X

Fact Check: यह कोई असली पक्षी नहीं, एक डिजिटल आर्टवर्क है

विश्वास न्यूज़ ने अपनी पड़ताल में पाया कि यह दावा गलत है। तस्वीर में दिख रहे पक्षियों को डिजिटल एडिटिंग टूल्स का इस्तेमाल करके बनाया गया है।

  • By Vishvas News
  • Updated: September 2, 2021

नई दिल्ली (विश्वास न्यूज)। सोशल मीडिया पर आजकल एक तस्वीर वायरल हो रही है, जहाँ दो हरे रंग के तोते जैसे दिखने वाले पक्षियों को देखा जा सकता है। पोस्ट के साथ दावा किया जा रहा है कि यह असली मलेशियाई फ्रॉगमाउथ पक्षी हैं। विश्वास न्यूज़ ने अपनी पड़ताल में पाया कि यह दावा गलत है। तस्वीर में दिख रहे पक्षियों को डिजिटल एडिटिंग टूल्स का इस्तेमाल करके बनाया गया है।

क्या है वायरल पोस्ट में?

Animals TV नाम के सोशल मीडिया यूजर ने इस पोस्ट को शेयर करते हुए दावा किया “Malaysia large Frogmouth art 💚”

पड़ताल

इस पोस्ट की जांच करने के लिए विश्वास न्यूज़ ने इस तस्वीर को रिवर्स इमेज सर्च किया। हमें यह तस्वीर mymodernmet.com पर मिली। वेबसाइट पर मौजूद जानकारी के अनुसार, ऑस्ट्रेलियाई फोटोग्राफिक इलस्ट्रेटर जोश डाइकग्राफ प्राकृतिक चीज़ों जैसे- पत्तियों और फूलों की तस्वीरें खींचकर उन्हें एडिटिंग टूल्स की मदद से जानवरों और पक्षियों के ऊपर चिपकाके, नए-नए आर्ट वर्क बनाते हैं।

हमें यह तस्वीर designswan.com पर भी मिली। इस खबर के अनुसार भी इस तस्वीर को ऑस्ट्रेलियाई फोटोग्राफिक इलस्ट्रेटर जोश डाइकग्राफ ने एडिटिंग टूल्स की मदद से बनाया है। खबर के अनुसार, एक औसत पीस को पूरा होने में आमतौर पर लगभग 30 से 60 घंटे लगते हैं और फ़ोटोशॉप में लगभग 2000 से 3000 परतें होती हैं

यह तस्वीर हमें इसी डिस्क्रिप्शन के साथ designboom.com पर भी मिली।

हमने इस विषय में ऑस्ट्रेलियाई फोटोग्राफिक इलस्ट्रेटर जोश डाइकग्राफ से मेल के ज़रिये संपर्क साधा। जवाब में हमें बताया गया कि यह तस्वीर किसी असली पक्षी की नहीं, बल्कि एडिटिंग टूल्स की मदद से बनाया गया एक आर्ट वर्क है।

इस तस्वीर को गलत दावे के साथ Animals TV नाम के फेसबुक यूजर ने शेयर किया था। यूजर के 122,693 फ़ॉलोअर्स हैं।

निष्कर्ष: विश्वास न्यूज़ ने अपनी पड़ताल में पाया कि यह दावा गलत है। तस्वीर में दिख रहे पक्षियों को डिजिटल एडिटिंग टूल्स का इस्तेमाल करके बनाया गया है।

  • Claim Review : Malaysia large Frogmouth art
  • Claimed By : Animals TV
  • Fact Check : झूठ
झूठ
फेक न्यूज की प्रकृति को बताने वाला सिंबल
  • सच
  • भ्रामक
  • झूठ

पूरा सच जानें... किसी सूचना या अफवाह पर संदेह हो तो हमें बताएं

सब को बताएं, सच जानना आपका अधिकार है। अगर आपको ऐसी किसी भी मैसेज या अफवाह पर संदेह है जिसका असर समाज, देश और आप पर हो सकता है तो हमें बताएं। आप हमें नीचे दिए गए किसी भी माध्यम के जरिए जानकारी भेज सकते हैं...

टैग्स

अपना सुझाव पोस्ट करें
और पढ़े

No more pages to load

संबंधित लेख

Next pageNext pageNext page

Post saved! You can read it later