संवाद में इस तस्वीर का इस्तेमाल किया गया था. जाहिर-सी बात है कि यह तस्वीर 2019 की तो नहीं है.

इस पोस्ट में इस्तेमाल की गई चौथी तस्वीर को जब हमने सर्च किया तो हमने पाया कि यह तस्वीर 2018 में ओडिशा में आए तितली तूफान के समय की है. इस पोस्ट में इस्तेमाल की गई बाकी तस्वीरें 2017 ओखी तूफान की हैं.

इस सिलसिले में ज़्यादा जानकारी के लिए हमने आरएसएस विश्व संवाद केंद्र के प्रमुख वागीश ईस्सर से भी बात की जिन्होंने हमें बताया, “आरएसएस किसी भी आपदा में लोगों की मदद करने के लिए तत्पर रहता है, ओडिशा के फानी साइक्लोन में भी बचाव में कई स्वयंसेवक लगे हैं.”

इस पोस्ट को अमित आसलवास नाम के एक यूजर ने डॉ संबित पात्रा फैन क्लब नाम के एक फेसबुक पेज पर शेयर किया था. इस पेज के लगभग 65000 मेंबर्स हैं.

निष्कर्ष: हमारी पड़ताल में हमने पाया कि वायरल हो रही तस्वीरें हाल में ओडिशा में आए फानी तूफान की नहीं हैं, बल्कि पुरानी हैं. वायरल हो रही तस्वीरें है तो स्वयंसेवकों की ही मगर पुरानी हैं . वायरल पोस्ट ने किया जा रहा दावा गलत है.

पूरा सच जानें…

सब को बताएं, सच जानना आपका अधिकार है। अगर आपको ऐसी किसी भी खबर पर संदेह है जिसका असर आप, समाज और देश पर हो सकता है तो हमें बताएं। हमें यहां जानकारी भेज सकते हैं। हमें contact@vishvasnews.com पर ईमेल कर सकते हैं। इसके साथ ही वॅाट्सऐप (नंबर – 9205270923) के माध्‍यम से भी सूचना दे सकते हैं।

Written BY Pallavi Mishra
  • Claim Review : हाल में उड़ीसा में आए साइक्लोन फानी में आर एस एस के स्वयंसेवकों की तस्वीरें राहत और बचाव का काम करते हुए
  • Claimed By : Fb user DR. SAMBIT PATRA FANS CLUB
  • Fact Check : False

टैग्स

संबंधित लेख