X

Fact Check : वाराणसी के घाट के नाम पर वायरल हुई फोटोशॉप्‍ड तस्‍वीर

नई दिल्‍ली (विश्‍वास न्‍यूज)। सोशल मीडिया में वाराणसी की एक तस्‍वीर तेजी से वायरल हो रही है। इसमें घाटों के ऊपर लॉलटेनों को देखा जा सकता है। विश्‍वास टीम ने जब इस तस्‍वीर की पड़ताल की तो हमें पता चला कि यह फेक फोटो है। इसे फोटोशॉप की मदद से तैयार किया गाय है। वाराणसी में होने वाली देव दिपावली और थाईलैंड के फेस्टिवल ऑफ लाइट की तस्‍वीरों को जोड़कर इसे तैयार किया गया है।

क्‍या है वायरल पोस्‍ट में

फेसबुक पेज The Saffron Chariot ने 26 अक्‍टूबर को एक फोटोशॉप्‍ड तस्‍वीर को अपलोड करते हुए लिखा कि ये वाराणसी के घाटों की फोटो है। इस पोस्‍ट को 7.7 हजार बार शेयर किया जा चुका है। इस पर 165 लोगों ने अपनी राय जाहिर की है।

पड़ताल

विश्‍वास न्‍यूज ने सबसे पहले वायरल तस्‍वीर को ध्‍यान से देखा। इसमें हमें तीन बातें साफतौर पर नजर आईं। तस्‍वीर के बाएं तरफ इमारत पर RANA MAHAL GHAT DWIVEDI HOTELS लिखा हुआ नजर आया। इसके अलावा मुख्‍य इमारत का वास्‍तुशास्‍त दिखा। तीसरी बात तस्‍वीर में यह महत्‍वपूर्ण नजर आई कि मुख्‍य इमारत के दाएं तरफ वाले मंदिर को नीली लाइट से सजाया गया था।

इसके बाद हमने गूगल मैप पर RANA MAHAL सर्च किया। हमें वाराणसी में यह घाट मिला। इस घाट पर हमें DWIVEDI HOTELS लिखा नजर आया। इसके अलावा इसके बगल में हम वह इमारत भी नजर आई, जो वायरल तस्‍वीर में दिख रही थी।

पड़ताल के अगले चरण में हम यूटयूब पर गए और वहां राणा महल घाट टाइप करके सर्च करना शुरू किया। हमें 23 नवंबर 2018 को यूटयूब पर अपलोड एक वीडियो मिला। इसमें हमें देव दिपावली का एक वीडियो मिला। इस वीडियो में हमें कुछ ऐसे ही फुटेज नजर आए, जैसा वायरल तस्‍वीर में दिखा।

इसके बाद हमने वायरल तस्‍वीर को गूगल रिवर्स इमेज में अपलोड करके सर्च किया। हमें एक लिंक tourradar.com का मिला। यहां मौजूद एक लेख में हमें वह तस्‍वीर मिली, जो वायरल तस्‍वीर के ऊपरी हिस्‍से में इस्‍तेमाल की गई थी। लेख में बताया गया कि थाईलैंड में फेस्टिवल ऑफ लाइट में हजारों लॉलटेन्‍स को आसमान में छोड़ा जाता है। तस्‍वीर उसी दौरान की है।

पड़ताल के दौरान हमें अपने घाट वॉक के लिए प्रसिद्ध डॉ. विजय नाथ मिश्रा से जब वायरल तस्‍वीर की सच्‍चाई जाननी चाही तो उन्‍होंने बताया कि यह फेक फोटो है।

अंत में हमने फेसबुक पेज The Saffron Chariot की सोशल स्‍कैनिंग की। हमें पता चला कि इस पेज को 22 हजार से ज्‍यादा लोग फॉलो करते हैं। पेज को 7 फरवरी 2019 को बनाया गया था।

निष्‍कर्ष : विश्‍वास न्‍यूज की पड़ताल में पता चला कि वाराणसी के घाटों के नाम पर वायरल तस्‍वीर फर्जी है। इसे फोटोशॉप की मदद से दो तस्‍वीरों को जोड़कर बनाया गया है।

जानिए सच्‍ची और झूठी सबरों का सच क्विज खेलिए और सीखिए स्‍टोरी फैक्‍ट चेक करने के तरीके क्विज खेले

पूरा सच जानें...

सब को बताएं, सच जानना आपका अधिकार है। अगर आपको ऐसी किसी भी खबर पर संदेह है जिसका असर आप, समाज और देश पर हो सकता है तो हमें बताएं। हमें यहां जानकारी भेज सकते हैं। हमें contact@vishvasnews.com पर ईमेल कर सकते हैं। इसके साथ ही वॅाट्सऐप (नंबर – 9205270923) के माध्‍यम से भी सूचना दे सकते हैं।

टैग्स

संबंधित लेख

Post saved! You can read it later