X

Fact Check : ब्‍लैक ड्रेस में दिख रहीं युवती नहीं है जावेद अख्‍तर की पोती, टीवी एक्‍ट्रेस उर्फी हैं

विश्‍वास न्‍यूज की पड़ताल में वायरल पोस्‍ट फर्जी साबित हुई। जिस युवती को जावेद अख्‍तर की पोती बताकर वायरल किया गया है, वह दरअसल एक टीवी एक्‍ट्रेस हैं। इनका नाम उर्फी जावेद है। इनका जावेद अख्‍तर से कोई रिश्‍ता नहीं है।

  • By Vishvas News
  • Updated: December 1, 2021

नई दिल्‍ली (विश्‍वास न्‍यूज)। सोशल मीडिया के विभिन्‍न प्‍लेटफॉर्म पर एक बार फिर से बॉलीवुड के दिग्‍गज गीतकार और पटकथा लेखक जावेद अख्‍तर की पोती के नाम पर एक युवती की तस्‍वीर वायरल हो रही है। इस तस्‍वीर में ब्‍लैक कपड़े पहने एक युवती खड़ी हुई है। सोशल मीडिया यूजर्स इस युवती को जावेद अख्‍तर की पोती बताते हुए इसके कपड़े पर निशाना साध रहे हैं। विश्‍वास न्‍यूज ने वायरल पोस्‍ट की जांच की। पड़ताल में पता चला कि तस्‍वीर जावेद अख्‍तर की पोती की नहीं, बल्कि टीवी कलाकार उर्फी जावेद की है, जो अक्‍सर अपने पहनावे के कारण चर्चा में बनी रहती हैं।

क्‍या हो रहा है वायरल

फेसबुक यूजर ओमवीर हिन्दुस्तानी ने एक ब्‍लैक ड्रेस पहने एक युवती की तस्‍वीर को अपलोड करते हुए लिखा : ‘आदरणीय मौलानाओ का भी फर्ज बनता है जावेद अख्तर की पोती के खिलाफ फतवा जारी करने का। बिनी बुर्के के ऐसे फोटो खिचवाने की हिम्मत कैसे हो गई।’

फेसबुक पोस्‍ट में इस युवती को जावेद अख्‍तर की पोती बताया गया है। पोस्‍ट के कंटेंट को यहां ज्‍यों का त्‍यों लिखा गया है। इसके आकाईव्‍ड वर्जन को यहां देखें।

पड़ताल

विश्‍वास न्‍यूज ने सबसे पहले यह जानना चाहा कि वायरल तस्‍वीर में दिख रही युवती कौन है। गूगल रिवर्स इमेज और यांडेक्‍स सर्च के जरिए हमें पता चला कि जिस युवती को जावेद अख्‍तर की पोती बताकर कर वायरल किया जा रहा है, वे टीवी कलाकार उर्फी जावेद हैं। हमें काली ड्रेस में उनकी तस्‍वीरें और वीडियो मिले। उर्फी के इंस्‍टाग्राम पर 15 नवंबर को ब्‍लैक ड्रेस वाली तस्‍वीरें अपलोड की गई थीं। इसे यहां देख सकते हैं।

इसी तरह 14 नवंबर को एक यूट्यूब चैनल पर भी एक वीडियो मिला। यह उसी दिन का वीडियो था, जब उर्फी ब्‍लैक ड्रेस पहनकर दिखीं थीं। इसे यहां देखा जा सकता है।

अब हमें यह जानना था कि क्‍या वाकई में टीवी एक्‍ट्रेस उर्फी जावेद और जावेद अख्‍तर के बीच कोई रिश्‍ता है? क्‍या वाकई में उर्फी जावेद अख्‍तर की पोती हैं? यह जानने के लिए विश्‍वास न्‍यूज ने गूगल सर्च का सहारा लिया। सर्च के दौरान हमें पता चला कि कई बार पहले भी उर्फी जावेद को जावेद अख्‍तर की पोती बताकर ट्रोल किया जा चुका है। जागरण डॉट कॉम पर 8 सितंबर 2021 को पब्लिश एक खबर में बताया गया कि ट्रोलिंग के बीच अब शबाना आज़मी ने ‘जावेद अख्तर की पोती’ वाली खबरों पर चुप्पी तोड़ दी है और ये साफ कर दिया है कि उर्फी का जावेद अख्तर से कोई लेना-देना नहीं है। एक न्यूज़ आर्टिकल को रीट्वीट करते हुए शबाना आज़मी ने अपने ट्विटर अकाउंट पर लिखा, ‘उर्फी जावेद हमारे साथ किसी भी तरह से संबंधित नहीं हैं’। पूरी खबर यहां पढ़ें।

पड़ताल के दौरान हमें शबाना आजमी का एक ट्वीट मिला। 7 सितंबर 2021 को एक न्‍यूज आर्टिकल को शेयर करते हुए आजमी ने लिखा : ‘urfi javed is not related to us in any way.’ ट्वीट नीचे देखें।

विश्‍वास न्‍यूज ने जांच को आगे बढ़ाते हुए सीधे उर्फी जावेद से संपर्क किया और उनसे सच जानना चाहा। उन्‍होंने विश्‍वास न्‍यूज से बातचीत में स्‍पष्‍ट किया कि उनका जावेद अख्‍तर से किसी प्रकार का कोई रिश्‍ता नहीं है। वे जावेद अख्‍तर की पोती नहीं हैं।

विश्‍वास न्‍यूज ने एक बार पहले भी ऐसी ही पड़ताल की थी। इसे आप यहां क्लिक करके पढ़ सकते हैं।

पड़ताल के अंत में विश्‍वास न्‍यूज ने फर्जी पोस्‍ट करने वाले यूजर की जांच की। हमें पता चला कि फेसबुक यूजर ओमवीर हिन्दुस्तानी पानीपत का रहने वाला है। इसके अकाउंट पर हमें वायरल कंटेंट काफी मिला।

निष्कर्ष: विश्‍वास न्‍यूज की पड़ताल में वायरल पोस्‍ट फर्जी साबित हुई। जिस युवती को जावेद अख्‍तर की पोती बताकर वायरल किया गया है, वह दरअसल एक टीवी एक्‍ट्रेस हैं। इनका नाम उर्फी जावेद है। इनका जावेद अख्‍तर से कोई रिश्‍ता नहीं है।

  • Claim Review : जावेद अख्‍तर की पोती
  • Claimed By : फेसबुक यूजर ओमवीर हिन्दुस्तानी
  • Fact Check : झूठ
झूठ
फेक न्यूज की प्रकृति को बताने वाला सिंबल
  • सच
  • भ्रामक
  • झूठ

पूरा सच जानें... किसी सूचना या अफवाह पर संदेह हो तो हमें बताएं

सब को बताएं, सच जानना आपका अधिकार है। अगर आपको ऐसी किसी भी मैसेज या अफवाह पर संदेह है जिसका असर समाज, देश और आप पर हो सकता है तो हमें बताएं। आप हमें नीचे दिए गए किसी भी माध्यम के जरिए जानकारी भेज सकते हैं...

टैग्स

अपना सुझाव पोस्ट करें
और पढ़े

No more pages to load

संबंधित लेख

Next pageNext pageNext page

Post saved! You can read it later