X

Fact Check: 2018 में फ्रांस में हुए एक कार्यक्रम के वीडियो को हॉलैंड में गणेश उत्सव का बता कर किया जा रहा है वायरल

विश्वास न्यूज़ ने अपनी पड़ताल में पाया कि यह वीडियो असल में फ्रांस में 2018 में हुए एक इवेंट का है, हॉलैंड का नहीं।

  • By Vishvas News
  • Updated: September 22, 2021

नई दिल्ली (विश्वास न्यूज): सोशल मीडिया पर वायरल हो रही एक पोस्ट में एक वीडियो देखा जा सकता है, जहाँ संतरों और नींबुओं से गणेश भगवान की प्रतिमा बनायी गयी है। पोस्ट के साथ दावा किया जा रहा है कि यह हॉलैंड में हुए गणेश उत्सव का वीडियो है। विश्वास न्यूज़ ने अपनी पड़ताल में पाया कि यह वीडियो असल में फ्रांस में 2018 में हुए एक इवेंट का है, हॉलैंड का नहीं।

क्या है वायरल पोस्ट में?

फेसबुक पर साझा की गई पोस्ट में लिखा है: “Holland is said to be the capital of orange in the world. The locals use the best part of their harvest to celebrate the festival of Vinayaka Chaturthi. Please see the unique ceremony they perform.” ट्रांसलेशन: हॉलैंड को दुनिया में संतरे की राजधानी कहा जाता है। विनायक चतुर्थी के त्योहार को मनाने के लिए स्थानीय लोग अपनी फसल के सबसे अच्छे हिस्से का उपयोग करते हैं। कृपया उनके द्वारा किए जाने वाले अनोखे समारोह को देखें।

तेलुगु चैनल, साक्षी टीवी ने भी 4 सितंबर, 2021 को अपने YouTube हैंडल पर इस झूठे दावे के साथ वीडियो पोस्ट किया कि यह हॉलैंड में गणेश चतुर्थी समारोह का वीडियो है। वीडियो नीचे देखा जा सकता है।

पोस्ट का आर्काइव्ड वर्जन यहां देखा जा सकता है।

पड़ताल

विश्वास न्यूज ने वायरल पोस्ट में किये गए दावे की पुष्टि करने के मलिए सबसे पहले इस वीडियो के स्क्रीनशॉट्स को गूगल रिवर्स इमेज पर सर्च किया। हमें संतरों से बने गणेश भगवान की यह तस्वीर France Magazine के वेरिफाइड हैंडल से 2018 में किये गए एक ट्वीट में मिली। तस्वीर के साथ लिखा था “A Hindu god made from oranges and lemons… only at the #FeteduCitron in Menton! See what other sculptures they have made > http://bit.ly/FeteduCitron #travel”

कीवर्ड्स के साथ ढूंढ़ने पर हमें पता चला कि मेंटन फ्रांस में एक जगह है।

हमें इस इवेंट की कुछ तस्वीरें www.efe.com/ की एक खबर में भी मिलीं। खबर के अनुसार, “अनुवादित: संतरों और नींबुओं से तैयार की गई विशाल मूर्तियों को अंतिम रूप दिया जा रहा है, क्योंकि शुक्रवार को दक्षिणी फ्रेंच रिवेरा शहर मेंटन ने अपने “फेटे डू सिट्रोन” (“लेमन फेस्टिवल”) के 85 वें संस्करण के लिए तैयारी अंतिम दौर में है। बॉलीवुड-थीम वाले त्योहार के आगंतुकों का स्वागत कई परेडों द्वारा किया जाएगा, जिसमें झांकियों, नृत्य और संगीत के साथ-साथ भारत के लोकप्रिय रंगों के त्योहार के लिए “होली पार्टी” भी शामिल है।”

हमें यह तस्वीर dreamstime.com पर भी मिली, जिसके साथ डिस्क्रिप्शन लिखा था- “Menton Lemon Festival 2018, Bollywood Theme art made of lemons and oranges, famous celebration on Cote d`Azur, France, Europe, Fete du citro.”

हमने इस विषय में मेंटेन के मेयर जीन-क्लाउड गुइबल के ऑफिस से फ़ोन पर संपर्क साधा। उनके ऑफिस में हमारी बात इसाबेल एंड्रू से हुई, जो जीन-क्लाउड गुइबल की अस्सिटेंट हैं और एक ट्रेवल एक्सपर्ट भी है। उन्होंने हमें बताया, “मेंटेन अपने सरल व्यव्हार के लोगों और अपने नींबुओं के लिए पूरे फ्रांस में जाना जाता है। हर साल यहाँ फेटे डू सिट्रोन यानि लेमान फेस्टिवल का आयोजन होता है, जहाँ हर वर्ष अलग-अलग थीम रखी जाती है। 2018 में इस फेस्टिवल की थीम बॉलीवुड थी और यहाँ अलग-अलग चीज़ों का निर्माण नींबुओं और संतरों से किया गया था। यह वीडियो भी उसी दौरान हुई एक कलाकृति का है।”

इस पोस्ट को Ramgee नाम के यूजर ने फेसबुक पर शेयर किया है। हमने यूजर को स्कैन किया और पाया कि वे चेन्नई के रहने वाले हैं।

निष्कर्ष: विश्वास न्यूज़ ने अपनी पड़ताल में पाया कि यह वीडियो असल में फ्रांस में 2018 में हुए एक इवेंट का है, हॉलैंड का नहीं।

  • Claim Review : Holland is said to be the capital of orange in the world. The locals use the best part of their harvest to celebrate the festival of Vinayaka Chaturthi. Please see the unique ceremony they perform.
  • Claimed By : राजपुत कमलेश
  • Fact Check : झूठ
झूठ
फेक न्यूज की प्रकृति को बताने वाला सिंबल
  • सच
  • भ्रामक
  • झूठ

पूरा सच जानें... किसी सूचना या अफवाह पर संदेह हो तो हमें बताएं

सब को बताएं, सच जानना आपका अधिकार है। अगर आपको ऐसी किसी भी मैसेज या अफवाह पर संदेह है जिसका असर समाज, देश और आप पर हो सकता है तो हमें बताएं। आप हमें नीचे दिए गए किसी भी माध्यम के जरिए जानकारी भेज सकते हैं...

टैग्स

अपना सुझाव पोस्ट करें
और पढ़े

No more pages to load

संबंधित लेख

Next pageNext pageNext page

Post saved! You can read it later