X

Fact Check : अमिताभ का अजमेर का पुराना वीडियो अब हाजी अली के नाम से वायरल

  • By Vishvas News
  • Updated: September 16, 2020

नई दिल्ली (विश्वास न्यूज)। कोरोना वायरस के प्रकोप के बीच, बॉलीवुड एक्टर अमिताभ बच्चन की एक तस्वीर सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है। फोटो के साथ दावा किया जा रहा है कि कोरोना वायरस से ठीक होने के बाद अमिताभ बच्चन हाजी अली दरगाह पर चादर चढाने गए थे। विश्वास न्यूज ने तस्वीर के साथ वायरल किये जा रहे दावे की पड़ताल की और हमने पाया कि अमिताभ बच्चन की तस्वीर 2011 के अजमेर शरीफ की है, जिसे अब फर्जी दावे के साथ वायरल किया जा रहा है।

वायरल पोस्ट में क्या है?

फेसबुक यूजर Rohit Jaiswal Sujit ने अमिताभ बच्चन की एक तस्वीर शेयर की। जिसमें वह सिर पर टोपी लगाये हुए भीड़ के बीच में नज़र आ रहे हैं और साथ में मजार पर चढ़ाई जाने वाली चादर भी देखी जा सकती है। यूजर ने पोस्ट को शेयर करते हुए लिखा, ‘‘जब इस को कोरोना हुआ था तब इसके जल्द ही स्वस्थ होने के लिए मंदिरों मे आरती..यग..सुंदर काण्ड का अखंड पाठ हो रहा था…और ये ठीक होने के बाद चादर चढ़ाने हाजी अली की दरगाह गया…So sad…Boycott कौन बनेगा करोड़पति”.

पोस्ट का आर्काइव वर्जन यहां देख सकते हैं।

पड़ताल

पोस्ट की पड़ताल के लिए हमने सबसे पहले Google reverse Image पर इमेज पर सर्च की। सर्च में हमारे हाथ इंडिया टुडे की एक खबर लगी। 4 जुलाई, 2011 को प्रकाशित खबर के अनुसार, अमिताभ बच्चन अजमेर शरीफ दरगाह पर हाजिरी देने पहुंचे थे। फोटो गैलरी में हमने अमिताभ बच्चन की वही तस्वीर देखी, जो पिछले दिनों हाजी अली दरगाह की बताकर झूठे दावे के साथ वायरल की जा रही हैं।

अब हमने कीवर्ड डाल कर खबर को सर्च किया और हमारे हाथ बॉलीवुड समाचार को कवर करने वाले ‘ज़ूम’ के यूट्यूब चैनल पर 6 जुलाई 2011 को अपलोड किया गया एक वीडियो मिला। यह उसी दौरे का वीडियो है, जिसकी तस्वीर अब फर्जी दावे के साथ वायरल हो रही है।

अब यह साफ़ था कि वायरल तस्वीर पुरानी और अजमेर शरीफ के मजार की है। हालांकि, यह जानना बाकी था कि क्या अमिताभ बच्चन कोरोना वायरस से उबरने के बाद हाजी अली मजार पर गए थे। विश्वास न्यूज़ ने गूगल ओपन सर्च टूल की मदद से कुछ कीवर्ड्स के साथ इससे जुडी खबर को तलाश करने की कोशिश की, लेकिन हमें कोई भी ऐसी खबर नहीं मिली, जिसमें बताया गया हो कि अमिताभ बच्चन कोरोना वायरस से ठीक होने के बाद हाजी अली मजार शरीफ गए थे।

आगे की पुष्टि के लिए हमने अपने सहयोगी दैनिक जागरण में बॉलीवुड को कवर करने वाली मुख्य संवाददाता स्मिता श्रीवास्तव से संपर्क किया और उनके साथ वायरल पोस्ट शेयर किया। उन्होंने हमें बताया, “अमिताभ बच्चन की इस तस्वीर का पिछले दिन से कोई लेना-देना नहीं है – वायरल हो रहा दावा पूरी तरह से फर्जी है।”

अब बारी थी पोस्ट को फर्जी दावे के साथ शेयर करने वाले फेसबुक यूजर Rohit Jaiswal Sujit की सोशल स्कैनिंग करनी की। हमने पाया कि यूजर दिल्ली का रहने वाला है।

निष्कर्ष: विश्वास न्यूज़ ने अपनी पड़ताल में पाया कि अमिताभ बच्चन की जिस तस्वीर को उनके कोरोना वायरस से ठीक होने के बाद की और हाजी अली दरगाह की बता कर शेयर किया जा रहा है, वह 2011 की अजमेर शरीफ दरगाह की है। इस तस्वीर का पिछले दिनों से कोई लेना-देना नहीं है। वायरल किया जा रहा दावा फर्जी है।

  • Claim Review : जब इस को कोरोना हुआ था तब इसके जल्द ही स्वस्थ होने के लिए मंदिरों मे आरती..यग..सुंदर काण्ड का अखंड पाठ हो रहा था…और ये ठीक होने के बाद चादर चढ़ाने हाजी अली की दरगाह गया
  • Claimed By : Rohit Jaiswal Sujit
  • Fact Check : झूठ
झूठ
    फेक न्यूज की प्रकृति को बताने वाला सिंबल
  • सच
  • भ्रामक
  • झूठ

पूरा सच जानें... किसी सूचना या अफवाह पर संदेह हो तो हमें बताएं

सब को बताएं, सच जानना आपका अधिकार है। अगर आपको ऐसी किसी भी मैसेज या अफवाह पर संदेह है जिसका असर समाज, देश और आप पर हो सकता है तो हमें बताएं। आप हमें नीचे दिए गए किसी भी माध्यम के जरिए जानकारी भेज सकते हैं...

टैग्स

संबंधित लेख

Post saved! You can read it later