X

Fact Check: डिजिटल आर्टवर्क को असली पक्षी समझ फिर शेयर कर रहे हैं लोग

विश्वास न्यूज़ ने पाया कि यह दावा गलत है। तस्वीर में दिख रहे पक्षियों को डिजिटल एडिटिंग टूल्स के इस्तेमाल से बनाया गया है।

  • By Vishvas News
  • Updated: March 31, 2022

नई दिल्ली (विश्वास न्यूज)। सोशल मीडिया पर एक तस्वीर वायरल हो रही है, जिसमें दो हरे रंग के तोते जैसे दिखने वाले पक्षियों को देखा जा सकता है। पोस्ट में दावा किया जा रहा है कि यह असली लार्ज फ्रॉगमाउथ (बैट्राकोस्टोमस ऑरिटस) पक्षी हैं। विश्वास न्यूज़ ने अपनी पड़ताल में पाया कि यह दावा गलत है। तस्वीर में दिख रहे पक्षियों को डिजिटल टूल्स की मदद से बनाया गया है।

क्या है वायरल पोस्ट में?

Michael Rose नाम के फेसबुक यूजर (आर्काइव लिंक)ने इस पोस्ट को शेयर करते हुए दावा किया “Large frogmouth (Batrachostomus auritus) Selected by 👉 aslan_unsal_photographer. The large frogmouth, is a species of bird in the family Podargidae. It is found in Brunei, Indonesia, Malaysia, and Thailand, in subtropical or tropical moist lowland forest.”

पड़ताल

इस तस्वीर की जांच करने के लिए हमने इस तस्वीर को रिवर्स इमेज सर्च किया। हमें यह तस्वीर designswan.com पर मिली। इस खबर के अनुसार इस तस्वीर को ऑस्ट्रेलियाई फोटोग्राफिक इलस्ट्रेटर जोश डाइकग्राफ ने एडिटिंग टूल्स की मदद से बनाया था। खबर के अनुसार, एक औसत पीस को पूरा होने में आमतौर पर लगभग 30 से 60 घंटे लगते हैं और फ़ोटोशॉप में लगभग 2000 से 3000 परतें होती हैं।

हमें यह तस्वीर mymodernmet.com पर भी मिली। वेबसाइट पर मौजूद जानकारी के अनुसार, ऑस्ट्रेलियाई फोटोग्राफिक इलस्ट्रेटर जोश डाइकग्राफ प्राकृतिक चीज़ों की तस्वीरें खींचकर उन्हें एडिटिंग टूल्स की मदद से जानवरों और पक्षियों के ऊपर चिपका कर नए-नए आर्ट वर्क बनाते हैं।

विश्वास न्यूज़ ने इस विषय में ऑस्ट्रेलियाई फोटोग्राफिक इलस्ट्रेटर जोश डाइकग्राफ से संपर्क साधा। उन्होंने बताया “Yes that’s correct this is my work and they are most definitely not real birds. They are a photo composite made from photos of leaves and branches that I shot, I shared the story and process of how they were made on my Instagram profile. They are also not Malaysian Frogmouths; instead they are based on Australian Tawny Frogmouths. I don’t know how it started and I have seen this getting around quite a bit, and tried correcting it. But once they were circulated by bot accounts, there’s not much I can do.” जिसका हिंदी अनुवाद होता है, “हाँ यह सही है यह मेरा आर्टवर्क है और ये निश्चित रूप से असली पक्षी नहीं हैं। वे मेरे द्वारा शूट किए गए पत्तों और शाखाओं की तस्वीरों से बने एक फोटो कम्पोजिट हैं, मैंने अपने इंस्टाग्राम प्रोफाइल पर कहानी और प्रक्रिया को साझा किया है कि मैंने इन्हें कैसे बनाया। वे मलेशियाई फ्रॉगमाउथ भी नहीं हैं, बल्कि वे ऑस्ट्रेलियाई टैनी फ्रॉगमाउथ पर आधारित हैं। मुझे नहीं पता कि यह कैसे शुरू हुआ और मैंने इसे काफी इधर-उधर होते देखा है और इसे ठीक करने की कोशिश की है। हालांकि, एक बार जब वे बॉट खातों द्वारा प्रसारित हो गए, तो मैं बहुत कुछ नहीं कर सकता।”

इस तस्वीर को गलत दावे के साथ Michael Rose नाम के फेसबुक यूजर ने शेयर किया था। यूजर ने अपनी पर्सनल जानकारी को हाइड किया हुआ है।

हमने ऐसे ही एक पोस्ट पर पहले भी फैक्ट चैक किया था। उस फैक्ट चैक को पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें।

निष्कर्ष: विश्वास न्यूज़ ने पाया कि यह दावा गलत है। तस्वीर में दिख रहे पक्षियों को डिजिटल एडिटिंग टूल्स के इस्तेमाल से बनाया गया है।

  • Claim Review : Large frogmouth (Batrachostomus auritus) Selected by aslan unsal photographer The large frogmouth, is a species of bird in the family Podargidae. It is found in Brunei, Indonesia, Malaysia, and Thailand, in subtropical or tropical moist lowland forest.
  • Claimed By : Michael Rose
  • Fact Check : झूठ
झूठ
फेक न्यूज की प्रकृति को बताने वाला सिंबल
  • सच
  • भ्रामक
  • झूठ

पूरा सच जानें... किसी सूचना या अफवाह पर संदेह हो तो हमें बताएं

सब को बताएं, सच जानना आपका अधिकार है। अगर आपको ऐसी किसी भी मैसेज या अफवाह पर संदेह है जिसका असर समाज, देश और आप पर हो सकता है तो हमें बताएं। आप हमें नीचे दिए गए किसी भी माध्यम के जरिए जानकारी भेज सकते हैं...

टैग्स

अपना सुझाव पोस्ट करें
और पढ़े

No more pages to load

संबंधित लेख

Next pageNext pageNext page

Post saved! You can read it later