X

Fact Check: रूसी कलाकार निकोलस रोरिक के साथ देश के पूर्व प्रधानमंत्री नेहरू और इंदिरा गांधी की पुरानी तस्वीर फर्जी दावे से वायरल

देश की पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के पति का नाम फिरोज गांधी था और उनके पिता का नाम जहांगीर फरदून था और ये पारसी थे। वायरल तस्वीर में जिस व्यक्ति को फिरोज खान बताया जा रहा है, वह भारतीय विदेश सेवा के दिवंगत अधिकारी यूनुस खान की तस्वीर है, जिनकी मृत्यु हो चुकी है और जिस व्यक्ति को यूनुस खान बताया जा रहा है, वह रूसी कलाकार निकोलस रोरिक हैं।

  • By Vishvas News
  • Updated: December 15, 2021

नई दिल्ली (विश्वास न्यूज)। सोशल मीडिया पर भारत के पूर्व प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू और इंदिरा गांधी की एक तस्वीर वायरल हो रही है, जिसमें उन्हें दो अन्य व्यक्तियों के साथ देखा जा सकता है। दावा किया जा रहा है कि इस तस्वीर में यूनुस खान अपने बेटे फिरोज खान के साथ दिखाई दे रहे हैं, जिनसे इंदिरा गांधी का विवाह हुआ था।

विश्वास न्यूज ने अपनी जांच में इस दावे को मनगढ़ंत और फर्जी पाया, जिसे बदनीयती के साथ दुष्प्रचार की मंशा से वायरल किया जा रहा है। तस्वीर में जिस व्यक्ति को यूनुस खान बताया जा रहा है, वह रूसी कलाकार निकोलस रोरिक हैं और उनके साथ नजर आ रहे व्यक्ति मोहम्मद यूनुस (यूनुस खान) हैं, जिसे फिरोज खान बताकर गलत दावे के साथ वायरल किया जा रहा है। यूनुस खान भारतीय विदेश मंत्रालय में काम करने वाले नौकरशाह थे, जिनकी मृत्यु 2017 में हो चुकी है। वहीं, इंदिरा गांधी के पति का नाम फिरोज गांधी था, जो पारसी थे और उनके पिता जहांगीर फरदून थे।

क्या है वायरल पोस्ट में?

फेसबुक यूजर ‘Devendra Mishra’ ने वायरल तस्वीर को अपनी प्रोफाइल से शेयर किया है, जिस पर लिखा हुआ है, ”बहुत मुश्किल से यो फोटो मिला है। जवाहर लाल नेहरू, इंद्रा गांधी, इंद्रा गांधी के ससुर युनुस खान और इंद्रा गांधी के पति फिरोज खान।”

सोशल मीडिया पर कई अन्य यूजर्स ने इस तस्वीर को समान और मिलते-जुलते दावे के साथ शेयर किया है।

पड़ताल

गूगल रिवर्स इमेज करने पर हमें यह तस्वीर alamy.com की वेबसाइट पर मिली। दी गई जानकारी के मुताबिक, इस तस्वीर में जवाहर लाल नेहरू (सबसे बाईं तरफ) और इंदिरा गांधी (बाएं से दूसरा) के बगल में खड़े व्यक्ति रूसी आर्टिस्ट निकोलस रोरिक (बाएं से तीसरा) हैं और उनकी दाईं तरफ नजर आ रहे व्यक्ति मोहम्मद यूनुस (यूनुस खान) हैं।

जवाहर लाल नेहरू, इंदिरा गांधी, निकोलस रोरिक और युनूस खान (बाएं से दाएं)-Image Credit-alamy.com

livehistoryindia.com पर दी गई जानकारी के मुताबिक, निकोलस 1923 में लंदन से मुंबई (तत्कालीन बॉम्बे) आए और फिर दार्जिलिंग गए। 1928 में वह हिमाचल प्रदेश के कुल्लु गए, जहां उन्होंने एक कॉटेज खरीदा और रहने लगे। यही पर देश के कई विद्वानों, कलाकारों और प्रमुख हस्तियों ने उनसे मुलाकात की, जिसमें जवाहर लाल नेहरू और इंदिरा गांधी भी शामिल थे।

जवाहर लाल नेहरू, इंदिरा गांधी, निकोलस रोरिक और मोहम्मद यूनुस खान (बाएं से) Source-Wikipedia

जवाहर लाल नेहरू और इंदिरा गांधी के साथ उनकी मुलाकात की यह तस्वीर 1944 की है। वरिष्ठ पत्रकार भी रशीद किदवई इसकी पुष्टि करते हैं। इससे पहले विश्वास न्यूज के साथ बातचीत में उन्होंने बताया था, ‘रूसी कलाकार निकोलस के साथ नेहरू, इंदिरा गांधी और यूनुस खान की यह तस्वीर 1944 के आस-पास की है।’

वायरल पोस्ट में तस्वीर में सबसे दाईं तरफ नजर आ रहे व्यक्ति के इंदिरा गांधी के ससुर यूनुस खान होने का दावा किया जा रहा है, जो गलत है। तस्वीर में जिनके यूनुस खान होने का दावा किया जा रहा है, वह यूनुस खान ही है, लेकिन वह इंदिरा गांधी के ससुर नहीं थे। ‘द ट्रिब्यून’ में जून 2017 में छपी रिपोर्ट में यूनुस खान (मोहम्मद यूनुस) की मृत्यु का जिक्र है। यूनुस भारतीय विदेश सेवा के नौकरशाह थे, जो तुर्की, इंडोनेशिया, ईरान और स्पेन में भारत के राजदूत रहे थे।

‘टाइम्स ऑफ इंडिया’ की एक रिपोर्ट के मुताबिक, ‘यूनुस जवाहर लाल नेहरू और इंदिरा गांधी के करीबी सहयोगी थे और इस वजह से वह उनके पारिवारिक दोस्त भी रहे।’ यूनुस के बेटे आदिल शहरयार थे, जो इंदिरा गांधी के बेटे और भारत के पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी के दोस्त भी थे। मोहम्मद यूनुस की मृत्यु 2001 में दिल्ली के अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान में हुई।

संस्कृति मंत्रालय की वेबसाइट पर दी गई जानकारी के मुताबिक, इंदिरा गांधी की शादी फिरोज गांधी से हुई, जिनकी धार्मिक पहचान को लेकर अक्सर सोशल मीडिया पर प्रोपेगेंडा मैसेज फैलाया जाता रहा है।

रशीद किदवई ने बताया, ‘वास्तव में फिरोज गांधी पारसी थे, न कि मुस्लिम। जो तस्वीर वायरल हो रही है वह 1944 की है, जबकि इंदिरा गांधी की शादी 1942 में फिरोज गांधी से हो गई थी। फिरोज के पिता का नाम जहांगीर फरदून था।’

”Selected Works of Jawaharlal Nehru” में प्रकाशित नेहरू की एक चिट्ठी से भी इसकी पुष्टि होती है। इंदिरा गांधी और फिरोज गांधी की शादी के मामले में नेहरू की यह कोशिश थी कि शादी के बाद उनकी बेटी हिंदू रहे और दूल्हा पारसी। 16 मार्च 1942 को ‘लक्ष्मी धर’ को लिखी चिट्ठी में नेहरू अपनी बेटी इंदिरा गांधी की शादी के दौरान हो रही इन्हीं जटिलताओं का जिक्र करते हैं।

‘फिरोज गांधी: ए पॉलिटिकल बायोग्राफी’ में दी गई जानकारी के मुताबिक, ‘फिरोज गांधी का जन्म 12 सितंबर 1912 को पारसी परिवार में हुआ था और उनके पिता का नाम जहांगीर फरदून और माता का नाम रतिमाई था।’

हमारी अब तक की पड़ताल से यह स्पष्ट है कि इंदिरा गांधी के ससुर का नाम जहांगीर फरदून था, न कि यूनुस खान, जैसा कि वायरल तस्वीर में दावा किया जा रहा है। वायरल तस्वीर में जिस व्यक्ति को यूनुस खान बताया जा रहा है, वह वास्तव में रूसी कलाकार निकोलस रोरिक हैं।

इस तस्वीर को लेकर हमने अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के मुख्य राष्ट्रीय मीडिया को-ऑर्डिनेटर संजीव सिंह से संपर्क किया। उन्होंने कहा, ‘वायरल तस्वीर को लेकर किया जा रहा फेक और दुष्प्रचार है।’ यह तस्वीर पहले भी समान दावे के साथ सोशल मीडिया पर वायरल हुई थी, जिसकी पड़ताल विश्वास न्यूज ने की थी।

यह वायरल तस्वीर उन कई तस्वीरों में से एक है, जिसकी मदद से नेहरू परिवार के खिलाफ सोशल मीडिया पर दुष्प्रचार किया जाता रहा है। इससे पहले नेहरू परिवार की एक मनगढ़ंत वंशावली वायरल हुई थी, जिसकी फैक्ट चेक रिपोर्ट को यहां देखा जा सकता है।

वायरल तस्वीर को गलत दावे के साथ शेयर करने वाले यूजर की प्रोफाइल को फेसबुक पर करीब 20 हजार से अधिक लोग फॉलो करते हैं।

निष्कर्ष: देश की पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के पति का नाम फिरोज गांधी था और उनके पिता का नाम जहांगीर फरदून था और ये पारसी थे। वायरल तस्वीर में जिस व्यक्ति को फिरोज खान बताया जा रहा है, वह भारतीय विदेश सेवा के दिवंगत अधिकारी यूनुस खान की तस्वीर है, जिनकी मृत्यु हो चुकी है और जिस व्यक्ति को यूनुस खान बताया जा रहा है, वह रूसी कलाकार निकोलस रोरिक हैं।

  • Claim Review : जवाहर लाल नेहरू और इंदिरा गांधी के साथ उनके पति फिरोज खन और ससुर यूनुस खान की फोटो
  • Claimed By : FB User-Devendra Mishra
  • Fact Check : झूठ
झूठ
फेक न्यूज की प्रकृति को बताने वाला सिंबल
  • सच
  • भ्रामक
  • झूठ

पूरा सच जानें... किसी सूचना या अफवाह पर संदेह हो तो हमें बताएं

सब को बताएं, सच जानना आपका अधिकार है। अगर आपको ऐसी किसी भी मैसेज या अफवाह पर संदेह है जिसका असर समाज, देश और आप पर हो सकता है तो हमें बताएं। आप हमें नीचे दिए गए किसी भी माध्यम के जरिए जानकारी भेज सकते हैं...

अपना सुझाव पोस्ट करें
और पढ़े

No more pages to load

संबंधित लेख

Next pageNext pageNext page

Post saved! You can read it later