X

Fact Check: इस वीडियो में मुस्लिम प्रभुत्व पर बात कर रहा व्यक्ति हिमालया कंपनी का मालिक नहीं है

  • By Vishvas News
  • Updated: October 1, 2020

नई दिल्ली (विश्वास टीम)। सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है। वीडियो में एक व्यक्ति को मुस्लिम बच्चों को न्यायपालिका, प्रशासनिक सेवाओं और पुलिस जैसी नौकरियों में मुस्लिम प्रभुत्व के लिए उकसाते देखा जा सकता है। पोस्ट में दावा किया जा रहा है कि यह व्यक्ति हिमालया ड्रग कंपनी के संस्थापक हैं।

विश्वास न्यूज की पड़ताल में यह दावा गलत निकला। वीडियो में मुस्लिम प्रभुत्व की बात कर रहा व्यक्ति मोहम्मद मेनल नहीं है।

क्या है फेसबुक पोस्ट में?

फेसबुक यूजर Mohan Rao ने वायरल वीडियो को शेयर करते हुए लिखा है, ”We are all proud of Indian ‘Himalayan Drug Company’ but see the mentality of it’s owner Mohammed Manal 😗☹️🤨 and think twice before using the products. Think of the system, when these people enter all sectors,modi ji yogi Amit ji Nadda ji RSS alone can’t change the fate of the nation we all need to stand up and fight such jihadi mentality once forever….” जिसका हिंदी अनुवाद होता है “हम सभी भारतीय ‘हिमालयन ड्रग कंपनी’ पर गर्व करते हैं, लेकिन इसके मालिक मोहम्मद मेनल की मानसिकता देखो। इनके उत्पादों का उपयोग करने से पहले दो बार सोचिए। सिस्टम के बारे में सोचिए, जब ये लोग सभी क्षेत्रों में प्रवेश करेंगे तो क्या होगा। मोदी जी, योगी, अमित जी, नड्डा जी, आरएसएस अकेले राष्ट्र का भाग्य नहीं बदल सकते हैं, हम सभी को एक बार खड़े होकर ऐसी जिहादी मानसिकता से लड़ने की जरूरत है …।”

पोस्ट का आर्काइव्ड वर्जन यहां देखा जा सकता है।

पड़ताल

हमने सबसे पहले Invid टूल की मदद से इस वीडियो के स्क्रीनग्रैब्स निकाले। फिर इन स्क्रीनग्रैब्स को हमने गूगल रिवर्स इमेज सर्च किया। हमारे हाथ 7 सितंबर को पब्लिश्ड The Siasat Daily का एक लेख लगा, जिसमें वायरल वीडियो का एक स्क्रीनशॉट भी था। खबर के अनुसार, इस “वकील” ने मुसलमानों को बाबरी विध्वंस के शोक के बजाय न्यायपालिका, आईटी, सरकार, कानून सेक्टर्स में प्रतिनिधित्व सुनिश्चित करने के लिए कहा।”

हमें यह वीडियो Naqi Ahmed Nadwi Page नाम के फेसबुक पेज पर भी मिला। इस पेज के प्रोफाइल पिक्चर में भी उसी व्यक्ति का फोटो था, जिसे वायरल तस्वीर में देखा जा सकता है। इस फेसबुक पेज के 5,513 फ़ॉलोअर्स हैं।

हमें नकी अहमद नदवी का लिंक्डइन अकाउंट भी मिला। प्रोफाइल के अनुसार, नदवी सऊदी अरब में स्थित रेत-खनन कंपनी माडन में एक एडमिनिस्ट्रेटर हैं।

हमने नकी अहमद नदवी को फेसबुक मेसेंजर के ज़रिये संपर्क करने की कोशिश भी की है। उनका जवाब आते इस इस खबर को अपडेट किया जाएगा।

अब हमने इस पोस्ट के साथ किए जा रहे दावे के अनुसार ढूंढा कि मोहम्मद मेनल कौन हैं। कंपनी की साइट के अनुसार, मोहम्मद मेनल हिमालया ड्रग कंपनी के फाउंडर थे, जिन्होंने 1930 में देहरादून में इस कंपनी की स्थापना की थी। मोहम्मद मेनल को एम मेनल के नाम से भी जाना जाता था। वेबसाइट के अनुसार, मोहम्मद मेनल की मृत्यु 1986 में हो चुकी है।

वायरल पोस्ट में किए जा रहे दावे की पुष्टि के लिए हमने हिमालया के स्पोक्सपर्सन से बात की। उन्होंने हमें बताया, “ये वायरल पोस्ट फर्जी है। मोहम्मद मेनल ने 1930 में इस कंपनी की स्थापना की थी। उनकी मृत्यु 1986 में हो चुकी है। इस विषय में हमने 27 सितंबर को एक ट्वीट भी किया था।”

वायरल वीडियो शेयर करने वाले यूजर को फेसबुक यूजर Mohan Rao कोलकाता के रहने वाले हैं।

निष्कर्ष: विश्वास न्यूज की पड़ताल में यह दावा गलत निकला। वीडियो में मुस्लिम प्रभुत्व की बात कर रहा व्यक्ति हिमालया कंपनी के संस्थापक मोहम्मद मेनल नहीं हैं।

  • Claim Review : We are all proud of Indian 'Himalayan Drug Company' but see the mentality of it's owner Mohammed Manal
  • Claimed By : Mohan Rao
  • Fact Check : झूठ
झूठ
    फेक न्यूज की प्रकृति को बताने वाला सिंबल
  • सच
  • भ्रामक
  • झूठ

पूरा सच जानें... किसी सूचना या अफवाह पर संदेह हो तो हमें बताएं

सब को बताएं, सच जानना आपका अधिकार है। अगर आपको ऐसी किसी भी मैसेज या अफवाह पर संदेह है जिसका असर समाज, देश और आप पर हो सकता है तो हमें बताएं। आप हमें नीचे दिए गए किसी भी माध्यम के जरिए जानकारी भेज सकते हैं...

टैग्स

संबंधित लेख

Post saved! You can read it later